नोटबंदी की चौथी सालगिरह पर राहुल ने बताया PM मोदी के इस कदम का मकसद

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार की आलोचना करते हुए ये आरोप लगाया कि, चार साल पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस कदम का मकसद अपने चंद पूंजीपति मित्रों को फायदा पहुंचाना था।
नोटबंदी की चौथी सालगिरह पर राहुल ने बताया PM मोदी के इस कदम का मकसद
नोटबंदी की चौथी सालगिरह पर राहुल ने बताया PM मोदी के इस कदम का मकसदTwitter Video

दिल्ली, भारत। वर्ष 2016 को आज ही के दिन यानी 8 नवंबर को हुई नोटबंदी को पूरे 4 साल होने को आए हैं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अचानक शाम 8 बजे आकर काले धन पर लगाम लगाने के लिए 500 और 1000 रुपये के नोट बंद करने का ऐलान किया था। नोटबंदी की चौथी सालगिरह पर कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए ये आरोप लगाया है।

नोटबंदी की घोषणा को राष्ट्रीय त्रासदी :

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चार साल पहले आज के ही दिन की गई नोटबंदी की घोषणा को राष्ट्रीय त्रासदी करार देते हुए ये आरोप लगाया कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस कदम का मकसद अपने कुछ ‘उद्योगपति मित्रों’ की मदद करना था और इसने भारतीय अर्थव्यवस्था को ‘बर्बाद’ कर दिया।

नोटबंदी PM की सोची समझी चाल :

नोटबंदी के विरोध में पार्टी के ऑनलाइन अभियान ‘स्पीक अप एगेंस्ट डिमो डिजास्टर’ के तहत एक वीडियो जारी करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट में लिखा- नोटबंदी PM की सोची समझी चाल थी ताकि आम जनता के पैसे से ‘मोदी-मित्र’ पूँजीपतियों का लाखों करोड़ रुपय क़र्ज़ माफ़ किया जा सके। ग़लतफ़हमी में मत रहिए- ग़लती हुई नहीं, जानबूझकर की गयी थी। इस राष्ट्रीय त्रासदी के चार साल पर आप भी अपनी आवाज़ बुलंद कीजिए। #SpeakUpAgainstDeMoDisaster

हिंदुस्तान के सामने बहुत बड़ा सवाल :

इसके अलावा राहुल गांधी ने एक वीडियो संदेश के जरिए ये भी कहा- आज हिंदुस्तान के सामने बहुत बड़ा सवाल यह है कि बांग्लादेश की अर्थव्यवस्था कैसे भारत की अर्थव्यवस्था से ‘आगे बढ़’ गई, क्योंकि एक समय था जब भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया की सबसे उच्च प्रदर्शन वाली अर्थव्यवस्थाओं में से एक थी। अर्थव्यवस्था गिरने की पिक्चर सरकार कोरोना वायरस को वह बताती है। अगर यही कारण है तो कोरोना वायरस का प्रकोप पूरी दुनिया में है, फिर भी भारत कैसे पीछे रह गया है। भारत की गिरती अर्थव्यवस्था का कारण कोविड-19 नहीं, बल्कि नोटबंदी और जीएसटी है।

गौरतलब है कि, आज 8 नवंबर को नोटबंदी के चार साल पूरे होने के मौके पर कांग्रेस आज मोदी सरकार के खिलाफ देशभर में विश्वासघात दिवस मना रही है और इसके लिए डिजिटल अभियान चला रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co