Raj Express
www.rajexpress.co
जनसंख्या नियंत्रण और ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ की जरूरत पर जोर
जनसंख्या नियंत्रण और ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ की जरूरत पर जोर |Hindi Rush
राज ख़ास

मोदी के भाषण में हर वर्ग की चिंता

पीएम नरेंद्र मोदी ने 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर ‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ’ (सीडीएस) का पद बनाने की अहम घोषणा की और साथ ही देश में जनसंख्या नियंत्रण और ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ की जरूरत पर जोर दिया।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस, भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गुरुवार को ‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ’ (सीडीएस) का पद बनाने की अहम घोषणा की और साथ ही देश में जनसंख्या नियंत्रण और ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ की जरूरत पर जोर दिया। मोदी ने अपने भाषण में हर उस पहलू को छुआ, जो हमारे जीवन में किसी न किसी तरह से महत्व रखते हैं, मगर हमें उनकी फिक्र नहीं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गुरुवार को ‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ’ (सीडीएस) का पद बनाने की अहम घोषणा की और साथ ही देश में जनसंख्या नियंत्रण और ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ की जरूरत पर जोर दिया। प्रधानमंत्री ने देश में जनसंख्या विस्फोट पर चिंता जताते हुए कहा कि यह आने वाली पीढ़ियों के लिए नई चुनौतियां पेश करता है। मोदी ने कहा कि इससे निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों को कदम उठाने चाहिए। उन्होंने कहा कि बेतहाशा बढ़ रही जनसंख्या चिंता का विषय है और समाज का एक छोटा वर्ग जो अपना परिवार छोटा रखता रहा है, वह सम्मान का हकदार है। जो वे कर रहे हैं वह एक प्रकार की देशभक्ति है।

हालांकि भाजपा के कुछ नेता इस पर खुलकर बात करते हैं। हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए जनसंख्या विस्फोट कई समस्याओं का कारण बनेगा, लेकिन जनता की एक सतर्क श्रेणी ऐसी भी है जो एक बच्चे को दुनिया में लाने से पहले यह सोचते हैं कि वह उस बच्चे के साथ न्याय कर पाएंगे या नहीं, वह जो कुछ भी चाहता/चाहती है उसे वह सबकुछ दे पाएंगे या नहीं। उनका परिवार छोटा है और वह इसके माध्यम से अपनी देशभक्ति जाहिर करते हैं। हमें उनसे सीखना चाहिए। सामाजिक जागरूकता की आवश्यकता है।’

प्रधानमंत्री मोदी ने उन लोगों की सराहना की जिनका परिवार छोटा है। उन्होंने कहा कि ऐसे परिवार एक तरह से देश की सेवा ही कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘छोटे परिवार की नीति का पालन करने वाले राष्ट्र के विकास में अपना योगदान दे रहे हैं, यह भी देशभक्ति का एक रूप है।’ पीएम ने जनसंख्या विस्फोट को शिक्षा व रोजगार से भी जोड़ा। उन्होंने कहा कि आबादी को शिक्षित और स्वस्थ रखना जरूरी है। हम अशिक्षित समाज के बारे में नहीं सोच सकते हैं। ऐसे में परिवार छोटा होगा तो ये चीजें आसान होंगी। जिनका छोटा परिवार है, उनसे सीखने की जरूरत है।

इस दौरान लाल किले से पीएम ने भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद देश के लिए खतरा है। यह दीमक की तरह देश में घुस गया है। इसे निकालने का प्रयास किया जा रहा। लेकिन यह बीमारी अंदर तक है। गहरी है। अनेक प्रयास करते रहने होंगे। यह एक बार से खत्म होने वाली चीज नहीं है। इस मौके पर प्रधानमंत्री तीन तलाक और धारा-370 खत्म करने को नहीं भूले। उन्होंने लाल किले की प्राचीर से कहा कि देश की मुस्लिम बेटियां डरी हुई थीं। भले ही वो तीन तलाक की शिकार नहीं बनी हों लेकिन उनके मन में डर रहता था।

तीन तलाक को कई इस्लामिक देशों ने भी खत्म कर दिया था, तो हमने क्यों नहीं किया। अगर देश में सती प्रथा, दहेज और भ्रूण हत्या के खिलाफ कानून बना सकते हैं तो तीन तलाक के खिलाफ क्यों नहीं। प्रधानमंत्री ने कहा कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना पटेल के सपने को साकार करने जैसा है। आजादी के बाद से अभी तक जिन्होंने देश के विकास में योगदान दिया है, उनको भी वह नमन करते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि नई सरकार को दस हफ्ते भी नहीं हुए हैं, लेकिन इतने कम समय में भी हर क्षेत्र में काम किया जा रहा है। दस हफ्ते के भीतर ही अनुच्छेद 370, 35ए का हटना सरदार वल्लभ भाई पटेल के सपनों को साकार करने में एक कदम है।

विपक्षी पार्टियों पर हमला करते हुए कहा कि अगर अनुच्छेद 370 जम्मू कश्मीर के हित में था तो आप लोगों ने इसे पर्मानेंट क्यों नहीं किया। अनुच्छेद 370 के हटने से एक देश एक संविधान का सपना साकार हुआ। दूसरी बार सरकार में आने के बाद से मोदी पानी का मुद्दा उठा रहे हैं। लालकिले से भी उन्होंने इस समस्या पर बात की। मोदी ने कहा कि पानी की समस्या को दूर करने के लिए सरकार आने वाले दिनों में साढ़े तीन लाख करोड़ रुपए खर्च करेगी जिसमें जल संचय, जल सिंचन, वर्षा के पानी को रोकना, खराब पानी को शुद्ध करना, समुद्री जल को पीने योग्य बनाना, पानी बचाने के काम करना शमिल होगा। जल संरक्षण का अभियान जन सामान्य का अभियान बनना चाहिए। यह सरकारी अभियान नहीं बनेगा।

हम इसे स्वच्छ भारत अभियान की तरह जन-जन तक पहुंचाएंगे। पानी के क्षेत्र में पिछले 70 साल में जो काम हुआ है, हमें पांच साल में चार गुने से भी ज्यादा तेजी से काम को करना है।मोदी यहां से आगे बढ़े तो भाई-भतीजावाद पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि भाई-भतीजावाद आम जीवन में दीमक की तरह घुसा हुआ है। व्यवस्था चलाए जाने वाले लोगों के दिल, दिमाग में बदलाव की जरुरत है। भ्रष्टाचार दूर करने के लिए हर स्तर पर कोशिश जरूरी है। ईमानदारी, पारदर्शिता को बल देने की जरुरत है। भाई-भतीजावाद को दूर करने की जरुरत है। यह बीमारी अंदर तक है। इसे दूर करने के लिए अनेक प्रयास करते रहने होंगे। यह एक बार से खत्म होने वाली चीज नहीं है।

पीएम मोदी ने कहा कि पांच ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था कई लोगों को मुश्किल लग सकती है, मैं मानता हूं चुनौती बड़ी है लेकिन सोचेंगे नहीं तो देश कैसे चलेगा, हम आगे कैसे बढ़ेंगे। हमारा सपना बड़ा होना चाहिए। आजादी के 70 सालों में देश दो ट्रिलियन इकोनॉमी तक पहुंचा। फिर 2014 से 19 तक हम लोग 2 से 3 ट्रिलियन तक पहुंच गए। देशवासी साथ चलें तो पांच ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था मुश्किल नहीं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दुनिया भारत को बाजार मानती है लेकिन अब हमें भी दुनिया के लिए तैयार रहना होगा। हर जिले में एक खूबी है, कोई पेंटिग के लिए मशहूर है तो कोई साड़ी के लिए। इसे दुनिया में प्रचारित करना चाहिए। देश के उत्पाद को ग्लोबल मार्केट तक पहुंचाना जरूरी है।

प्रधानमंत्री मोदी ने परोक्ष रूप से पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि आज दुनिया के किसी ना किसी हिस्से में कुछ हो रहा है, भारत ऐसे में मूकदर्शक नहीं बना रहेगा। उन्होंने ऐलान किया कि आतंकवाद के खिलाफ भारत अपनी लड़ाई जारी रखेगा, आतंकवाद को एक्सपोर्ट करने वालों को बेनकाब करने का वक्त आ गया है। कुछ लोगों ने भारत के साथ-साथ श्रीलंका, बांग्लादेश व अफगानिस्तान में भी आतंकवाद फैला रखा है। मोदी ने आतंकवाद को लेकर पूरी दुनिया को एकजुट होने का आह्वान किया और कहा कि यह समस्या किसी एक देश की नहीं है। प्रधानमंत्री मोदी ने अफगानिस्तान को उनके आने वाले स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी।

प्रधानमंत्री मोदी ने लाल किले की प्राचीर से कहा कि आज देश की सोच बदल गई है। पहले जो व्यक्ति बस अड्डे की मांग करता था, आज वह पूछता है कि हवाई अड्डा कब आएगा। पहले गांव में पक्कीसड़क की मांग होती थी और आज लोग पूछते हैं कि सड़क फोर लेन बनेगी। बिजली का कनेक्शन होने के बाद लोग पूछते हैं कि 24 घंटे बिजली कब आएगी। यह देश में बदलाव की बानगी है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सब मिलकर तय करें कि पर्यटन को कैसे बल देना है। भारत दुनियाभर के लिए अजूबा हो सकता है। आज दुनिया हमारे साथ व्यापार करने की इच्छा रखती है। हमें इस अवसर को जाने नहीं देना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस अवसर पर पर्यावरण को बेहतर बनाने की मांग भी देश से की। उन्होंने कहा कि देश में अब सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद होना चाहिए। चलिए दो अक्टूबर से इसकी शुरुआत करें। देश ही नहीं पूरी दुनिया में जिस तरह से ग्लोबल वार्मिग बढ़ती जा रही है, दुनिया के कई देश धरती के गर्म होते तापमान को लेकर चिंतित हैं। ऐसे में हमें भी अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील भले ही अभी आई हो, मगर इस दिशा में पूरे देश को बहुत पहले सोचना शुरू करना चाहिए था।