Raj Express
www.rajexpress.co
Subhas Chandra Bose
Subhas Chandra Bose|Priyanka Sahu -RE
पॉलिटिक्स

सच्‍चाई-कर्तव्‍य-बलिदान की जीती जागती मिसाल 'सुभाष चंद्र बोस'

देश को आजाद कराने में अहम भूमिका निभाने वाले प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस की आज 123वीं जयंती पर गर्व से उन्हें याद करते हुये, उनके बारे में कुुुछ रोचक बातों पर नजर डालते हैं...

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। हर भारतवासी ने 'तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा' यह नारा सुना ही होगा, जो स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने दिया था। साथ ही उनके द्वारा दिया गया 'जय हिन्द' का नारा भी भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया है। आइये आज अर्थात 23 जनवरी को सुभाष चंद्र बोस की 123वीं जयंती पर हम सभी उन्‍हें (Subhas Chandra Bose) गर्व से याद करें, जिन्‍होंने अपना पूरा जीवन भारत की आजादी के लिए समर्पित कर दिया।

जाने सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी :

देश को आजाद कराने में कई महान नेताओं ने अपना योगदान दिया है, उनके से एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस भी थे, जिनका जन्म 23 जनवरी, 1897 को ओडिशा में एक संपन्न बंगाली परिवार में हुआ था, वह अपने माता-पिता के 14 बच्चों में 9वीं संतान थे।

इंग्लैंड में सुभाष चंद्र बोस ने साल 1920 में सिविल सर्विस की परीक्षा पास कर ली थी, लेकिन 1921 में भारत में बढ़ती राजनीतिक गतिविधियों का समाचार सुनते ही भारत लौट आए और उन्होंने सिविल सर्विस छोड़ दी। इसके बाद नेताजी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के साथ जुड़ गए व सर्वोच्च प्रशासनिक सेवा को छोड़कर देश को आजाद कराने की मुहिम का हिस्सा बन गए थे, जिसके बाद ब्रिटिश सरकार ने उनके खिलाफ कई मुकदमे दर्ज किए एवं सुभाष चंद्र बोस को अपने जीवन में 11 बार जेल जाना पड़ा था।

PM मोदी ने इस अंदाज में किया याद :

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने आजाद हिंद फौज के संस्थापक रहे सुभाष चंद्र बोस को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी, इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने अपने एक ट्वीट में सुभाष चंद्र बोस के पिता की डायरी का जिक्र करते हुए लिखा- ''23 जनवरी 1897 को जानकीनाथ बोस ने अपनी डायरी में लिखा-एक बेटे का दोपहर में जन्म हुआ। यह बेटा भविष्य में भारत का वीर स्वतंत्रता सेनानी बना। ऐसा चिंतक बना, जिसने अपनी पूरी जिंदगी भारत की आजादी के लिए समर्पित कर दी। हमें उनकी जयंती पर उनका स्मरण करते हुए गर्व का अनुभव हो रहा है।''

साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने अपने ट्विटर अकाउंट से एक अन्‍य ट्वीट में नेताजी सुभाष चंद्र बोस को याद करते हुए इस अंदाज में एक वीडियो भी शेयर किया है, जो आप यहां देख सकते हैं-

राष्ट्रपति जी ने दी श्रद्धांजलि :

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी नेताजी सुभाष चंद्र बोस को उनकी जयंती पर याद करते हुए ट्वीट में लिखा- ''वह हमारे सबसे लोकप्रिय राष्ट्रनायकों और स्वतंत्रता संग्राम के महानतम सेनानियों में से हैं। उनके कहने पर, लाखों भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में कूद पड़े और अपना सब कुछ बलिदान किया। उनकी वीरता और देशभक्ति हमें प्रेरणा देती रहेगी।''

भारत के स्वतन्त्रता संग्राम के अग्रणी नेता सुभाष चन्द्र बोस द्वारा कहे गए कुछ विचार-

  • याद रखिए सबसे बड़ा अपराध अन्याय सहना और गलत के साथ समझौता करना है।

  • जिस व्यक्ति के अंदर 'सनक' नहीं होती वो कभी महान नहीं बन सकता, लेकिन उसके अंदर, इसके आलावा भी कुछ और होना चाहिए।

  • ये हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी स्वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकाएं...हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आज़ादी मिले, हमारे अंदर उसकी रक्षा करने की ताकत होनी चाहिए।

  • मेरा अनुभव है कि, हमेशा आशा की कोई न कोई किरण आती है, जो हमें जीवन से दूर भटकने नहीं देती।

  • सफलता, हमेशा असफलता के स्‍तंभ पर खड़ी होती है।

  • जो अपनी ताकत पर भरोसा करते हैं, वो आगे बढ़ते हैं और उधार की ताकत वाले घायल हो जाते हैं।

  • हमारा सफर कितना ही भयानक, कष्टदायी और बदतर हो, लेकिन हमें आगे बढ़ते रहना ही है। सफलता का दिन दूर हो सकता है, लेकिन उसका आना अनिवार्य ही है।

  • मां का प्यार सबसे गहरा होता है- स्वार्थरहित इसको किसी भी तरह से मापा नहीं जा सकता।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।