दूसरे देशों से ऑक्सीजन सिलेंडर और जरूरी दवाइयां, उपकरण भारत पहुंच रहे
दूसरे देशों से ऑक्सीजन सिलेंडर और जरूरी दवाइयां, उपकरण भारत पहुंच रहे Social Media

दूसरे देशों से ऑक्सीजन सिलेंडर और जरूरी दवाइयां, उपकरण भारत पहुंच रहे

कोरोना की विकराल महामारी के इस दौर में विदेशों से भारत की मदद सराहनीय कदम है। हमें इस मदद से सीखना चाहिए और भविष्य के लिए प्लान बनाना चाहिए, क्योंकि विदेशों से मदद की सीमा है।

भारत में महामारी इस समय विकराल हो चुकी है। सरकारें चाहे जो दावे करें, ऑक्सीजन की कमी न होने का चाहे जितना सफेद झूठ बोलें, पर हकीकत यह है कि अब भारतीयों का भगवान ही मालिक है। राजधानी दिल्ली से लेकर आदिवासी राज्य झारखंड तक ऑक्सीजन की किल्लत है। बेड बचे नहीं हैं और तपती धूप में मरीज एक-एक सांस गिन रहे हैं। आज भारत की जो हालत है, वह सिस्टम की नाकामी का बड़ा उदाहरण है। हम भारत को तेजी से बढ़ती अर्थव्यव्यवस्था का तमगा भले ही दें, मगर आज पूरी दुनिया के सामने दामन फैलाए खड़े हैं। महामारी संकट में भारत के लिए दुनिया के कई देश आगे आए हैं। कुछ स्वेच्छा से मदद कर रहे हैं तो कुछ पर वहां की जनता का दबाव है। चीन भी अब मदद देने को तैयार हो गया है। चीन अपने यहां वेंटिलेटर तैयार करा रहा है। दूसरे देशों से ऑक्सीजन सिलेंडर और टैंकरों से लेकर जरूरी दवाइयां, उपकरण और दूसरा सामान भारत पहुंचने लगा है।

यह नहीं भूलना चाहिए कि कई देश अभी भी महामारी से जूझ रहे हैं। संसाधन सीमित होने की वजह से दूसरों की मदद की सीमाएं हैं। कुछ देश संकट से काफी हद तक उबर चुके हैं, जबकि भारत में हालात हद से ज्यादा गंभीर होते जा रहे हैं। जाहिर है, इस वक़्त भारत को हर तरह की सहायता चाहिए। भारत में केंद्र और राज्य सरकारें पहली बार ऐसे हालात से रूबरू हो रही हैं। फिर हमारा स्वास्थ्य सेवाओं का ढांचा भी दयनीय ही है। ऐसे में जो देश जो भी मदद दे, वह मामूली नहीं है। मौजूदा हालात में दुनिया के सभी देश एक दूसरे की जो मदद कर रहे हैं, उसे कूटनीति से कहीं आगे जाकर देखने की जरूरत है। पिछले एक साल के कोरोना काल में भारत ने भी अमेरिका सहित कई देशों को मदद दी है। दवाइयों, पीपीई किट और टीकों से लेकर दूसरी चीजें पहुंचाई हैं। इस मुश्किल घड़ी में एक दूसरे की मदद न सिर्फ नैतिक दायित्व है, बल्कि यही वक़्त की जरूरत है।

ब्रिटेन के हेल्थ मिनिस्टर मैट हनूक ने साफ कर दिया कि उनके देश के पास कोविड वैक्सीन का ओवर स्टॉक नहीं है। ब्रिटेन के पास उसकी जरूरत के हिसाब से वैक्सीन हैं, इसे एक्सेस स्टॉक नहीं कहना चाहिए। यही वजह है कि हम भारत को वैसीन नहीं दे पाएंगे। इसके अलावा वेंटिलेटर्स और दूसरे जरूरी मेडिकल इक्युप्मेंट्स नई दिल्ली भेजे जा रहे हैं। ब्रिटेन में अब वेंटिलेटर्स की जरूरत नहीं है, लिहाजा अब ये भारत भेजे जा रहे हैं। भारत के पास अपनी Vaccine है जो ब्रिटिश टेक्नोलॉजी पर बेस्ड है। कुल मिलाकर दुनिया से जो मदद आ रही है, हमें उस पर ही निर्भर नहीं रहना चाहिए। हमें अपनी तैयारियों को भी जारी रखना चाहिए। देश की सभी सरकारों को अपने संसाधान झोंकने का यही समय है। इसलिए आरोपों की चिंता छोडक़र सभी सरकारें सामूहिक रूप से प्रयास करें और इस महामारी को काबू में करने पर ध्यान दें।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co