जम्मू में 5 मिनट के अंदर 2 ब्लास्ट साबित करते हैं पाकिस्तान की नीयत
जम्मू में 5 मिनट के अंदर 2 ब्लास्ट साबित करते हैं पाकिस्तान की नीयत Social Media

जम्मू में 5 मिनट के अंदर 2 ब्लास्ट साबित करते हैं पाकिस्तान की नीयत

एक के बाद एक सीमा पर और सेना के कैंपों पर हमला बताता है कि वह घाटी में शांति से हैरान है। उसकी छद्म कोशिशें माहौल बिगाडऩे की हैं। पाक कुछ बड़ा करे, इससे पहले ही सेना को एक्शन लेना होगा।

जम्मू-कश्मीर मुद्दे पर 24 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक के बाद पाकिस्तान ने जिस तरह की प्रतिक्रिया दी, उसमें उसकी खीझ स्पष्ट रूप से दिखाई दे रही थी। पाक के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने एक के बाद एक कई बयान दिए, सभी का सार यही था कि पाकिस्तान किसी भी सूरत में कश्मीर में अमन चैन सुधरते नहीं देख सकता। इस बैठक के दो दिन बाद ही पाकिस्तान की तरफ से कायराना हरकत सामने आ गई है। दिन में श्रीनगर के बर्बर शाह इलाके में पुलिस और सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स की जॉइंट पार्टी पर आतंकियों ने ग्रेनेड से हमला कर दिया। इसमें जवानों को तो नुकसान नहीं हुआ पर एक महिला समेत चार नागरिक घायल हो गए। इनमें से एक ने बाद में दम तोड़ दिया। मरने वाले की पहचान मुदासिर अहमद के रूप में हुई है। घटना शाम छह बजे की है। इसके बाद देर रात जम्मू में एयरफोर्स स्टेशन के टेक्निकल एरिया में 5 मिनट के अंदर 2 ब्लास्ट साबित करते हैं कि पाकिस्तान की नीयत में क्या है।

हालांकि, पाकिस्तान ने अब तक इस पर कुछ कहा नहीं है, मगर धमाके में जिस ड्रोन का इस्तेमाल किया गया, उसकी तकनीकी से वह पल्ला नहीं झाड़ सकता। बता दें कि जम्मू एयरफोर्स स्टेशन के टेक्निकल एरिया के पास धमाका होने से एयरफोर्स के दो जवानों को हल्की चोटें आई हैं। यहां 5 मिनट के अंतराल पर दो ब्लास्ट हुए। पहला ब्लास्ट परिसर की बिल्डिंग की छत पर, दूसरा नीचे हुआ। विस्फोट के लिए दो ड्रोन इस्तेमाल किए गए थे। हमलावरों का पता नहीं चल पाया है, आशंका है कि विस्फोट वाले इलाके में खड़े एयरक्राफ्ट उनके निशाने पर थे। धमाके की आवाज काफी दूर तक सुनाई दी। घटना शनिवार आधी रात करीब 1.45 बजे की है। जहां यह घटना हुई है, उसी कैंपस में जम्मू का मुख्य एयरपोर्ट भी आता है। वायुसेना, नौसेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस के अफसरों ने मौके पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया है। वायुसेना की एक हाईलेवल टीम इस घटना की जांच में लगी है।

बताया जा रहा है कि इस साजिश को अंजाम देने के लिए पी-16 ड्रोन का इस्तेमाल किया गया है। ये ड्रोन काफी नीचे उड़ सकता है। इसकी वजह से कई बार यह रडार की नजर से भी बच जाता है। ड्रोन का संभावित लक्ष्य एक विमान था। हवाई मार्ग से एयरपोर्ट से मकवाल बॉर्डर की दूरी करीब पांच किलोमीटर है। इसके साथ यह बात भी सामने आ रही है कि ड्रोन में जीपीएस लगा था। आशंका जताई जा रही है कि इस ड्रोन को सीमा पार से हैंडल किया जा रहा था। ड्रेान के जरिए सीमा पर पाकिस्तान पहले भी हरकत करता रहा है। कुछ दिन पहले ही ऐसे कई ड्रोन पकड़े गए हैं, जो आतंकियों तक हथियार पहुंचा रहे थे। इन हथियारों पर मेड इन पाकिस्तान की मुहर भी थी। इन सभी घटनाओं को देखें तो पता चलेगा कि पड़ोसी मुल्क भारत में कुछ अच्छा होते नहीं देख सकता।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co