Prashant Kishor-Pawan Verma Suspended
Prashant Kishor-Pawan Verma Suspended|Priyanka Sahu -RE
पॉलिटिक्स

JDU के 2 नेता बर्खास्त, 5 मिनट बाद पीके का जवाब-भगवान आपका भला करे

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले JDU के 2 बागी नेताओं पर बड़ी कार्रवाई करते हुुुए प्रशांत किशोर और पवन वर्मा को बर्खास्त कर दिया गया है।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले जनता दल यूनाइटेड (JDU) के दो बागी नेताओं पर बड़ी कार्रवाई करते हुुुए आज उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (पीके) और महासचिव पवन वर्मा को पार्टी से बर्खास्त (Prashant Kishor-Pawan Verma Suspended) कर दिया गया है।

क्‍यों किया बर्खास्त?

दरअसल, JDU के इन दो बागी नेताओं को पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने को लेकर बर्खास्त किया गया है। एक नेता प्रशांत किशोर नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे हैं, तो वहीं दूसरे नेता पवन वर्मा को दिल्ली में भाजपा और जदयू के गठबंधन पर आपत्ति है।

बर्खास्त होने के 5 मिनट बाद किया ट्वीट :

बताते चलें कि, आज भी प्रशांत किशोर चुप नहीं रहे पार्टी से बर्खास्त होने के 5 मिनट बाद ही उन्‍होंने इस पर भी ट्वीट के जरिए अपनी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए लिखा- ''शुक्रिया नीतीश कुमार। मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बने रहने के लिए मेरी आपको शुभकामनाएं हैं। भगवान आपका भला करे।''

नीतीश को झूठा कहने के 20 घंटे बाद पार्टी से बर्खास्त :

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा दिए गए बयान पर पीके के पलटवार करने के 20 घंटे बाद ही उन्‍हें पार्टी से निकाल दिये जाने का निर्णय लिया गया।

हालांकि, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को ही कहा था कि, प्रशांत को अमित शाह के कहने पर पार्टी में लाए थे, अगर वे जाना चाहते हैं तो जा सकते हैं। लेकिन, अगर उन्हें जदयू के साथ रहना है, तो पार्टी की नीति और सिद्धांतों के मुताबिक ही चलना पड़ेगा। मुझे पता चला है कि प्रशांत किशोर आम आदमी पार्टी के लिए रणनीति बना रहे हैं। ऐसे में अब उन्हीं से पूछना चाहिए कि वे जदयू में रहना चाहते हैं या नहीं।

उनके इसी बयान को लेकर प्रशांत किशोर ने तुरंत ही पलटवार कर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि, 'आप (नीतीश) मुझे पार्टी में क्यों और कैसे लाए, इस पर इतना गिरा हुआ झूठ बोल रहे हैं। यह आपकी बेहद खराब कोशिश है, मुझे अपने रंग में रंगने की। अगर आप सच बोल रहे हैं तो कौन यह भरोसा करेगा कि अभी भी आपमें इतनी हिम्मत है कि अमित शाह द्वारा भेजे गए आदमी की बात न सुनें?'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co