Raj Express
www.rajexpress.co
नगरीय निकायों को सशक्त होना जरूरी : मुख्यमंत्री कमल नाथ
नगरीय निकायों को सशक्त होना जरूरी : मुख्यमंत्री कमल नाथ |Social Media
पॉलिटिक्स

नगरीय निकायों को सशक्त होना जरूरी : मुख्यमंत्री कमलनाथ

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने नगर पालिका एवं नगर परिषद के अध्यक्षों को सन्देश देते हुए कहा कि, नए शहरीकरण के लिए नगरीय निकायों का सशक्त होना जरूरी। जानिए और क्या बोले मुख्यमंत्री।

Rishabh Jat

राज एक्सप्रेस। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि, बढ़ते शहरीकरण को देखते हुए नगरीय निकायों को सशक्त बनाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि, स्थानीय संस्थाओं के चुने हुए जन-प्रतिनिधि तेजी से हो रहे परिवर्तन को पहचान और नई सोच और नई दृष्टि से दूरदर्शिता के साथ अपने शहरों का विस्तार करें। कमलनाथ बुधवार को मंत्रालय में नगर-पालिका और नगर-परिषद के अध्यक्षों की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि, यह समय है, जब हम अपने छोटे-बड़े शहरों के भविष्य की जरूरतों के मुताबिक नियोजन करें। परिवर्तन के इस दौर में नागरिकों की अपेक्षाएँ और उम्मीद भी बढ़ी हैं। आवश्यकता इस बात की है कि, हम अपनी कार्य-शैली और संस्कृति में परिवर्तन लाएं और लोगों की आशाओं के अनुरूप शहरों का नियोजित विकास करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि नगरीय-निकायों को सरकारी मदद के साथ ही अपनी आय के नए स्त्रोत भी विकसित करना होंगे। इसके लिए वे नई गतिविधियों की शुरुआत करें।

कमलनाथ ने केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री रहते हुए पूरे देश के शहरों के विकास को एक नई दिशा और कई योजनाएँ दी। सिंह ने कहा कि, वे सरकार की नगरीय विकास नीतियों को प्रभावी रूप से क्रियान्वित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। जयवर्धन सिंह ने कहा कि, बड़े शहरों के साथ ही छोटे शहरों के विकास के लिए सरकार नई दिशा दृष्टि से काम कर रही है। पीने का पानी लोगों का अधिकार है इसके लिए सरकार 'राइट टू वाटर' की नीति बनाने जा रही है। शहरों की पहचान जिन गतिविधियों से है, उनका भी संरक्षण किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले एक साल में नई सरकार ने अपने काम से नीयत और नीति का परिचय दिया है। वित्तीय संकट था। किसानों की आत्म-हत्या, बेरोजगारी और महिलाओं के साथ अत्याचार में प्रदेश; देश में नंबर-1 था। इन चुनौतियों के बीच सरकार ने बड़े फैसले लिए। ऋण माफी के वचन को पूरा करते हुए 21 लाख किसानों के कर्ज माफ किए गए। कर्ज माफी की प्रक्रिया में कई ऐसी तकनीकी दिक्कतें आई जिनके कारण हमारे सामने कई संकट खड़े हुए। इन सबका निदान हमने किया। इसी माह से हम कर्ज माफी का दूसरा चरण शुरू करने जा रहे हैं। बेरोजगारी की चुनौती से निपटने के उदे्दश्य से निवेश के लिए विश्वास की वापसी की है। कमलनाथ ने कहा कि, हमारे यह काम जनता तक पहुँचाने में नगरीय निकायों के पदाधिकारी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं। बता दें , कर्जमाफी और बेरोजगारी इन्ही दो मुद्दों पर कांग्रेस को विधानसभा चुनाव में जीत मिली थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।