यूपी में हिंसा फैलाने के मामले में PFI पर लगाया जाएगा प्रतिबंध

यूपी के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि, CAA के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) का हिंसा फैलाने में हाथ था और इस पर अब प्रतिबंध लगाया जाएगा।
यूपी में हिंसा फैलाने के मामले में PFI पर लगाया जाएगा प्रतिबंध
Keshav Prasad MauryaSocial Media

राज एक्‍सप्रेस। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ देशभर के कई राज्‍यों में हिसंक विरोध प्रदर्शन हुए, उन्‍हीं में एक है उत्तर प्रदेश, यहां भी इस मसले को लेकर उग्र प्रदर्शन हुए थे और हिंसा फैलाएं जाने में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) का हाथ था और इस संगठन पर अब प्रतिबंध लगाया जाएगा। यह कहना यूपी के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) का है।

सिमी के लोगों ने ही फैलाई हिंसा :

उप-मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने यह बात भी कहीं कि, स्टूडेंट्स इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) के लोग ही पीएफआई में थे, जिन्होंने यूपी में हिंसा फैलाई।

सरकार से PFI पर प्रतिबंध लगाने की सिफारिश :

उत्तर प्रदेश पुलिस के डीजी ओपी सिंह ने केंद्र सरकार से पीएफआई पर प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की है, यूपी पुलिस के DGP ओपी सिंह ने चिट्ठी लिखकर PFI पर कार्रवाई की मांग की है। PFI पर बैन को लेकर भेजे गए प्रस्ताव पर डिप्टी CM केशव प्रसाद मौर्य ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, जल्द ही सरकार की तरफ से इस संगठन पर प्रतिबंध लगाया जाएगा और सरकार की ओर से प्रस्ताव लाकर इसे प्रतिबंधित किया जाएगा।

बताते चलें कि, यूपी की हिंसा में जो लोगों को पकड़ा गया था, उनमें से कई लोग PFI के सदस्य निकले हैं, इन पर हिंसा फैलाने का आरोप है। हालांकि, इससे पहले यह बात सामने आई थी कि, उत्तर प्रदेश में की योगी सरकार पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रही है। बीते दिनों ही 21 जिलों में हुए हिंसक प्रदर्शन में PFI का नाम सामने आया था, इसके बाद पीएफआई के प्रदेश अध्यक्ष वसीम अहमद, कोषाध्यक्ष नदीम अहमद और मंडल अध्‍यक्ष अशफाक लखनऊ में गिरफ्तार भी हुए थे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co