महबूबा ने कश्मीर में परिसीमन को लेकर केंद्र की मंशा पर उठाया सवाल
महबूबा ने कश्मीर में परिसीमन को लेकर केंद्र की मंशा पर उठाया सवालRaj Express

महबूबा ने कश्मीर में परिसीमन को लेकर केंद्र की मंशा पर उठाया सवाल

महबूबा मुफ्ती ने प्रदेश में परिसीमन की रिपोर्ट के बीच रविवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इसके लिए जिस तरह की जल्दबाजी की जा रही है, उससे सरकार की मंशा पर गंभीर संदेह उत्पन्न हुआ है।

राज एक्सप्रेस। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री एवं पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने प्रदेश में परिसीमन की रिपोर्ट के बीच रविवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इसके लिए जिस तरह की जल्दबाजी की जा रही है, उससे सरकार की मंशा पर गंभीर संदेह उत्पन्न हुआ है।

सुश्री मुफ्ती ने आरोप लगाया कि इसके पीछे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की लोगों को क्षेत्र, धर्म तथा समुदाय के आधार पर विभाजित करने की बड़ी योजना है। वह परिसीमन आयोग की अध्यक्ष रंजना प्रकाश देसाई के जल्द ही प्रदेश के दौरे पर आने की खबरों पर प्रतिक्रिया दे रही थीं। केंद्रीय कानून एवं विधि मंत्रालय श्रीमती देसाई का कार्यकाल पांच मार्च से आगे बढ़ाने पर सहमति दे दी है। बताया जा रहा है आयोग प्रदेश के राजनीतिक दलों से परिसीमन तथा विधानसभा सीटों को आरक्षित करने के मुद्दे पर लिखित राय मांग सकता है।

उन्होंने माइक्रो ब्लॉग्गिंग साइट ट्विटर पर लिखा, ''केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर में परिसीमन के लिए जितनी जल्दबाजी कर रही है, उससे सरकार की मंशा पर गंभीर संदेह उत्पन्न हो गया है। भाजपा ने क्षेत्रों, धर्मों और समुदायों के आधार पर लोगों को बांटने की एक बड़ी योजना बनाई है।"

उल्लेखनीय है कि इससे पहले नेशनल कांफ्रेंस के सांसद डॉ. फारुक अब्दुल्ला, मुहम्मद अकबर लोन तथा हसनैन मसूदी ने बुधवार को परिसीमन आयोग के साथ सहयोग करने पर असहमति जतायी थी और केंद्र सरकार से इस प्रक्रिया को शुरू नहीं करने की अपील की थी। इन लोगों ने परिसीमन आयोग की अध्यक्ष जस्टिस (सेवानिवृत्त) देसाई को पत्र लिख कर कहा था कि जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम 2019 उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है।

डिस्क्लेमर : यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। इसमें राज एक्सप्रेस द्वारा कोई संशोधन नहीं किया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co