Raj Express
www.rajexpress.co
प्रदूषण पर कोर्ट की सख्ती सही
प्रदूषण पर कोर्ट की सख्ती सही|Social Media
राज ख़ास

प्रदूषण पर कोर्ट की सख्ती सही

सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद क्या बदलेगी दिल्ली की तस्वीर? क्या इस मामले पर नियम व्यवस्था होगी मजबूत?

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस। दिल्ली में वायु प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने फिर तल्ख टिप्पणी की है। कोर्ट ने सरकार और अफसरों को जिस तरह फटकार लगाई, वह सही है। मगर सवाल यह भी है कि क्या इससे अफसर सुधर जाएंगे, क्योंकि पिछले साल भी तो उन्हें फटकार मिली थी।

दिल्ली में वायु प्रदूषण से निपटने के लिए सुप्रीम कोर्ट को बार-बार सख्ती दिखाने को मजबूर होना पड़ रहा है। ऐसा इसलिए है कि जिन महकमों के पास इस काम की जिम्मेदारी है, वे ठीक से अपना काम नहीं कर रहे। सोमवार को शीर्ष अदालत ने इस बात पर गहरी नाराजगी व्यक्त की कि, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ऐसे अफसरों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं कर रहा है जो काम में लापरवाही बरत रहे हैं और प्रदूषण से संबंधित शिकायतों की अनदेखी कर रहे हैं। यह गंभीर मामला है। इसलिए अदालत को कड़ा रुख अपनाना पड़ा। शीर्ष अदालत ने साफ कहा कि अगर कोई भी अधिकारी या कर्मचारी प्रदूषण संबंधी शिकायत मिलने के बावजूद कदम नहीं उठाता है तो उसके खिलाफ केस चलाया जाना चाहिए। अदालत की नाराजगी इस बात पर ज्यादा थी कि प्रदूषण से दिल्ली में जब लगातार हालात बिगड़ रहे हैं तो संबंधित महकमे और अधिकारी लापरवाही क्यों बरत रहे हैं। कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि, दिल्ली का दम हर साल घुट रहा है और हम कुछ नहीं कर रहे हैं। हर साल 10-15 दिनों के लिए ऐसा होता है। सभ्य देश में ऐसा नहीं होता है। जीवन का अधिकार सबसे अहम है।