Raj Express
www.rajexpress.co
बीमारियों की चुनौती झेलता देश
बीमारियों की चुनौती झेलता देश|Syed Dabeer Hussain - RE
राज ख़ास

बीमारियों की चुनौती झेलता देश

भारत की आधी से अधिक आबादी श्वास संबंधी रोगों और फेफड़ों से जुड़ी शिकायतों से ग्रस्त है।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस, भोपाल। ऐसे में कहना गलत नहीं कि भारत दुनिया की सर्वाधिक बीमारियों का बोझ उठाने वाले देशों में शुमार हो चुका है और अगर बीमारियों पर काबू नहीं पाया गया तो वह दिन दूर नहीं जब विश्व में भारत की पहचान एक बीमारू देश के रूप में होने लगेगी।

यह तथ्य चिंतित करने वाला है कि देश में हृदयाघात से होने वाली मृत्यु दर में लगातार वृद्धि हो रही है। एक आंकड़े के मुताबिक इस समय देश में 54 लाख लोग दिल की गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं। दिल के मरीजों की तादाद हर साल बढ़ रही है। हृदयाघात की बीमारी कई अन्य गैर संचारी रोगों को जन्म दे रही है। पुणे स्थित चेस्ट रिसर्च फाउंडेशन और नई दिल्ली स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ जिनेमिक्स एंड इंटीग्रेटेड बायोलॉजी ने खुलासा किया है कि भारत की आधी से अधिक आबादी श्वास संबंधी रोगों और फेफड़ों से जुड़ी शिकायतों से ग्रस्त हैं और प्रतिदिन करीब साढ़े तीन करोड़ लोग डॉक्टरों के पास स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों के निदान के लिए पहुंच रहे हैं। यह निष्कर्ष 800 से ज्यादा शहरों में व्यापक अध्ययन के बाद निकाला गया है।