शक्ति संवाद में प्रियंका का दावा-महिलाएं एकजुट हो जाएं, तो देश की राजनीति बदल सकती है
शक्ति संवाद में प्रियंका Social Media

शक्ति संवाद में प्रियंका का दावा-महिलाएं एकजुट हो जाएं, तो देश की राजनीति बदल सकती है

उत्‍तर प्रदेश के रायबरेली में कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने 'लड़की हूं, लड़ सकती हूं' शक्ति संवाद कार्यक्रम के दौरान महिलाओं और लड़कियों के साथ बातचीत में कही ये बातें...

उत्‍तर प्रदेश, भारत। उत्‍तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर नेताओं का चुनावी राज्‍यों के दौरे जाने का सिलसिला लगातार जारी है। इस बीच आज रविवार को कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने UP के रायबरेली में 'लड़की हूं, लड़ सकती हूं' शक्ति संवाद कार्यक्रम के दौरान महिलाओं और लड़कियों के साथ बातचीत की।

परिवर्तन लाना है तो अब एकजुट होना होगा :

शक्ति संवाद कार्यक्रम में कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा ने यूपी सरकार की कानून व्‍यवस्‍था पर सवाल उठाते हुए कहा- दो साल पहले मुझे यूपी का प्रभारी बनाया गया था। डेढ़ साल पहले एक लड़की की दुष्कर्म के बाद हत्या हुई, मैं उसके घर गई। उसकी भाभी ने बताया कि, उसे किस तरह प्रताड़ित किया गया। भाइयों को पीटा गया। उसके बाद हाथरस में लड़की से दुष्‍कर्म का मामला सामने आया। पुलिस प्रशासन ने स्‍वजनों को चेहरा तक नहीं देखने दिया। ललितपुर में दो किसानों ने आत्महत्या की बेटी सविता बोली, मां अकेली पड़ जाएगी। इस पर मेरे मन में व‍िचार आया कि इतना अत्याचार हो रहा है तो महिलाओं के लिए कुछ करना चाहिए। इसी के तहत महिला विधान बनाया।

परिवर्तन लाना है तो अब एकजुट होना होगा। आधी आबादी हैं तो क्‍या, यदि महिलाएं एकजुट हो जाएं तो भविष्य की राजनीति सुधरेगी।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा

कांग्रेस की राजनीतिक शक्ति तुम्हारे साथ है :

प्र‍ियंका गांधी ने आगे यह भी कहा क‍ि, ''यदि तुम हमारा साथ दो तो क्यों राजनीति नहीं बदल सकती। आज से तय कर लो कि जो महिला को सशक्त नहीं करेगा उसे वोट नहीं देंगे। ये नहीं कि सिर्फ शौचालय बनवा दिया। रोजगार भी दो। बहुत सह लिया बहुत चुप रहे, लेकिन आप अपनी शक्ति को पहचानने। मानसिकता बदलनी है तो अपने लिए लड़ो। कांग्रेस की राजनीतिक शक्ति तुम्हारे साथ है। परिवर्तन लाएंगे एक साथ रहकर।''

साथ ही उन्‍होंने व‍िकास मुद्दे को लेकर सरकार को आड़े हाथ लेते हुए यह भी कहा- विकास के मुद्दे न उठें, इसलिए सम्प्रदाय और धार्मिक मामले आगे क‍िए जा रहे हैं। लोग विकास के मुद्दे पर सवाल न करें, इसलिए मूल मुद्दों से ध्यान भटकाया जा रहा है।

प्रियंका गांधी ने बताया, ''हमने महिलाओं के लिए अलग से घोषणापत्र बनाया, इसका असर हुआ और बाकी पार्टियां भी घोषणा करने लगी हैं। प्रधानमंत्री पहली बार सिर्फ महिलाओं की सभा करने जा रहे हैं। मैं बहुत खुश हूं, एक छोटी सी पहल से सारी पार्टियां महिलाओं के बारे में सोच रही हैं।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.