Raj Express
www.rajexpress.co
बाला साहेब ठाकरे
बाला साहेब ठाकरे|Social Media
पॉलिटिक्स

ठाकरे परिवार की परंपरा टूटी-चुनाव लड़ेंगे 'आदित्य'

53 सालो में शिवसेना की सीट से ठाकरे परिवार में किसी ने भी चुनाव नहीं लड़ा है, जानिए इस रिपोर्ट में महाराष्ट्र के इस राजनैतिक परिवार की कहानी

Rishabh Jat

एक भी चुनाव नहीं लड़ने के बावजूद महाराष्ट्र की राजनीति में ठाकरे परिवार का हमेशा से दबदबा रहा है। बाला साहेब ठाकरे ने 19 जून 1966 को शिवसेना बनाई। 53 सालो में शिवसेना की सीट से ठाकरे परिवार में किसी ने भी चुनाव नहीं लड़ा है।

शिवसेना के शुरूआती दौर में बाला साहेब ठाकरे
शिवसेना के शुरूआती दौर में बाला साहेब ठाकरे
Social Media

शिवसेना की स्थापना करने वाले बाला साहेब ठाकरे ने राज्य में पार्टी को मजबूत किया लेकिन वे खुद कभी चुनावी अखाड़े में नहीं उतरे। बाला साहेब के निधन के बाद पार्टी की कमान संभालने वाले शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को लेकर भी शुरूआत में चुनाव लड़ने की खबरें आईं लेकिन उद्धव ठाकरे ने बाला साहेब की तरह कभी चुनाव नहीं लड़ा।

2019 महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में शिवसेना ने 'आदित्य ठाकरे' को मुंबई की वर्ली सीट से चुनाव लड़ाने का फैसला किया है। ये पहली बार है, जब ठाकरे परिवार का कोई सदस्य चुनावी मैदान में उतर रहा है।

आदित्य ठाकरे, बाला साहेब, उद्धव ठाकरे
आदित्य ठाकरे, बाला साहेब, उद्धव ठाकरे
Social Media

बाला साहेब ठाकरे के बेटे उद्धव ठाकरे मौजूदा समय में शिवसेना के अध्यक्ष हैं। भतीजे राज ठाकरे ने शिवसेना से अपना राजनैतिक करियर शुरू किया और पारिवारिक मनमुटाव के बाद पार्टी से अलग होकर महाराष्ट्र निर्माण सेना (मनसे) का गठन किया।

 बाला साहेब, उद्धव ठाकरे, राज ठाकरे
बाला साहेब, उद्धव ठाकरे, राज ठाकरे
Social Media

उद्धव के बेटे आदित्य ठाकरे भी राजनीति में सक्रिय हैं। परिवार की चुनाव न लड़ने की परंपरा से अलग हटकर आदित्य इस बार विधानसभा चुनाव लड़ सकते हैं। पार्टी में वह नंबर दो की हैसियत रखते हैं। महाराष्ट्र में सत्ता में आने पर उपमुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार होंगे।

आदित्य ठाकरे
आदित्य ठाकरे
Social Media

इस बार महाराष्ट्र में ठाकरे परिवार सीधे तौर पर चुनावी मैदान में है। दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना के गठबंधन ने विपक्ष की समस्या बढ़ा दी है।