Raj Express
www.rajexpress.co
कौन होगा दिल्ली में कांग्रेस का नया अध्यक्ष
कौन होगा दिल्ली में कांग्रेस का नया अध्यक्ष |Neha Shrivastava- RE
पॉलिटिक्स

दिल्ली कांग्रेस के नए अध्यक्ष तय करने में उलझनों के कई पेंच

दिल्ली में कांग्रेस का अध्यक्ष कौन होगा, ये एक बड़ा सवाल बनकर रह गया है, अभी तक कोई नाम तय नहीं हुआ हैं। वहीं AAP व BJP ने चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी हैं, लेकिन कांग्रेस में कोई खास हलचल नहीं हैं।

Sushil Dev

राज एक्‍सप्रेस। देशभर में जहां कांग्रेस पार्टी के अंदर सांगठनिक ढांचे को लेकर सब कुछ साफ दिखाई नहीं देता, उसी प्रकार कई प्रदेशों में संगठन की बागडोर दिए जाने को लेकर उलझनें कम नहीं हो रही है, दिल्ली विधानसभा चुनाव सिर पर है। सत्ताधारी दल आम आदमी पार्टी (AAP) और विपक्ष में खड़ी भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने चुनाव की तैयारियां भी शुरू कर दी हैं, लेकिन कांग्रेस पार्टी में कोई खास हलचल देखने को नहीं मिल रही हैं।

प्रदेश अध्यक्ष पर पार्टी का कोई निर्णय नहीं

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती शीला दीक्षित का करीब 2 महीने पहले निधन हुआ है, उसके बाद से आज तक प्रदेश अध्यक्ष को लेकर कांग्रेस पार्टी किसी भी निर्णय पर नहीं पहुंच सकी है।

ज्ञात हो कि, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन और शीला दीक्षित के बीच में अच्छा सामंजस्य नहीं था, जिसकी वजह से पार्टी के अंदर खींचतान बनी रहती थी। जब श्रीमती शीला दीक्षित ने पार्टी की मुखिया के तौर कमान संभाली तो वह एक नया फार्मूला लेकर आईं, उन्होंने अपने अलावा 3 कार्यकारी अध्यक्ष बनाए, जिसमें देवेंद्र यादव, हारून युसूफ और राजेश लिलौठिया का नाम शामिल हैं। शीला खुद ब्राहमण थीं और पंजाबी परिवार से ताल्लुक था। वहीं उन्होंने श्री यादव को पिछड़े, हारून को अल्पसंख्यक और लिलौठिया को दलित एवं अति पिछड़े वर्गों को साधने की नीयत से नियुक्त किया था।

पार्टी में बढ़ी उलझनें :

श्रीमती शीला दीक्षित अब इस दुनिया में नहीं रही तो कांग्रेस पार्टी के अंदर उलझनें और बढ़ गई हैं कि, किसको इस राजधानी शहर में पार्टी की कमान सौंपी जाए। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी एवं पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार अपने वरिष्ठ नेताओं से इस बारे में विमर्श कर रहे हैं, मगर कोई नतीजा नहीं निकल रहा है। बताया जा रहा है कि, पार्टी के अंदर गुटबाजी और सामंजस्य की कमी के कारण ठोस नतीजे नहीं निकल पा रहे हैं।

इन नेताओं का नाम चर्चा में :

एक बार यह भी चर्चा हुई कि, नवजोत सिंह सिद्धू या अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा को पार्टी की कमान सौंपी जाए, मगर इस कवायद में कोई दम नहीं दिखा, फिर कुछ पूर्व सांसद और विधायकों के नाम भी सामने आए। तीन पूर्व प्रदेश अध्यक्ष जय प्रकाश अग्रवाल, सुभाष चोपडा और अरविंदर सिंह लवली के नाम फिर चलाए गए, लेकिन लवली के कुछ दिनों तक अचानक भाजपा में चले जाने से पार्टी के नेता और कार्यकर्ता नाराज हो गए।

इसके अलावा एक नाम दिल्ली के पूर्व मंत्री डा. एके वालिया का भी आ रहा है। वालिया कांग्रेस के ऐसे नेता हैं, बहुत ज्यादा विवादों में नहीं रहे और जिन्हें हर कोई पसंद भी करता है। दूसरी ओर शीला दीक्षित की मौत के बाद अजय माकन फिर सक्रिय हो गए हैं। पिछले दिनों हाशिए पर जा चुके माकन ने मीडिया में बयान बाजियां शुरू कर दी हैं। बिजली के मुददे पर दिल्ली की आप सरकार की खिंचाई करते हुए जब वह सामने आए तो कार्यकर्ताओं को लगने लगा कि, एकबार फिर माकन को ही कमान सौंपी जा सकती है। बहरहाल, वह पार्टी के अंदर दिल्ली का चेहरा तो हैं हीं, हालांकि इस फैसले की जल्द उम्मीद है, मगर कौन बनेगा दिल्ली कांग्रेस का अध्यक्ष, एक बड़ा सवाल बनकर रह गया है।