राजनीतिक दल बनाएंगे या नहीं पर प्रशांत किशोर का आया रिएक्‍शन, कहीं यह बात...
राजनीतिक दल बनाएंगे या नहीं पर प्रशांत किशोर का आया रिएक्‍शनSocial Media

राजनीतिक दल बनाएंगे या नहीं पर प्रशांत किशोर का आया रिएक्‍शन, कहीं यह बात...

बिहार के पटना में प्रशांत किशोर ने आज प्रेस कॉफ्रेंस कर कहा कि, वह फिलहाल कोई राजनीतिक दल नहीं बनाने जा रहे हैं। पहले वह बिहार के लोगों से 3-4 महीने संवाद करेंगे।

बिहार, भारत। बिहार के पटना में राजनीतिक पार्टियों के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (PK) ने आज गुरूवार को प्रेस कॉफ्रेंस की।

नहीं बना कोई राजनीतिक दल :

इस दौरान प्रशांत किशोर ने कहा कि, ''वह फिलहाल कोई राजनीतिक दल नहीं बनाने जा रहे हैं। पहले वह बिहार के लोगों से 3-4 महीने संवाद करेंगे। 2 अक्टूबर से वह पश्चिम चंपारण से पदयात्रा शुरू करेंगे। पिछले 3 दशक बिहार में लालू यादव और नीतीश कुमार का राज रहा है। पहले 15 साल लालू जी और अभी पिछले करीब 15 साल से नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री हैं।''

लालू जी और उनके समर्थकों का मानना है कि, 15 साल के शासन में सामाजिक न्याय का शासन चला। उनका कहना है आर्थिक और सामाजिक रूप से जो पिछडे थे उनको उनकी सरकार ने आवाज दिया। 2005 से जब नीतीश जी की सरकार है तब से उनके समर्थकों का मानना है उनकी सरकार ने आर्थिक विकास और दूसरी सामाजिक पहलूओं पर ध्यान दिया है और विकास किया है।

प्रशांत किशोर

आगे उन्‍होंने यह भी कहा- दोनों ही बातों में कुछ तो सच्चाई है, लेकिन इस बात में भी सच्चाई है कि लालू और नीतीश के 30 साल के राज के बाद भी बिहार देश का सबसे पिछड़ा और सबसे गरीब राज्य है। इस सच्चाई को कोई झुठला नहीं सकता है। विकास के ज्यादातर मानकों पर बिहार सबसे पीछे है। अगर 10-15 साल के रास्ते को देखेंगे तो ये बात तो तय है कि, इस रास्ते से हम ऊंचाई पर नहीं पहुंच सकते हैं।

  • अग्रणी राज्य की श्रेणी में आने के लिए बिहार को नई सोच नए प्रयास की जरूरत है। यह बहस का मुद्दा हो सकता है कि वह नई सोच और नया प्रयास कौन करे और किसके पास है। मेरा ऐसा मानना है कि नई सोच और नए प्रयास करने की क्षमता किसी एक व्यक्ति में है।

  • मैं ऐसा समझता हूं कि, इस नई सोच के प्रति बिहार के लोग मिलकर एक साथ ताकत नहीं लगाएंगे तब तक बिहार की दशा और दुर्दशा सही नहीं हो सकती है। इसलिए मैं ऐसा मानता हूं कि, आने वाले दिनों में बिहार की धरती से जो जुड़े हैं और यहां की परिस्थितियों को समझते हैं, जिनमें यहां की समस्याओं को सुलझाने की क्षमता है। उससे ज्यादा जिनमें आने वाले वर्षों में बिहार को बदलने का जज्बा है, जो बिहार को बदलना चाहते हैं, उनमें से ज्यादातर लोगों को एक साथ आकर कोई प्रयास करना होगा। इस संदर्भ में मेरी सोच और जो भूमिका है उसके बारे में दो बातें बता रहा हूं।

मीडिया में संभावना जताई जा रही है कि, मैं कोई राजनीतिक दल बनाने जा रहा हूं, या कोई राजनीतिक मंच बनाया हूं, ऐसी कोई घोषणा मैं नहीं कर रहा हूं।
प्रशांत किशोर

पार्टी बनेगी तो इसमें सभी का योगदान होगा :

प्रशांत किशोर ने बताया, ''अगर कोई पार्टी बनेगी तो इसमें सभी का योगदान होगा। मैं 2 अक्टूबर से चंपारण से 3000 किलोमीटर की यात्रा शुरू करूंगा। मैं व्यक्तिगत पदयात्रा करूंगा, 3000 किलोमीटर के बाद यात्रा करूंगा। जैसा कि मीडिया में सरकुलेट किया जा रहा है कि आज मैं कोई राजनीतिक पार्टी बनाने जा रहा हूं, राजनीतिक दल बनाने जा रहा हूं, लेकिन मैं ऐसा कुछ नहीं करने जा रहा।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.