हाथरस कांड: राहुल गांधी के साथ कथित दुर्व्यवहार पर हो रही जबरदस्‍त आलोचना

हाथरस मामले पर सियासत गर्माती ही जा रही है,वहीं कल हाथरस कांड के पीड़ित परिवार से मिलने जाने पर राहुल गांधी के साथ UP पुलिस ने जो बर्ताव किया, उसकी हर तरफ अलोचना हो रही, जानें किसने क्‍या-क्‍या कहा...
हाथरस कांड: राहुल गांधी के साथ कथित दुर्व्यवहार पर हो रही जबरदस्‍त आलोचना
हाथरस कांड: राहुल गांधी के साथ कथित दुर्व्यवहार पर हो रही जबरदस्‍त आलोचनाPriyanka Sahu -RE

दिल्‍ली, भारत। उत्तर प्रदेश के हाथरस के चंदपा क्षेत्र में अनुसूचित जाति की बिटिया के साथ दुष्कर्म का मामला आज भी काफी सुर्खियों में छाया हुआ है, वहीं कल कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा हाथरस कांड के पीड़ित परिवार से मिलने दिल्ली से काफिले के साथ निकले थे, लेकिन इस दौरान उनके साथ कथित दुर्व्यवहार हुआ, इसके बाद से हाथरस मामले पर सियासत ओर अधिक गर्माती जा रही है एवं कई नेता उनके साथ हुए इस व्‍यव्‍हार की अलोचना कर रहे है, जानें किसने क्‍या-क्‍या कहा...

राहुल-प्रियंका हाथरस की ओर निकले तो क्या-क्या हुआ :

बता दें कि, दिल्ली के पास ग्रेटर नोएडा में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा दोनों कल गुरुवार को दलित युवती के परिवार से मुलाकात के लिए हाथरस जाने पर अड़े हुए थे। इस दौरान राहुल-प्रियंका के काफिले को रोक दिया, तो वे पैदल ही यमुना एक्सप्रेसवे पर निकल पड़े, इस दौरान पुलिस और राहुल व कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच धक्का-मुक्की हुई।

राहुल गांधी रोड के किनारे जा गिरे :

पुलिस वाले सभी को पीछे धकेलने की कोशिश कर रहे थे और इसी में एक जोर का धक्का लगा और राहुल गांधी रोड के किनारे जा गिरे, उन्हें चोट भी आई। बाद में उठे और वहीं अपने कार्यकर्ताओं के साथ धरने पर बैठ गए। इस बीच पुलिस ने हल्का लाठीचार्ज भी किया, जिसमें कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को चोटें भी आईं। इसके बाद भी राहुल हाथरस जाने की जिद पर अड़े रहे जिसके बाद उन्हें हिरासत में ले लिया गया व अन्य कांग्रेसियों को हिरासत में लिया गया।

ग्रेटर नोएडा के इकोटेक वन थाने में नोएडा पुलिस ने राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पर FIR दर्ज की गयी है, साथ ही कांग्रेस के 203 नेताओं और कार्यकर्ताओं के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है। FIR में इन लोगों के खिलाफ कई संगीन धाराएं लगाई गई हैं। पुलिस ने कहा है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के काफिले में 50 से अधिक गाड़ियां शामिल थी, और 200 से ज्यादा कार्यकर्ता थे। तो वहीं दूसरी ओर पुलिस द्वारा राहुल गांधी के किए गए इस तरह के बर्ताव का लेकर कई नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है।

राहुल के साथ हुए बर्ताव देश के लोकतंत्र का गैंगरेप है:

हाथरस में गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी के साथ हुए कथित दुर्व्यवहार को लेकर शिवसेना नेता सांसद संजय राउत ने आलोचना करते हुए कहा, "जिस तरह से राहुल गांधी का कॉलर पकड़ा, धक्का मारा, गिराया ये एक तरह से इस देश के लोकतंत्र पर गैंगरेप है, इस गैंगरेप की भी जांच होनी चाहिए।"

राहुल गांधी से वहां की पुलिस ने जिस तरह बर्ताव किया उसका समर्थन देश में कोई नहीं कर सकता, राहुल गांधी इंदिरा गांधी के पोते हैं और राजीव गांधी के बेटे हैं ये हमें भूलना नहीं चाहिए, इन लोगों ने देश के लिए शहादत दी है।

संजय राउत

राहुल गांधी बोले-अन्याय के समक्ष मैं झुकूं नहीं:

राहुल गांधी के साथ हुए कथित दुर्व्यवहार के अगले दिन यानी आज उन्होंने अपने एक ट्वीट में गाँधी जयंती की शुभकामनाएँ दी, साथ ही हाथरस की ओर इशारा करते हुए उन्‍होंने अपने इस ट्वीट में ये लिखा- मैं दुनिया में किसी से नहीं डरूंगा... मैं किसी के अन्याय के समक्ष झुकूं नहीं, मैं असत्य को सत्य से जीतूं और असत्य का विरोध करते हुए मैं सभी कष्टों को सह सकूं। गाँधी जयंती की शुभकामनाएँ।

राहुल-प्रियंका के साथ जो बर्ताव हुआ वह अशोभनीय-निंदनीय :

हाथरस जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी व प्रियंका गांधी के साथ पुलिस व प्रशासन के व्यवहार की भर्त्सना करते हुए कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा, ''मुख्यमंत्री योगी और पूरे प्रशासन ने विपक्ष की आवाज दबाने में कोई कसर नहीं छोड़ी, राहुल गांधी व प्रियंका गांधी के साथ कल जो बर्ताव किया गया वह अशोभनीय है निंदनीय है। संस्कार, मानवता संविधान व कानून सबकी धज्जियां उड़ाई गयीं।''

पूरे देश में आज आक्रोश इस बात को लेकर है कि इस घिनौने जुर्म को करने वालों को बचाने का प्रयास उत्तर प्रदेश सरकार कर रही है। क्रूरता से सबूतों को नष्ट करने की कोशिश की जा रही है, रात के ढाई बजे पीड़िता का अंतिम संस्कार किया गया घरवालों को दूर रखा गया।

सचिन पायलट

शरद पवार ने की आलोचना :

वहीं, NCP पार्टी प्रमुख शरद पवार ने भी इस मामले पर आलोचना करते हुए कहा, उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा ग्रेटर नोएडा में रोके जाने के बाद कांग्रेस नेता पैदल ही हाथरस की ओर बढ़ने लगे थे, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें रोका। उत्तर प्रदेश पुलिस का राहुल के खिलाफ ‘बुरा बर्ताव’ यह उन लोगों के लिए निंदनीय है जिन पर कानून बनाए रखने का जिम्मा है लेकिन वे इस तरह से लोकतांत्रिक मूल्यों को कुचल रहे हैं।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co