महाराष्ट्र में जाली नोटों के खेल- नवाब मलिक ने फडणवीस का राज किया उजागर

महाराष्‍ट्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर जोरदार निशाना साधते हुए एनसीपी नेता नवाब मलिक ने यह आरोप लगाया कि, फडणवीस की सरकार में जाली नोट चलाने वाले लोगों को संरक्षण मिला था।
महाराष्ट्र में जाली नोटों के खेल- नवाब मलिक ने फडणवीस का राज किया उजागर
नवाब मलिक ने फडणवीस का राज किया उजागरSocial Media

महाराष्‍ट्र, भारत। मुंबई में क्रूज ड्रग केस को लेकर समीर वानखेड़े पर लगातार हमलों की बौछार कर रहे है एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कल फडणवीस के राज उजागर किए जाने की बात कही थी, इसी के चलते आज बुधवार को एनसीपी नेता नवाब मलिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भाजपा के नेता एवं महाराष्‍ट्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर जोरदार निशाना साधते हुए यह आरोप लगाया है।

फडणवीस के संरक्षण में जाली नोट का खेल महाराष्ट्र में चल रहा था :

दरअसल, प्रेस कॉन्फ्रेंस में एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा- फडणवीस की सरकार में जाली नोट चलाने वाले लोगों को संरक्षण मिला था। इन लोगों के तार दाऊद से भी जुड़े थे। 8 नवंबर, 2016 को देश में नोटबंदी की गई थी। देश भर में जाली नोट पकड़े जाने लगे थे, लेकिन 8 अक्टूबर 2017 तक महाराष्ट्र में एक भी जाली नोट का मामला सामने नहीं आया था, क्योंकि देवेंद्र फडणवीस के संरक्षण में जाली नोट का खेल महाराष्ट्र में चल रहा था।।

8 अक्टूबर 2017 को राजस्व खुफिया निदेशालय ने BKC (बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स) में छापेमारी की जिसमें 14.56 करोड़ के जाली नोट पकड़े थे। इस मामले को दबाने के लिए देवेंद्र फडणवीस ने मदद की थी। जाली नोट का नेक्सेस ISI-पाकिस्तान-दाऊद वाया बांग्लादेश देश में फैलाया जाता है।

एनसीपी नेता नवाब मलिक

इस दौरान नवाब मलिक द्वारा आगे यह बात भी कही कि, ''हम जिस अधिकारी के खिलाफ आरोप लगा रहे हैं उससे बचाने का प्रयास हो रहा है, क्योंकि देवेंद्र जी के उस अधिकारी से पुराने संबंध हैं। 2008 में कोई अधिकारी नौकरी पर आता है और 14 साल से मुंबई शहर छोड़ता नहीं इसके पीछे क्या राज है?''

नवाब मलिक बताया कि, ''देवेंद्र जी औरों को कह रहे हैं कि अंडरवर्ल्ड कनेक्शन के लोग हैं यह देवेंद्र जी हम आप से पूछना चाहते हैं कि सारे अंडरवर्ल्ड के लोग जो अंडरवर्ल्ड कनेक्टेड लोग हैं जो बड़े-बड़े क्रिमिनल हैं आपने मुख्यमंत्री रहते हुए उन सभी लोगों को सरकारी बोर्ड और सरकारी कमीशन का अध्यक्ष क्यों बनाया?''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co