P. Chidambaram Protested on Rising Prices of Onions
P. Chidambaram Protested on Rising Prices of Onions |Social Media
पॉलिटिक्स

जमानत पर बाहर आते ही पी. चिदंबरम निकले विरोध प्रदर्शन पर

कोर्ट के फैसले से जमानत पर बाहर आने के बाद पी. चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम ने संसद सत्र की बैठक में हिस्सा लिया, साथ ही प्याज की बढ़ती कीमतों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया।

Kavita Singh Rathore

Kavita Singh Rathore

हाइलाइट्स :

  • प्याज की बढ़ती कीमतों को लेकर हुआ विरोध प्रदर्शन

  • विरोध प्रदर्शन में नजर आये पी. चिदंबरम

  • उन्होंने अरविंद सुब्रमण्यम की चेतावनी याद दिलाई

  • उन्होंने कई गहन मुद्दों के आंकड़े गिनवाए

राज एक्सप्रेस। पी. चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम आज 11 बजे से शुरू हुई संसद सत्र की बैठक में पहुंचे। हालांकि बैठक में पहुंच कर पी. चिदंबरम कोर्ट की शर्तो के अनुसार INX मीडिया केस से जुड़ी कोई बात नहीं करेंगे, लेकिन पी. चिदंबरम इस संसद के बाहर गांधी प्रतिमा के पास प्याज की बढ़ती कीमतों को लेकर विरोध प्रदर्शन करते नजर आये। पी. चिदंबरम के कागज पर लिखा था, 'महंगाई की प्याज पर मार चुप क्युं है मोदी सरकार'

प्याज की कीमतों पर विरोध प्रदर्शन :

दरअसल, कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता और नेता हाथ में पोस्टर लेकर संसद परिसर में प्याज की बढ़ती कीमतों को लेकर गांधी प्रतिमा के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसमे पी. चिदंबरम भी नज़र आए। भारत में प्याज की कीमतें दिन प्रति दिन आसमान छू रही हैं। मार्केट का आलम यह है कि, प्याज की कीमतें 100 -120 रूपये प्रति किलों से ऊपर ही चल रही हैं।

चिदंबरम का बयान :

प्याज की बढ़ती कीमतों को लेकर पी. चिदंबरम ने महंगाई के मुद्दे को उठा कर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए विरोध प्रदर्शन किया। साथ ही चिदंबरम ने काफी विवादित बयान देते हुए कहा, "जो सरकार जनता को प्याज और लहसुन काम खाने की सलाह दे, ऐसी सरकार को चले जाना चाहिए।" उन्होंने अर्थव्यवस्था को गलत हाथों में बताते हुए कहा कि, ये सरकार अर्थव्यवस्था के मामलों में पूरी तरह से फेल हुई है। अगर निर्मला सीतारमण प्याज नहीं खाती हैं तो क्या खाती हैं? क्या वह एवोकाडो खाती हैं? जानकारी के लिए बता दें एवोकाडो एक फल है, जिसे रुचिरा भी कहा जाता है।

क्या था वित्त मंत्री का बयान :

जहां मार्केट में प्याज की कीमतों ने सबको रुला कर रख दिया है, वहीं दूसरी तरफ वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस मुद्दे को लेकर कुछ ऐसा बोली जिससे बबाल मच गया। उनका कहना था कि, 'मैं ज्यादा प्याज नहीं खाती हूँ और मैं ऐसे परिवार से आती हूं जहां प्याज से जयादा मतलब नहीं रखा जाता, इसलिए मुझे उतना फर्क नहीं पड़ता'। उनके इस बयान के चलते सोशल साइट्स पर जनता उनसे काफी खफा नज़र आई।

पी. चिदंबरम ने कुछ इस तरह की शुरुआत :

मुझे ख़ुशी हो रही है ठीक 106 दिन के बाद आपसे बात करके, मुझे जब घर से गिरफ्तार किया गया तब सबसे पहले जम्मू-कश्मीर के लोगों की याद आई जिन्हें इस तरह रखा गया है। आज बिना किसी आरोप के लोगों को हिरासत में डाल दिया जाता है। हम सुप्रीम कोर्ट के आदेश का स्वागत करते हैं और जो मामले में अदालत में हैं, उन पर कोई भी बात नहीं करेंगे। पिछले 106 दिनों में मेरे साथ जो कुछ भी हुआ, उससे मैं और भी मजबूत हुआ हूं। मेरे रिकॉर्ड के बारे में वो लोग अच्छे से जानते हैं जो मेरे साथ काम कर चुके हैं, कि, मेरा रिकॉर्ड और मेरी अंतरात्मा बिलकुल क्लीन रही है। मेरे घरवालों को भगवान पर भरोसा है।

अर्थव्यवस्था को लेकर चिंता जताई :

बैठक में पी. चिदंबरम ने अर्थव्यवस्था को लेकर चिंता जताते हुए कहा कि, 'सरकार गलत है क्योंकि उनके पास कोई संकेत नहीं है। उन्होंने सरकार के नोटबंदी और GST के फैसले को गलत बताया। अगर साल के आखिर में देश की GDP की दर 5% होगी, तो हम खुश किस्मत होंगे। उन्होंने डॉक्टर अरविंद सुब्रमण्यम की चेतावनी याद दिलाते हुए कहा कि, उन्होंने आने वाले समय में देश की GDP 5% से कम रहने का अनुमान लगाया था। उन्होंने GDP के आंकड़े गिनाते हुए अच्छे दिन की बात को लेकर मोदी सरकार को तंज कसा। उन्होंने MSME और मनिफेक्चरिंग, कौर सेक्टर अनइम्प्लोय्मेंट आदि जैसे कई गहन मुद्दों के आंकड़े गिनवाए। उन्होंने अर्थव्यवस्था को गलत हाथों में बताया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co