प्रकाश जावड़ेकर ने वजह बताते हुए कहा- राहुल की बातों पर टिप्पणी करना बेकार
प्रकाश जावड़ेकर ने वजह बताते हुए कहा- राहुल की बातों पर टिप्पणी करना बेकारTwitter

प्रकाश जावड़ेकर ने वजह बताते हुए कहा- राहुल की बातों पर टिप्पणी करना बेकार

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बयान को लेकर कहा- राहुल गांधी की बातों पर टिप्पणी करना बेकार है क्योंकि वे विचार से नहीं करते।

दिल्‍ली, भारत। देश की राजनीतिक पार्टी में पक्ष और विपक्ष के नेताओं में एक-दूसरे के खिलाफ टिपप्‍णी का दौर हमेशा ही जारी रहता है और इस दौरान मुख्‍य विपक्ष पार्टी कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता राहुल गांधी अपने बयानों को लेकर सबसे ज्‍यादा चर्चा में रहते हैं और लगातार ही केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना करते हैं। इस बीच उन्‍होंने केंद्र सरकार के साथ-साथ भारतीय लोकतंत्र को लेकर जो बयान दिया, उसका केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने जवाब देते हुए अपनी प्रतिक्रिया दी है।

राहुल गांधी की बातों पर टिप्पणी करना बेकार :

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बयान को लेकर कहा- राहुल गांधी की बातों पर टिप्पणी करना बेकार है क्योंकि वे विचार से नहीं करते। पता नहीं वे किस ग्रह पर रहते हैं। देश के लोकतंत्र की तुलना गद्दाफी और सद्दाम हुसैन से करना जनता का अपमान है। गद्दाफी और सद्दाम जैसा इस देश में 1975 से 77 केवल 2 ही साल हुआ।

इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ये बात भी बताई है कि, ''पिछले 6 सालों में भारत सरकार के प्रयास से दिल्ली और बाकी जगहों पर प्रदूषण कम हुआ है। लोग नजदीक के काम साइकिल या इलेक्ट्रिक वाहन से करें।''

ये था राहुल गांधी का बयान :

बता दें कि, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बीते दिन यानी मंगलवार को ब्राउन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर आशुतोष वार्ष्णेय के साथ ऑनलाइन चर्चा के दौरान वैश्विक लोकतंत्र की स्थिति में भारत की घटती स्थिति को लेकर केंद्र सरकार पर सवाल उठाते हुए ये कहा था कि, ''इराक के तानाशाह सद्दाम हुसैन और लीबिया के मुअम्मर गद्दाफी भी अपने देश में चुनाव करवाते थे और उन्हें जीतते थे। ऐसा नहीं था कि वे मतदान नहीं कर रहे थे, लेकिन उस वोट की रक्षा के लिए कोई संस्थागत ढांचा नहीं था।''

इतना ही नहीं बल्कि राहुल गांधी का ये कहना भी है कि, ''एक चुनाव सिर्फ उन लोगों से जुड़ा हुआ नहीं होता जो एक वोटिंग मशीन पर जाकर बटन दबाते हैं। एक चुनाव उन संस्थानों के बारे में है, जो यह सुनिश्चित करते हैं कि देश में ढांचा ठीक से चल रहा है, चुनाव न्यायपालिका की कार्यप्रणाली के बारे में है और संसद में होने वाली बहस के बारे में है, इसलिए आपको वोट देने के लिए उन चीजों की आवश्यकता है।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co