Raj Express
www.rajexpress.co
कार्बन उत्सर्जन से गरमाती धरती
कार्बन उत्सर्जन से गरमाती धरती|VOX
राज ख़ास

कार्बन उत्सर्जन से गरमाती धरती

ब्रिटेन में मौसम विभाग के कार्यालय और एक्सेटर विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार, कार्बन डाईऑक्साइड के उत्सर्जन के कारण 2019 को साल 2018 के मुताबिक गर्म साल बताया जा रहा है।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस, भोपाल। ब्रिटेन में मौसम विभाग के कार्यालय और एक्सेटर विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि, इस साल कार्बन डाईऑक्साइड के उत्सर्जन में और भी अधिक तेजी आ सकती है। अभी हाल ही में खबर आई थी कि, साल 2018 सबसे गर्म साल था। अब 2019 को उससे भी गर्म साल बताया जा रहा है, तो यह आने वाले कल के लिए चेतावनी है। बेहतर है कि, हम बहस में पड़ने के बजाय राहत के उपाय तलाशें।

बढ़ते प्रदूषण के बीच बढ़ रही वैश्विक चिंता के बीच यह खुलासा और भी परेशान करने वाला है कि, इस साल कार्बन डाईऑक्साइड के उत्सर्जन में और भी अधिक तेजी आ सकती है। गौरतलब है कि, यह खुलासा ब्रिटेन में मौसम विभाग के कार्यालय और एक्सेटर विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने किया है। उन्होंने शोध में पाया है कि, हवाई स्थित मौना लोआ वेधशाला में वायुमंडल में कार्बन डाईऑक्साइड की सघनता में 1958 से करीब 30 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है। इसका मुख्य कारण जीवाश्म ईंधनों, वनों की कटाई व सीमेंट उत्पादन है। मौसम विज्ञान कार्यालय ने आशंका जाहिर की है कि, इस साल कार्बन डाईऑक्साइड का उत्सर्जन वर्ष 2018 की तुलना में 2.75 भाग प्रति दस लाख अधिक होगा। शोधकर्ताओं की मानें तो, वर्ष 2019 में औसत कार्बन डाईऑक्साइड सघनता 411.3 पीपीएम रहने की संभावना है। अगर ऐसा हुआ तो 2019 सबसे गर्म साल रहेगा।