राशिफल 2021:क्या कहते हैं आपके ग्रह-नक्षत्र और किन-किन चीज़ों से रहें सावधान
राशिफल 2021Social Media

राशिफल 2021:क्या कहते हैं आपके ग्रह-नक्षत्र और किन-किन चीज़ों से रहें सावधान

अंतरराष्ट्रीय भौगोलिक एक राजनीतिक परिदृश्य में वर्ष 2021 का चित्रांकन तृतीय विश्वयुद्ध के रूप में देखा जा रहा है?

अंतरराष्ट्रीय भौगोलिक एक राजनीतिक परिदृश्य में वर्ष 2021 का चित्रांकन तृतीय विश्वयुद्ध के रूप में देखा जा रहा है? तृतीय विश्व युद्ध वर्ष 2021 में काल्पनिक उत्तरवर्ती है जिसका स्वरूप प्रमाणिक व विनाशकारी है। यह सांकेतिक है? तृतीय विश्व युद्ध विश्व की दहलीज पर खड़ा नजर आ रहा है? यह खौफनाक वाह है? तृतीय विश्व युद्ध की तपिश में झुलस रहा है विश्व मानव। यह एक अकल्पनीय सोच है। ज्योतिषीय गणनाक्रम में ऐसे कोई कुयोग दूर-दूर तक नजर नहीं आते। 31 दिसंबर 2020 की रात्रि के 12.01 मिनट, जब एक जनवरी 2021 का शुभारंभ हो जाएगा उस समय की कुंडली बनाकर उसका विश्लेषण कर सुविज्ञ पाठकों को वर्ष 2021 में विश्व के भौगोलिक मानचित्र पर कौन-कौन की शुभ-अशुभ घटनाएं घटित हो सकती हैं, इस दृश्यांकन करने का प्रयास कर सकते हैं। तेल उत्पादक क्षेत्रों में कार्यरत 90 लाख व्यक्तियों की जीविका संकट में आ सकती है। क्योंकि इस्लामिक राष्ट्र युद्ध का आह्वान करते नजर आ रहे हैं? या यह कल्पना विध्वंसक नहीं होगी कि आंतकवाद की शरणस्थली इन्हीं राष्ट्रों में पल्लवित और पुष्पित हो रही है। यदि इन्हीं राष्ट्रों के परमाणु हथियार उन्हीं के तेलीय क्षेत्रों में विस्फोटक स्थिति में बदल गये तो न तेल के कुंए रहेंगे और न ही अरबों की खरबों की संपत्ति के अवशेष? विश्व के समस्त राष्ट्र नायक एकजुट होकर शांति की पहल करें।

स्वतंत्र भारत का जन्म चक्र कालसर्प योग से ग्रसित है। पराक्रम भवन में पंचग्रहीय योग। गजकेशरी योग से लेकर विश्व रंगमंच का ‘कमांडर इन चीफ’ बनने के योग से लेकर विश्वजन समूह कर नेतृत्व करने की क्षमता का पुरोधा बनेगा। वर्ष 2021 विश्व मानव समूह को किन किन घटनाओं-दुर्घटनाओं के प्रभाव से ग्रसित करता दृष्टिगोचर नजर आएगा। जन्म लग्न कन्या, नक्षत्र हस्त, राशि कर्क, नक्षत्र पुष्य। इस वर्ष का सबसे बड़ा कुप्रभाव धर्म बांटेगा लोगों को, काले और सफेद व दोनों के पीछे लाल, पीले अपने-अपने अधिकारों के लिए लड़ेंगे। रक्तपात, बीमारियां, अकाल, युद्ध और भूख से मानवता बेहाल होगी।

प्रथम विश्व युद्ध और द्वितीय विश्व युद्ध यूरोप की सरजमीं पर लड़ा गया। किंतु तृतीय विश्व युद्ध को हम वर्षों पूर्व की गई भविष्यवाणी को दृष्टिगत रखते हुए विचार करें। ‘संवत् लागे बीसाए मूसा बचे न ईसा’ तो इस भविष्यवाणी को तो 57 वर्ष शेष हैं, क्योंकि वर्ष 2021 में संवत् 1942.43 ही रहेगा। 2021 में मध्य पूर्व तथा यूरोपीय राष्ट्रों के मध्य ईसाई तथा मुस्लिम राष्ट्रों में जुड़े जातीय समूह में युद्ध होने की संभावना से कतई इंकार नहीं किया जा सकता। भारत की सरजमीं इन क्षेत्रीय युद्धों की लक्ष्मण रेखा से मूलत: दूर ही रहेगी किंतु पाकिस्तान-चीन की जुगलबंदी छुटपुट घटनाओं से प्रभावित करती नजर आएगी। विश्व का आतंकी समुदाय अपनी आसमानी ताकत से आग बरसा कर मानव समाज की तबाही का सबब बनेगा। प्राचीन अस्तित्व वाले अनेक राष्ट्र अपने अस्तित्व की रक्षा करने में असमर्थ नजर आएंगे? जहां तक चीन का सवाल है, वह भारत से पहाड़ों पर नहीं लड़ेगा वह हिंद महासागर को युद्ध स्थल बनाने का षड्यंत्र रचेगा, किंतु विजयश्री का वरण भारत ही करेगा।

विश्व के अधिकांश राष्ट्रों की आर्थिक स्थिति बदहाल रहेगी, फिर चाहे वह अमेरिका हो या चीन अथवा रूस। खाड़ी देश से लगा मुस्लिम राष्ट्रों का आर्थिक ढांचा भी चरमदाता नजर आएगा। दक्षिण एशिया में भारत से लेकर पाकिस्तान, श्रीलंका आदि सभी राष्ट्रों की आर्थिक स्थिति भी दुर्बलता का शिकार रहेगी।

2021 प्राकृृतिक आपदाओं जैसे भूकंप, सुनामी, आकाशीय दुर्घटनाएं शासनाध्यक्ष, राष्ट्राध्यक्षों में से कुछ राजपुरुष पदों से हट सकते हैं। विश्व के कुछ विशिष्ट जनों की इस दुनिया से रूकसती, अति वर्षा से जन-धन पशु हानि। आधुनिक शास्त्रों के द्वारा आंतकवादी विश्व के अनेक नगरों ग्रामों को तहत-नहस करने हेतु प्रयासरत रहेंगे कहीं-कहीं किंचिंत मात्र सफल भी होगें। अन्तोगत्वा राष्ट्रों की सामूहिक शक्ति उनके विनाश का कारण भी बनेगी। ग्रहीय आधार पर भारत की आर्थिक स्थिति में 26.04.2021 से 12.07.2021 के मध्य सुधार के अवसर परिलक्षित हो रहे हैं। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भाग्येश की महादशा चन्द्रमाद्ध दिसंबर, 2021 तक चलेगी, जो उन्हें अन्तरराष्ट्रीय प्रतिष्ठा दिलाने वाली रहेगी। विपरीत राजयोग भी प्रभावित करेगा, वर्ष 2021 में उन्हें अपने स्वास्थ्य और शत्रु विरोध में सावधानी आवश्यक है।

कोरोना सरीखी महामारी वर्ष 2021 में कमोवेश प्रभावी ही बनी रहेगी। विश्व मानव यदि सावधानी नहीं बरतेगा, तो अनावश्यक रोगी बने रहने का दावतनामा देगा। अर्थ व्यवस्था के कमजोर रहने से विकास कार्य, बेरोजगारी तथा राजस्व की कम आमद मानव जीवन को प्रभावित करेगी। मितव्ययी बने, वस्तुओं के परिग्रह से बचें, सीमित साधनों में परिवार के साथ खुशहाली बनाए रखें। भूमि-भवन के मूल्यों में गिरावट बनी रहेगी। शेयर बाजार से यथासंभव दूरी बनाकर रखे। ऋणी न बने तो स्वस्थ्य और संपन्न रहेंगे। 2021 में पश्चिम बंगाल के चुनावों में ममता बनर्जी पुन: मुख्यमंत्री बनेगी।

मेष राशि: इस राशि वालों के लिए यह वर्ष जीवन यात्रा में अनेक कार्य योजनाओं की पूर्ति में श्रम साध्यता के साथ फलीभूत हो सकता है, वर्ष आर्थिक दृष्टि से अच्छे परिणाम देकर आर्थिक स्थिति मजबूत करने में सफल रह सकता है। किंतु ध्यान रखें, अनावश्यक खर्चों पर नियंत्रण रखें। नौकरी की चाहत रखने वाली युवा पीढ़ी के लिए शुरुआत भाग्य और कर्म की शिला पर नौकरी का वसीयतनामा लिख सकती है। स्वास्थ्य की दृष्टि से वर्ष का प्रारंभ नाजुक दौर के ग्रहीय संकेत दे रहा है, अनावश्यक चिंताएं या अनियंत्रित जीवनशैली आपके स्वास्थ्य को कमजोर कर सकती है। इस साल आप कुछ खो भी सकते हैं किसी वरिष्ठ की स्नेहिल छाया, ऋणी होकर चिंताएं, यात्रा में असावधानी से चोट या समान की चोरी का भय। बिजनेस के क्षेत्र में आर्थिक स्वास्थ्य संघर्षों की दास्तां लिखते-लिखते वैभवशाली बना सकता है। परिवार में खुशियां किसी नवजात शिशु के क्रंदन, अविवाहितों के जीवन में दाम्प्त्य सुख के सुयोग भी बनते नजर आ रहे हैं। सेवारत वर्ग में स्त्री पुरुष पदोन्नति के साथ अच्छी पदस्थापना के सुख का आनंद भी लेते नजर आएंगे। सत्ता से जुड़े जातक सावधान रहें पद-प्रतिष्ठा सावधानी के अभाव में ग्रहण लगा सकती है। प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग लेने वाली युवा पीढ़ी आत्मविभोर हो सकती है, किंतु समर्पित भाव से किए गए कर्म की आधारशिला पर। राशि के अनुसार मूंगा रत्न, स्वर्ण जडि़त अंगूठी दांये हाथ की अनामिका में मंगलवार को विधि विधान से धारण करें। लक्ष्य प्राप्ति में सफलताओं के सुयोग बनेंगे।

वृष राशि: ग्रहों की चाल और कर्तव्यनिष्ठा भले ही प्रतीक्षा करवा लें, किंतु निराश मत होना- भाग्य अवश्य उड़ान भरेगा। स्वदेश में सर्विस तलाशते-तलाशते कहीं-खाड़ी देशों अथवा कनाडा में आपको नौकरी का सुयोग बन जाएगा। निराश मत होना अच्छा जीवनसाथी मिलाने के लिए सौंदर्य के देवता शुक्र आप पर मेहनबान हो सकते हैं। इस वर्ष शनिदेव आपकी राशि से नवम भवन में रहेंगे। नवम भवन, भाग्य भवन कहलाता है। भाग्येश भी न्याय के देव शनि देव रहेंगे। इस दृष्टि से पदोन्नति और प्रगति। व्यापार से जुड़े जातकों को अपनी मेहनत और सूझबूझ से आर्थिक दृष्टि से सबल बनेंगे। कृपया अपव्ययी न बने। यथासम्भव ऋण लेने से बचें अन्यथा आर्थिक तंगी आपका सुख-चैन छीन लेगी। छात्रों को कुछ अधिक अध्ययन मनन करना पड़ेगा अन्यथा परीक्षा में अच्छे अंकों से उत्तीर्ण नहीं हो पायेंगे। विदेश में शिक्षा अथवा नौकरी के सुयोग बनते नजर आ रहे हैं, किंतु अनावश्यक अधिक ऋण लेकर समस्याओं से घिर सकते हैं। जितनी चादर इतने पांव पसारे। पारिवारिक सुख में कमी महसूस करने की स्थिति में भी सहज रहें? पारिवारिक गृहकलह के साधन बनने से बचें। स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह न बने।

मिथुन राशि: शनि का अढैय़ा इस राशि के जातकों के आय के स्त्रोत बढ़ाने में सहयोगी रहेगा किंतु समर्पित भाव से किया गया सुकर्म फलदायी रहेगा। आपकी राशि से दशम भवन के स्वामी देव गुरू वृहस्पति कर्म क्षेत्र अर्थात आप चाहे विद्यार्थी हों, या बेरोजगार, कृृषक हों या व्यापारी अथवा शासकीय अशासकीय क्षेत्र में सेवारत हों यह वर्ष आपके लिए सफलताओं का ऐतिहासिक दस्तावेज बनेगा किंतु सफलताओं का राजसूर्य यज्ञ तभी सफल होगा हैए जब जन्म कुंडली में अनुकूल ग्रहों की महादशा चल रही हो। आर्थिक जीवन में वर्ष की शुरुआत बहुत अच्छी नहीं रहेगी किन्तु अप्रैल से समय में सुधार। 16 जुलाई 2021 से 5 दिसंबर 2021 के मध्य जीवन में ऐसा घटनाक्रम घट सकता है जो आपके जीवन को उल्लास से भर देगा। व्यापारी समुदाय के लिए समय अच्छा रहेगा। लेकिन कोई बड़ा लेनदेन करते समय विशेष सावधानी बरतें। संतान के मिले जुले परिणाम मिलेंगे लेकिन प्रेमी जातकों के जीवन में इस वर्ष कई महत्वपूर्ण बदलाव नजर आएंगे। सेहत के लिए यह वर्ष चिंताजनक है। ऐसे में आपको अपनी सेहत के प्रति विशेष सावधानी बरतनी होगी। छात्र-छात्राओं के लिए वर्ष अच्छा होगा। विशेष रूप से शैक्षणिक क्षेत्र में सफलता व ग्रहीय अनुकूलता बेरोजगारी से मुक्ति का मार्ग प्रशस्त करती नजर आयेगी। वैवाहिक जीवन में गृह कलह से बचें। दांपत्य जीवन में समझौतावादी तथा स्वास्थ्य के प्रति सावधान रहें।

कर्क राशि: वर्ष के शुरुआत में मंगल आपके दशम भवन में रहेंगे। कर्मफलदाता शनि देव आपकी राशि से साल भर सप्तम भवन में विराजमान रहेंगे। साथ ही राहु केतु क्रमश: पांचवें और ग्यारहवें भवन में सक्रिय रहेंगे। शुक्र की गोचरीय स्थिति भी आपकी जीवनशैली को प्रभावित करेगी। ऐसे में आपको अपने कॅरियर में रफ़्तार पकडऩे का अवसर मिलेगा। जिससे आपकी तरक्की होगी। आर्थिक जीवन में इस वर्ष कुछ परेशानियां आयेगी। लेकिन आप अपनी मेहनत के बल पर हर परेशानी से निकलने में सफल होंगे। वैवाहिक जातकों को अपने जीवनसाथी से किसी कारणवश मनमुटाव होने की स्थिति समझौतावादी होने से परिवार खुशहाल रहेगा। स्वास्थ्य के मामलों में आपको कुछ सावधानी बरतना भी होगी। छात्र-छात्राओं के लिए यह वर्ष सुखद और हर्षित करने वाला रहेगा किंतु सावधान अध्ययन में गहरी आस्था, प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिलने के सुयोग। व्यवसायी, कृषक समाज के लिए यह वर्ष संकटों में भी तारणहार बनेगा। वर्ष के उत्तरार्ध में अर्थात 16 जुलाई 2021 से सुखद रहेगा। भवन, वाहन अथवा भूमि की दृष्टि से यह वर्ष उत्तम रहेगा। विदेश यात्रा के सुयोग। राशि से नवम भवन अर्थात् मीन राशि स्वामी गुरु आपके जीवन में कायापलट कर देगा। मात्र आशीर्वाद चाहिए भाग्य की देवी का। श्रमसाध्य जीवन आपकी जीवनशैली को स्वर्णिम बना सकता है, यदि पंचमेश, भाग्येश, राज्येश अथवा लाभेश की महादशा वर्ष 2021 में चल रही हो।

सिंह राशि: यह वर्ष शायद आपको ऐसे व्यक्ति से मिला दे, जो आपकी आरजुओं को सफलता की उस राह पर ले जाए, जहां आप पहुंचना चाहते हैं। यह वर्ष अप्रत्याशित रूप से सफलताओं की रहस्यमय रोशनी से आपके जीवन को हर्ष उल्लास से भर देगा। ग्रहीय स्थितियां समुद्रपारीय यात्राओं से भाग्योदय की कथानक बन सकती हैं? बेरोजगारी से जूझ रहा युवा वर्ष सर्विस के सुख से अभिभूत हो सकता है। दांपत्य जीवन में प्रवेश के सुनहरे अवसर संभव हैं, फिर चाहे वे विधुर हो अथवा अविवाहित। बसंत ऋतु में आपका शरीर और जीवंत हो उठेगा। इसका आशय यह है कि आपके पास जीवन और बहुत सारे विचारों के लिए एक विलक्षण ऊर्जा का स्त्रोत प्रकट हो सकता है। कहने का अर्थ है दिलचस्प अनुभवों से भरा रहेगा, यह वर्ष। अति संवेदनशीलता से सावधान रहें क्योंकि यह पतनोन्मुखी बना सकती है। ग्रीष्म ऋतु में बृहस्पति के प्रभाव से आप करीबी लोगों के लिए मददगार होंगे। आपका राशिफल यह भी दर्शाता है कि रिश्तों के बिगडऩे से दांपत्य जीवन संबंध विच्छेद के खतरों का भी सायरन बजा रहा है। ध्यान रहे। खासकर युवा वर्ग गृहस्थ जीवन को समझौतों की पायदान पर विश्वासों की डोर से बंधे रहिये। वर्ष के उत्तरार्ध में कठिन चुनौतियां मुख्यतः कॅरियर संबंधित विषयों से लेकर आ सकती है, उन्हें संभालने में ही आपका चातुर्य है। वस्तुत: यह वर्ष आपको सफलताओं से नजर आएगा। समस्याओं का समाधान भी होगा। भूमि, भवन, वाहन, परिवार में मांगलिक कार्य, किसी नवजात की किलकारी आपको खुशियों से भर देगी।

कन्या राशि: भाग्य, धन एवं सितारों की अनुकूलता जहां आपको अमीर, खुश व भाग्यशाली बनाएगी, वहीं चुम्बक की तरह मुश्किलातों के साथ भौतिक सम्पदायें आपके आगोश में मुस्कराती नजर आएंगी। बस! इस बात पर ध्यान रखिए कितनी भी दुरूह परिस्थितियां बनें आत्मविश्वास न खोएं। भाग्य की देवी का वरद हस्त आपका सुरक्षा कवच बना रहेगा। ग्रहों का परीक्षण चमत्कारी शक्ति से रोमांचित कर देगा किंतु कर्म की शलाका पर तो आपको ही चलना पड़ेगा। गीता में भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं ‘योगा: कर्मेसु कौशलम्’। इस अवधारणा पर आप चलते रहें। कामनाओं-भावनाओं व संभावनाओं की त्रिवेणी में कर्मरूपी पतवार आपके सुखद अनुभूति का अहसास कराती रहेगी। व्यापारी वर्ग, कृषक वर्ग, बेरोजगार और विवाह योग्य युवा वर्ग अपनी अपनी ग्रहीय स्थितियों के अनुसार सफलताओं की पूर्ति की वसीयत लिखती नजर आएगी। धैर्य रूपीताबीज पहनकर इष्ट देव की विधि विधान से पूजा-अर्चना करते रहिए बदकिस्मती आपकी छाया को नहीं छू सकेगी। नौकरी में तरक्की, भूमि, भवन तथा वाहन सुख, परिवार में मांगलिक कार्य, किसी नवजात शिशु की किलकारी आपको आल्हादित कर देगी। नौकरी देश में मिले या विदेश, दूर मिले या पास, छोटी मिले या बड़ी-बस उसे स्वीकार कीजिए। आगे और भी अवसर आएंगे। सफलताओं की एक नई इबारत लिखने के लिए। यह वर्ष चमत्कृत कर देगा आपको।

तुला राशि: इस वर्ष आपकी राशि से अष्टम एवं द्वितीय भवन में विराजमान राहु केतु की उपस्थिति तथा शनि का अढैया साल भर प्रभावित करता रहेगा। साथ ही मंगल भी साल भर सप्तम, अष्टम, नवम तथा दूसरे भवनों में भ्रमण करता नजर आएगा। वहीं मंगल से उच्च रक्तचाप आपके स्वास्थ्य को परेशान कर सकता है। इसकी एक ही अचूक दवा है, क्रोध न करें, चिन्ताओं को बेफ्रिकी से उड़ाते जाइए। यदि आपने अनावश्यक तनाव झेला, तो बड़े रोग दावतनामा देंगे। सेवा क्षेत्र में उन्नति, धन संग्रह के योग। परिवार में मांगलिक कार्य। वर्ष का मध्य विशेषकर 16 मई से 15 सितम्बर के मध्य भाग्य की देवी का आशीर्वाद रूपी रक्षा कवच। यदाकदा जीवन साथी से मन- मुटावए संतान के लिए शुभ। संतान के बेहतर भविष्य के लिए समय अच्छा रहेगा। आर्थिक दृष्टि से यह वर्ष पिछले वर्ष की तुलना में अच्छा रहेगा। किंतु सावधान बड़ी वित्तीय हानि का अनुमान है। इस वर्ष शुक्र, देव गुरू वृहस्पति तथा सूर्य, बुध का गोचर अलग-अलग भवनों में विचरण कर भूमि, भवन एवं वाहन के सुख से उल्लासित कर सकता है। भवन निर्माण के सुयोग बनते दिख रहे यदि अनुकूल वित्तीय स्थितियां हों, तो भवन निर्माण सुखकारी रहेगा। सर्विस की चाहत रखने वाला युवा वर्ग 2021 बेरोजगारी से मुक्त होकर रोजगार प्राप्ति की सुखद अनुभूति के साथ दांपत्य जीवन के लालायित युवा वर्ग दांपत्य जीवन में प्रवेश कर सकता है? प्रेम विवाह का समग्र चिंतन सुखदायी रहेगा। व्यापारी वर्ग व्यवसायिक क्षेत्र में बीते वर्ष का तुलना में अधिक मुनाफा कमा सकता है। विदेश यात्रा के सुयोग तुला राशि के जातकों के लिए बेहतरीन बनते नजर आ रहे हैं। परिस्थितियां अनुकूल दिखे, तो समुद्रपारीय यात्रा सेवा क्षेत्र व्यापार क्षेत्र से जोड़ सकती है।

वृश्चिक राशि: 2021 शिक्षा के क्षेत्र में इस राशि वाले जातक राहु केतु के अनुग्रह से सामान्य से बेहतर रहने वाला है। सफलता आपसे दूर रहेगी, किंतु मेहनत करने से आपको सामान्य से अच्छे परिणाम प्राप्त होते नजर आएंगे। वर्ष भर शनि और गुरु की दसमस्थ उपस्थिति होने से जहां पिता परिवार के लिए अनुकूल रहेगी। वहीं सेवारत जातकों की पदोन्नति। शिक्षित बेरोजगारों के लिए सर्विस योग जीवनशैली को आनंददायी बना सकते हैं। इसके लिए कर्म के साथ जन्म कुंडलियों में ग्रहों की अनुकूलता भी परमावश्यक है? दशम भवन पिता, कर्म और राज्य से संबंधित होता है। कतिपय राजनैतिक रणबांकुरे वृश्चिक राशि की छत्रछाया में जीवनयापन कर रहे हैं तो उन्हें भी सत्ता-संगठन का सुख भी वर्ष के मध्य में दृष्टिगोचर होता नजर आएगा। वृश्चिक राशि वाले जातक बड़े चतुर और चालाक भी होते हैं, ये कार्य दुश्मन से करवाने में सिद्धहस्त होते हैं क्योंकि इस वर्ष राहु केतु का वरदहस्त साल भर बना रहेगा। प्रतियोगी परीक्षाओं में भी सफलता मिलेगी। इन्हें राज्यस्तरीय, राष्ट्रस्तरीय प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल बना दें, तो कोई आश्चर्य नहीं। राशि स्वामी मंगल अपने घर में बैठकर पराक्रम वृद्धि के साथ कार्यक्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन के सुयोग बना रहा है। बुध कर्मेश होकर सूर्य के साथ सुख भवन में विराजमान हैं। साथ ही बुधादित्य योग आपके कार्य व्यापार के साथ व्यक्तित्व पर भी प्रभाव डालेगा। साथ ही शनि और गुरु केंद्र त्रिकोण का राज योग बनना भी व्यापार में अप्रत्याशित लाभ। मंगल और चन्द्र का योग लक्ष्मीनारायण योग बना रहा है। वित्तीय पक्ष के लिए यह बेहद शुभ संकेत हैं धन में वृद्धि। प्रेम, वैवाहिक जीवन भी सुखमय। सेहत के प्रति हानि न पहुंचा सके, इसलिए सतर्क एवं सावधान रहिए।

धनु राशि: राशि का स्वामी गुरु है। वर्ष की शुरुआत में अस्त-व्यस्त और खर्च से परेशान रहेंगे। कोई भी निर्णय सोच समझ कर लें। आर्थिक लेन देन में कतई जल्दीबाजी न करें। ऐसा करने पर नुकसान झेलना पड़ सकता है। अपनी किस्मत को लेकर कोई भी ऐसी वैसी आशंका न पालें, निडर होकर किसी भी क्षेत्र में अपना भाग्य अजमाइए, खास कर वर्ष के अंतिम तीन महीनों में। यदि आप शासन से जुड़े जातक हैं तो यह वर्ष आपको पदोन्नति का सम्मान दिला सकता है। अनावश्यक खर्च और कर्ज से बचें। आपको अपने रचनात्मक कार्यों के प्रति विशेष रूप से ध्यान देने की जरूरत है। दाम्पत्य जीवन में कुछ परेशानी आ सकती है। ऐसी स्थिति में जीवनसाथी से मधुर संबंध बनाए रखें। आपस में बातचीत करते समय गुस्सा न करें। परिवार में किसी सदस्य के स्वास्थ्य को लेकर निरंतर चिंता बनी रहने की उम्मीद है। यात्रा करने का अवसर मिलेगा। यात्रा में सावधानी अवश्य रखें। परिवार में मांगलिक कार्यों में खर्च हो सकता है किंतु अनावश्यक खर्चों से बचें। फरवरी 2021 का महीना सुख भवन में चार ग्रहों का एक साथ आना इस बात का संकेत दे रहा है जिस क्षेत्र में भी आप कार्यरत है सफलता के साथ सम्मानित भी होंगे। मंगल का स्वग्रही होकर धन तथा वाणी भवन पर दृष्टि डालना इस बात का संकेत दे रहा है कि वाणी व्यवहार की दृष्टि से यथेष्ठ धन की प्राप्ति के सुयोग बनेंगे किंतु सावधान शनि की साढ़ेसाती का अंतिम चरण गलत ढंग धन अर्जित करने पर पद प्रतिष्ठा की हानि हो सकती है।

मकर राशि: राशि का स्वामी शनि है। आपके राशि स्वामी लग्न में तथा व्यय भवन में देव गुरु बृहस्पति आमदनी की अपेक्षा व्यय अधिक कराएंगे। आर्थिक लेन देन में जल्दबाजी न करें। ऐसा करने पर नुकसान हो सकता है। शनि की दृष्टि सप्तम भवन एवं दशम भवन में होने से पार्टनरशिप में कोई कार्य हो सकता है। भाग्य की वृद्धि के लिए कठिन परिश्रम करना पड़ेगा। छात्र-छात्राओं के लिए यह साल खुशियां लेकर आ रहा है। प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिलेगी नौकरी से जुड़े जातक पदोन्नति से लाभान्वित हो सकते हैं? यदि आप संतान प्राप्ति के इच्छुक हैं तो फिर सफलता अवश्य मिलेगी। अक्टूबर 2021 तक बहुत अनुकूल समय है। जीवनसाथी के साथ संबंध में कड़वाहट आ सकती है। वाणी पर संयम रखें। शनि की साढ़ेसाती के द्वितीय चरण में मानसिक तथा पारिवारिक समस्या से परेशान रहेंगे। अधिकारियों से मधुर संबंध बनाए रखने में भलाई है, अन्यथा मतभेद कष्टदायी रहेंगे। पिता के मतभेद वैचारिक स्तर पर रहेंगे। व्यवसाय से जुड़ा जातक 2020 की तुलना में कहीं अधिक क्रियाशील रहकर धमोपार्जन करेगा। 14 सितंबर 2021 से 21 नवंबर 2021 के मध्य का समय इस राशि वाले जातकों के लिए अत्यंत शुभ रहेगा। इस राशि के व्यवसाय में रुचि रखने वाले जातक अन्य व्यवसाय करें, तो भी लाभप्रद रहेगा। विदेश यात्रा के सुयोग भी बन रहे हैं।

कुंभ राशि: राशि के जातक काफी गहरी सोच रखने वाले होते हैं। राशि स्वामी शनि। राशि स्वामी शनि त्रिकोण में आकर केंद्र के स्वामी देव गुरु बृहस्पति के साथ केंद्र त्रिकोण का राजयोग बनाएंगे। जिसका प्रभाव आपके व्यापार एवं कार्य क्षेत्र पर पड़ेगा। छात्र-छात्राओं के लिए वर्ष उत्तम फल देगा क्योंकि शनि की साढ़ेसाती का प्रथम चरण कुंभ राशि वाले जातकों के लिए सेवा क्षेत्र के अवसर भी अवश्य मिलेंगे। फिर चाहे वह देश में हो विदेश में, पास हो या दूर हो। प्रतियोगी परीक्षा के लिए तैयारी करने का बेहतर समय है। विदेश जाने का यदि आप प्रयास कर रहे हैं तो विदेश यात्रा के योग आपके जीवन में उन्नति का पथ प्रशस्त करेंगे शनि देव। धन का भी अच्छा योग बन रहा है समय का लाभ उठाएं। वैवाहिक जीवन के लिए समय कुछ अनुकूल नहीं है। अनावश्यक मनमुटाव व झगड़े से मन अशांत रहेगा। शनि की साढ़ेसाती का पहला चरण अर्थात् अप्रैल 2021 जीवनसाथी की तलाश, परिवार में मांगलिक कार्य। सेहत को लेकर अनावश्यक चिंता न करें। शनि की दृष्टि लाभ भवन पर होने से व्यापार में उतार- चढ़ाव, घाटा भी संभव। जून कर महीना धन पक्ष में बढ़ोतरी करने वाला होगा। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। ध्यान रखें यह वर्ष कुंभ राशि वालों की जिंदगी ही बदल देगा शुभ कर्मों से। इसलिए पूरे वर्ष आशावादी बने रहें।

मीन राशि: यह वर्ष बेहद महत्वपूर्ण रहेगा। कार्य क्षेत्र में तरक्की, नौकरी पेशा वाले जातकों के लिए तरक्की के अवसर। व्यापार जगत से जुड़े जातक मेहनत और लगन से आर्थिक समृद्धि के साथ राजनीतिक हस्ती बनते नजर आएं, तो आश्चर्य मत करना। प्रशासनिक क्षेत्र से जुड़े जातक का पद प्रतिष्ठा के साथ शासन के स्तर पर सम्मानित भी होंगे। आर्थिक दृष्टि से मीन राशि वाले जातक सामान्य से बेहतर धनार्जन कर सामाजिक प्रतिष्ठा भी अर्जित करेंगे। परिवार में मांगलिक कार्य। विवाह योग्य जातक परिणय सूत्र में बंधेंगे। विदेश यात्रा के सुयोग वर्ष के मध्य में कभी भी घट सकते हैं फिर चाहे वह पर्यटन की दृष्टि से हो अथवा उच्च शिक्षा या विदेश में नौकरी। व्यापार विस्तार, भवन निर्माण संतान के बेहतर जीवन के लिए किए गए प्रयासों में पूरी सफलता। जनवरी 2021 के बाद ग्रहीय स्थितियों की अनुकूलता तो बेहतर होगी ही साथ ही सेहत में सुधार। अप्रैल 2021 से सितंबर 2021 के मध्य का समय बेहद उत्तम नजर आ रहा है। अपनी कार्यशैली में थोड़ा बदलाव लाए। आप देखेंगे आंतरिक चमत्कारों की अनुभूतियां। जीवन के कर्म क्षेत्र में आकर्षक रणनीति बनाएं। शनि देव मकर राशि से अपनी तृतीय दृष्टि पराक्रम से आपकी राशि को निहार रहे हैं, पद-पराक्रम यशस्वी जीवन जीने की दृष्टि से यह वर्ष आकर्षण का केंद्र रहेगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co