अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप|Pankaj Baraiya - RE
राज ख़ास

डोनाल्ड ट्रंप अब तालिबान के साथ क्या करेंगे ?

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कब क्या कर देंगे या बोल देंगे इसके बारे में कोई भी भविष्यवाणी जोखिम भरी होगी।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस। अफगानिस्तान में तालिबानों के वर्चस्व का मतलब पाकिस्तान का परोक्ष आधिपत्य। भारत इसी का तोड़ निकालने में जुटा है। तालिबान से वार्ता के बावजूद वहां हिंसक गतिविधियां जारी रहीं। लिहाजा, ट्रंप बातचीत के दौर से बाहर आए गए। अब देखना होगा कि अमेरिका आगे क्या करता है। लेकिन तत्काल भारत और पूरे क्षेत्र के लिए यह राहत की खबर है। हमारा लक्ष्य तालिबान को परास्त करने का है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कब क्या कर देंगे या बोल देंगे इसके बारे में कोई भी भविष्यवाणी जोखिम भरी होगी। बावजूद इसके तालिबान से बातचीत को खत्म करने की उनकी घोषणा वाकई राहतकारी है। जब पिछले दो अगस्त को घोषणा हुई कि, अमेरिका और तालिबान के बीच समझौते को अंतिम रूप दे दिया गया है तो पूरी दुनिया में भविष्य को लेकर कई प्रकार की आशंकाओं के स्वर उभरने लगे। उस घोषणा के अनुसार अमेरिका नाटो सहित अपनी फौजों को वापस कर लेगा। ट्रंप प्रशासन के अंदर इस बात पर सहमति है कि हमें किसी तरह अफगानिस्तान से निकल भागना है। इसीलिए जल्मे खलीलजाद को विशेष प्रतिनिधि बनाकर भेजा गया एवं वो पिछले दिसंबर से कतर की राजधानी दोहा में तालिबान के साथ नौ दौर की बातचीत के बाद समझौते के एक मसौदे पर पहुंचे थे। साफ लगने लगा था कि अमेरिका और तालिबान इस पर हस्ताक्षर करने ही वाले हैं। इसी बीच अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने घोषणा की कि, वे इस समझौते से सहमत नहीं हैं। हालांकि तब भी विशेषज्ञ यह मान रहे थे कि ट्रंप विदेशमंत्री को दरकिनार कर स्वयं हस्ताक्षर कर देंगे। तत्काल ट्रंप ने वही किया जो उनके विदेश मंत्री चाहते थे। प्रश्न है कि अब आगे क्या?

Raj Express
www.rajexpress.co