RSS मोहन भागवत ने सांप्रदायिक हिंसा पर दिया बड़ा बयान, कहा- हिंसा से किसी का भला नहीं
RSS मोहन भागवत ने सांप्रदायिक हिंसा पर दिया बड़ा बयानSocial Media

RSS मोहन भागवत ने सांप्रदायिक हिंसा पर दिया बड़ा बयान, कहा- हिंसा से किसी का भला नहीं

सांप्रदायिक तनाव की घटनाओं के बीच आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) का बड़ा बयान आया है। भागवत ने कहा कि, हिंसा से किसी का लाभ नहीं होता।

राज एक्सप्रेस। देश में हाल में हुए सांप्रदायिक तनाव की घटनाओं के बीच आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) का बड़ा बयान आया है। भागवत ने कहा कि, हिंसा से किसी का लाभ नहीं होता। भागवत ने हिंदी विवाद पर भी बड़ी बात कही। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत ने कहा कि, हिंसा से किसी का हित नहीं होता है।

RSS प्रमुख मोहन भागवत ने कही यह बात:

आरएसएस चीफ ने अमरावती के एक कार्यक्रम में शामिल हुए। भागवत गुरुवार को अमरावती में संत कंवरराम के प्रपौत्र साई राजेशलाल के गद्दीनशीं होने के समारोह में मुख्य अतिथि थे। उन्होंने इस कार्यक्रम के दौरान कहा कि, "जिस समाज को हिंसा पसंद है, वो अपने अंतिम दिन गिन रहा है। भागवत ने ये भी कहा कि, हिंसा से किसी को फायदा नहीं होता। सभी समुदायों को एक साथ मानवता की रक्षा करनी चाहिए।"

अमरावती में एक कार्यक्रम के दौरान RSS प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि, "पूरा समाज एक साथ सोचे लेकिन अच्छा सोचे। सब मिलकर बुरा भी सोच सकते हैं, जिससे हिंसा होती है, अशांति फैलती है और ये नहीं होना चाहिए इसलिए सबका एक मन बने और अच्छा बने उसके लिए संतों का अनुसरण करना चाहिए।"

भागवत ने आगे कहा कि, "हिंसा से किसी का भला नहीं होता। जिस समाज को हिंसा प्रिय है, वे अब अपने अंतिम दिन गिन रहा है। हमें हमेशा अहिंसक और शांतिप्रिय होना चाहिए। इसके लिए सभी समुदायों को एकसाथ लाना और मानवता की रक्षा करना आवश्यक है। हम सभी को इस काम को प्राथमिकता के आधार पर करने की जरूरत है।"

बताते चलें कि, मोहन भागवत का यह बयान इन दिनों देश में हुई सांप्रदायिक हिंसा के बाद आया है। कुछ दिनों पहले रामनवमी और हनुमान जयंती के खास मौके पर कई राज्यों में हिंसा की घटनाएं सामने आईं थीं। इस मामले पुलिस जांच में जुटी हुई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.