जम्मू-कश्मीर : पंडिता को मिलाकर 9 के करीब भाजपा नेताओं की हत्या
जम्मू-कश्मीर : पंडित को मिलाकर 9 के करीब भाजपा नेताओं की हत्याSocial Media

जम्मू-कश्मीर : पंडिता को मिलाकर 9 के करीब भाजपा नेताओं की हत्या

सुरक्षाबलों द्वारा जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ अपने ऑपरेशन में तेजी लाई गई है, यही कारण है कि अब आतंकी संगठन बौखला गए हैं।

पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ता सियासी रंजिश का शिकार होते आ रहे हैं। अब तक पार्टी के कुछ अहम नेताओं की वहां हत्याएं हो चुकी हैं। यही स्थिति जम्मू-कश्मीर की भी है। राज्य में जब से अनुच्छेद 370 को हटाया गया है, तब से ही यहां भाजपा के कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है। कश्मीर में आतंकियों ने एक और भाजपा नेता को निशाना बनाया है। सेना अध्यक्ष के जम्मू कश्मीर दौरे के बीच आतंकियों ने त्राल में नगर पालिका के अध्यक्ष कश्मीरी पंडित भाजपा नेता राकेश पंडिता की गोली मारकर हत्या कर दी। आतंकी हमले में एक महिला भी जख्मी हुई है, जिसे अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। तीन की संख्या में बताए जा रहे हमलावर मौके से फरार हो गए, जिनकी तलाश में सुरक्षा बलों ने पूरा इलाका घेर तलाशी अभियान तेज कर दिया है। उधर, पुलिस ने दावा किया है कि पंडिता को निजी सुरक्षा के लिए दो पीएसओ दिए गए थे, लेकिन बुधवार को वे बिना सुरक्षा के त्राल चले गए।

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में आतंकियों ने 6 अगस्त 2020 को भाजपा सरपंच सजाद अहमद की गोली मारकर हत्या कर दी थी। घटना के समय वह घर के बाहर थे। इससे पहले जुलाई 2020 में भाजपा के बांदीपोरा जिलाध्यक्ष और उनके दो परिजनों की हत्या कर दी गई थी। इस घटना के एक माह पूर्व आठ जून को अनंतनाग में कांग्रेस नेता और सरपंच अजय पंडिता की हत्या कर दी गई थी। इन सभी घटनाओं को आपस में जोडक़र देखें तो पता चलेगा कि आतंकी संगठन अनुच्छेद 370 को हटाए जाने से बेहद खफा हैं और पड़ोसी मुल्क की शह पर भाजपा के नेताओं को निशाना बना रहे हैं। पंडिता की हत्या की जिम्मेदारी लश्कर-ए-तैयबा द रेजिजटैंस फ्रंट ने ली है। हालांकि, मौजूदा हमले में किन आतंकियों का हाथ था अभी सुरक्षाबल उनकी तलाश में जुटे हैं। इस संगठन का निर्माण धारा-370 हटाए जाने के बाद किया गया था। जाहिर है कि आतंकी सरकार के कदम से किस तरह बौखलाए हैं और वे भाजपा के नेताओं को निशाना बना रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद से अबतक नौ भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की हत्या कर दी गई है, जो अभी भी रुकने का नाम नहीं ले रही है। आतंकियों की ओर से खुलेआम धमकी दी जा रही है कि घाटी के युवा भाजपा के साथ ना आएं। पिछले साल युवाओं में डर बैठाने 8 जुलाई को ही बीजेपी नेता वसीम बारी, उनके भाई और पिता की हत्या कर दी गई थी। 4 अगस्त को कुलगाम के आखरन नौपुरा में संरपच आरिफ अहमद पर हमला हुआ। 6 अक्टूम्बर को गांदरबल में जिला भाजपा उपाध्यक्ष गुलाम कादिर राथर को मार दिया गया था। इसके अलावा पिछले महीने बडगाम में बीजेपी कार्यकर्ता व बीडीसी अध्यक्ष को आतंकियों ने मार दिया था। जून 2020 से अब तक ऐसे ही हमलों में पंडिता को मिलाकर 9 के करीब भाजपा नेताओं की हत्या कर दी गई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co