Kerala Assembly Budget Session 2020
Kerala Assembly Budget Session 2020|Social Media
पॉलिटिक्स

केरल विधानसभा बजट सत्र में हंगामा-राज्‍यपाल का रास्‍ता किया ब्‍लॉक

केरल में विधानसभा बजट सत्र आज से शुरू हो गया, लेकिन केरल विधानसभा में भी CAA के खिलाफ UDF विधायकों ने जमकर हंगामा किया व राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान का रास्ता ब्लॉक कर 'वापस जाओ' के नारे लगाए।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

हाइलाइट्स :

  • केरल विधानसभा का बजट सत्र आज से शुरू

  • CAA के खिलाफ UDF विधायकों ने किया हंगामा

  • राज्‍यपाल आरिफ मोहम्मद खान का रास्‍ता किया ब्‍लॉक

  • असहमत होने के बावजूद राज्यपाल ने पढ़ा CAA का प्रस्ताव

राज एक्‍सप्रेस। वर्ष 2020 में केरल विधानसभा बजट सत्र (Kerala Assembly Budget Session 2020) का आज बुधवार से आगाज हो गया है, इस दौरान नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन केरल विधानसभा में भी देखने को मिला है।

CAA के खिलाफ विधानसभा में जमकर हंगामा :

केरल में विपक्षी दल कांग्रेस के नेतृत्व वाले UDविधायकों ने विधानसभा में जमकर हंगामा किया। इतना ही नहीं बल्कि इस दौरान राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान जब सदन में आए तो उनका रास्ता भी रोका गया और CAA के खिलाफ 'वापस जाओ' के नारे लगाते हुए बैनर दिखाये गये।

मार्शल ने कराया रास्ता खाली :

राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान जब मंच की ओर जाने लगे तो यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (UDF) के विधायकों ने रास्ता ब्लॉक कर दिया, तो हालात नियंत्रण में रखने के लिए राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान को सदन में मार्शल बुलाने पड़े, फिर मार्शल द्वारा रास्ता बनाकर राज्यपाल को सुरक्षित चेयर तक पहुंचाया। इसके बाद UDF विधायक सदन से वॉक आउट कर विधानसभा के बाहर धरने पर बैठ गए।

राज्यपाल ने पढ़ा CAA के खिलाफ प्रस्ताव :

केरल विधानसभा में मचे हंगामे के बीच केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने असहमत होने के बावजूद भी मार्शल की मौजूदगी में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ राज्य सरकार के प्रस्ताव को पढ़ा, हालांकि राज्यपाल ने पहले पढ़ने से मना कर दिया था, लेकिन मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के अनुरोध पर उनको यह प्रस्ताव पढ़ना पड़ा, प्रस्ताव पढ़ने से पहले उन्‍होंने बार-बार अपनी असहमति जाहिर की।

क्‍या बोले राज्यपाल ?

दरअसल, राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने कहा कि, 'मैं इस पैरा (CAA के खिलाफ) को पढ़ने जा रहा हूं, क्योंकि सीएम चाहते हैं कि मैं इसे पढ़ूं, हालांकि मेरा मानना है कि यह नीति या कार्यक्रम के तहत नहीं आता है। यह सरकार का विचार है और उनकी इच्छा का सम्मान करने के लिए मैं इस पैरा को पढ़ने जा रहा हूं।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co