Indian youth
Indian youth|Syed Dabeer Hussain - RE
राज ख़ास

आजाद भारत में इंटरनेट का गुलाम देश का युवा

युवा किसी भी देश के विकास के लिए देश की रीढ़ कहा जाता है। आखिर ऐसा क्या हुआ जिसने भारतीय युवाओ को इंटरनेट का गुलाम बना दिया, जानिए इस रिपोर्ट में -

Rishabh Jat

राज एक्सप्रेस: 15 अगस्त सन 1947 देश को आजादी मिली और उस आजादी का श्रेय देश के संघर्षी युवा क्रांतिकारियों को भी जाता है, जिन्होंने अपनी जवानी कुर्बान करते हुए देश के लिए सच्ची निष्ठा से संघर्ष किया एवं अपनी आने वाली पीढ़ी को आजाद भारत में सांस लेने की स्वतंत्रता देकर गए।

लेकिन आज की पीढ़ी न ही किसी के दबाव में हैं और न ही कोई उन पर राज करता है, पर उन्हें भी गुलामी की बेड़ियों ने जकड़ रखा है, जी हां जनाब सही सुना आपने गुलामी की बेड़ियां भारत देश के आज के युवा इंटरनेट के गुलाम बन चुके हैं। युवाओं की खेलों में रुचि घटती जा रही। वह इंटरनेट में रुचि बढ़ती जा रही है, हां देश डिजिटल तो हो रहा है जिसका असर देश के विकास में भी दिख रहा है परंतु हम कहीं अपनी सभ्यता संस्कृति से दूर ना हो जाए इस डिजिटलाइजेशन के कारण खेलकूद से ज्यादा आज के युवा टी.वी., कंप्यूटर और मोबाइल में गेम खेलना पसंद करते हैं।

Raj Express
www.rajexpress.co