लाउडस्पीकर पर बोले शिवपाल यादव- अचानक शुरू हुए इस फसाद की जड़ कौन?
लाउडस्पीकर पर बोले शिवपाल यादव Social Media

लाउडस्पीकर पर बोले शिवपाल यादव- अचानक शुरू हुए इस फसाद की जड़ कौन?

लाउडस्पीकर को लेकर समाजवादी पार्टी के विधायक शिवपाल यादव ने कहा- लाउडस्पीकर के आविष्कार के बहुत पहले से किसी ने इस पर सवाल नहीं उठाया। ईश्वर न तब बहरा था और न अब बहरा है।

उत्‍तर प्रदेश, भारत। महाराष्ट्र में लाउडस्‍पीकर को लेकर सुलगी राजनीति उत्‍तर प्रदेश तक पहुंच गई है। इस दौरान UP की योगी सरकार द्वारा धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकरों पर रोक लगाने को लेकर कड़े आदेश भी जारी किए जा चुके हैं, इस बीच आज शुक्रवार को लाउडस्पीकर को लेकर समाजवादी पार्टी के विधायक शिवपाल यादव का बड़ा बयान आया है।

बुनियादी सवाल है कि अचानक शुरू हुए इस फसाद की जड़ कौन है?

दरअसल, इन दिनों देशभर में लाउडस्पीकर का मामला काफी चर्चा का विषय बना हुआ है और इस मामले पर राजनिति भी गरमाई हुई है। लाउडस्पीकर पर नेताओं का रिएक्‍शन का सिलसिला जारी है। अब समाजवादी पार्टी के विधायक शिवपाल यादव ने इस अंदाज में बयान दिया और कहा कि, ''बुनियादी सवाल है कि अचानक शुरू हुए इस फसाद की जड़ कौन है?''

शिवपाल यादव ने किया ट्वीट :

इस दौरान शिवपाल यादव ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट साझा करते हुए लिखा- सैंकड़ों सालों से देश की गंगा-जमुनी तहजीब में भजन,कीर्तन,अजान व गुरुवाणी के स्वर सहअस्तित्व के साथ गूंजते रहें हैं। लाउडस्पीकर के आविष्कार के बहुत पहले से किसी ने इस पर सवाल नहीं उठाया। ईश्वर न तब बहरा था और न अब बहरा है, बुनियादी सवाल है कि अचानक शुरू हुए इस फसाद की जड़ कौन है?

बता दें कि, सपा विधायक शिवपाल यादव के इस बयान को अब कई एंगल से देखा जा रहा है। एक तरफ शिवपाल पर भाजपा के समर्थन का आरोप, तो वहीं उनके इस बयान से शिवपाल विरोधी खेमा सरकार के अभियान को क्लीन चिट दिए जाने के रूप में दिखा रहा है। इसके अलावा शिवपाल के बयान को दूसरा वर्ग सरकार के खिलाफ करार दे रहा है।

बताते चलें कि, धार्मिक स्थलों पर जोर-जोर से बजने वाले लाउडस्पीकर के खिलाफ UP में बड़े पैमाने पर अभियान चल रहा है। निर्देश के तहत अब तक धार्मिक स्थलों पर लगाए गए 21,963 लाउडस्पीकर हटा दिए गए हैं। वहीं, 42,332 लाउडस्पीकर की आवाज धीमी कराई गई है साथ ही धार्मिक स्थलों पर नए सिरे से लाउडस्पीकर लगाने की अनुमति नहीं देने का निर्णय लिया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.