गुजरात में एक आदिवासी सम्मेलन को राहुल गांधी ने किया संबोधित
गुजरात में एक आदिवासी सम्मेलन को राहुल गांधी ने किया संबोधित Social Media

गुजरात में एक आदिवासी सम्मेलन को राहुल गांधी ने किया संबोधित

गुजरात में एक आदिवासी सम्मेलन को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने संबोधित कर कहा- आज ये एक पब्लिक मीटिंग नहीं है, ये एक आंदोलन, एक सत्याग्रह की शुरुआत है। आज दो हिंदुस्तान बन रहे हैं।

गुजरात, भारत। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज मंगलवार को गुजरात में एक आदिवासी सम्मेलन को संबोधित किया।

आज दो हिंदुस्तान बन रहे हैं :

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा- आज ये एक पब्लिक मीटिंग नहीं है, ये एक आंदोलन, एक सत्याग्रह की शुरुआत है। आज दो हिंदुस्तान बन रहे हैं। एक अमीरों का हिंदुस्तान, जिसमें चुने हुए लोग हैं, बड़े-बड़े अरबपति, ब्यूरोक्रेट्स हैं, जिनके पास सत्ता और धन है। दूसरा हिंदुस्तान भारत की आम जनता का हिंदुस्तान।

कांग्रेस पार्टी दो हिंदुस्तान नहीं चाहती है। कांग्रेस पार्टी एक हिंदुस्तान चाहती है, उस हिंदुस्तान में सबका आदर होना चाहिए, सबको अवसर मिलने चाहिए, सबको शिक्षा मिलनी चाहिए, सबको स्वास्थ्य सेवाएं मिलनी चाहिए।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी

  • ये धन है, ये जल, जंगल, जमीन किसी उद्योगपति की नहीं है; ये आपका है- आदिवासियों का है, गरीबों का है, हिंदुस्तान के नागरिकों का है। मगर इसका फायदा आपको नहीं मिलता है। यूपीए सरकार के दौरान हमने पूरी कोशिश की ,कि जो हिंदुस्तान का धन है, जल-जंगल-जमीन, इसका फायदा हिंदुस्तान के आम नागरिकों को मिले। हमने आपको मनरेगा दिया, पूरे देश में इस योजना को चलाया और करोड़ों लोगों को मनरेगा से फायदा मिला। हमने भूमि अधिग्रहण के पुराने कानून को बदला जिसके बाद बिना आपकी सहमति से आपकी जमीन नहीं ली जा सकती।

  • प्रधानमंत्री सामने आए और नोटबंदी की घोषणा की, कहा कि कालेधन के खिलाफ लड़ाई है, पूरे देश को लाइन में लगा दिया। मगर नोटबंदी से सिर्फ अमीर हिंदुस्तान को फायदा हुआ, मगर गरीब लोगों को कोई फायदा नहीं हुआ। उसके बाद जीएसटी लागू की, ऐसी जीएसटी लागू की, जिससे छोटे दुकानदार, गरीब, किसान को नुकसान हो और अरबपतियों को फायदा मिले।

  • जब कोरोना आया, तो प्रधानमंत्री कहते हैं ताली-थाली बजाओ, टॉर्च जलाओ। मगर मीडिया के मित्र ये नहीं कहते कि गुजरात में तीन लाख लोग मरे हैं, ये नहीं कहते कि मां गंगा लाशों से भर गई थी, ये नहीं कहते कि हिंदुस्तान में 50-60 लाख लोग मरे।

  • ये जल, जंगल, जमीन आपका धन है, ये गुजरात की सरकार का नहीं है, ये गुजरात के चुने हुए बिजनेसमैन का नहीं है। लेकिन फिर भी इस जल, जंगल, जमीन का फायदा आपको नहीं मिल रहा है।

  • आपका स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी में जाना नामुमकिन है, क्योंकि सरकारी स्कूल, कॉलेज बंद कर देते हैं, पूरा का पूरा प्राइवेटाइज कर देते हैं। उन्हीं 4-5 लोगों के हवाले कर देते हैं।

  • आदिवासी समुदाय ने गुजरात का इंफ्रास्ट्रक्चर बनाया, गुजरात की सड़कें बनाई, मैं पूछना चाहता हूं कि आपको क्या मिला? आपको न शिक्षा मिली, न स्वास्थ्य मिला, न रोजगार मिला।

  • आपके दिल में जो आवाज है, वो आपके अंदर बंद है। हम इस आंदोलन के माध्यम से इस आवाज को बाहर निकालना चाहते हैं। हम चाहते हैं कि आपकी आवाज इस सरकार को सुनाई दे, जो सरकार सुन नहीं रही है।

  • कांग्रेस पार्टी आपके साथ मिलकर इस आवाज को इतना मजबूत बनाना चाहती है कि गुजरात छोड़ो, ये आवाज हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री तक को सुनाई दे जाए। इस आंदोलन का लक्ष्य है- हम जानना चाहते हैं कि आदिवासी समुदाय क्या चाहता है? जब कांग्रेस सरकार आएगी तब कांग्रेस पार्टी आदिवासियों को क्या गारंटी देगी? खोखले शब्द नहीं।

राहुल गांधी ने कहा- हमने राजस्थान में स्वास्थ्य का मॉडल तैयार किया है।

- हम हर जगह सरकारी मेडिकल कॉलेज और सरकारी अस्पताल खोल रहे हैं

- राजस्थान में रु.10L मेडिकल इंश्योरेंस मिलता है

- राजस्थान में रु.5L एक्सीडेंट क्लेम मिलता है

- मुफ्त में दवाई मिलती है

मगर गुजरात को पूरा का पूरा प्राइवेटाइज किया जा रहा है और फायदा उन्हीं 2-3 लोगों को होता है। हम गुजरात के लिए स्वास्थ्य का इंफ्रास्ट्रक्चर, शिक्षा का इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करना चाहते।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी

उन्‍होंने आगे यह भी कहा- हमने छत्तीसगढ़ में अंग्रेजी माध्यम के सरकारी स्कूलों का जाल बिछा दिया है, जिसमें गरीब से गरीब लोग अपने बच्चों को भेजकर अंग्रेजी सिखा सकते हैं। हम ये काम यहाँ पर भी करना चाहते हैं। यहाँ पर बड़े-बड़े प्रोजेक्ट बनते हैं, तापी प्रोजेक्ट बनता है, आपसे आपका पानी छीना जाता है, बड़े-बड़े अरबपतियों को दिया जाता है। मैं आपसे कहना चाहता हूं कि कांग्रेस पार्टी के चुनाव जीतने पर हम रिवर लिंक के प्रोजेक्ट को बंद कर देंगे। अब आपको संघर्ष करना पड़ेगा, वो आपसे आपका हक छीन रहे हैं, वो ऐसे ही हक नहीं देंगे, अब आपको उनसे छीनना पड़ेगा। अब नया गुजरात बनाना पड़ेगा। आप शिक्षा, स्वास्थ्य चाहते हो तो ये आपको कुछ नहीं देने वाले हैं। ये लोग सिर्फ 2-3 अरबपतियों को आपका भविष्य बेचना चाहते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.