Raj Express
www.rajexpress.co
सामाजिक न्याय में एक और कदम
सामाजिक न्याय में एक और कदम|Neha Srivastava - RE
राज ख़ास

सामाजिक न्याय में एक और कदम

ऐतिहासिक जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन विधेयक-2019 सरदार पटेल के जन्मदिन 31 अक्टूबर (राष्ट्रीय एकता दिवस) के अवसर पर लागू कर दिया जाएगा। जिससे जम्मू- कश्मीर के लोग वंचित थे।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

"ऐतिहासिक जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन विधेयक-2019 सरदार पटेल के जन्मदिन (राष्ट्रीय एकता दिवस) के अवसर पर 31 अक्टूबर से लागू कर दिया जाएगा। यह व्यवस्था राजनीति से परे एक ऐसा सामाजिक ढांचा तैयार करने में मदद करेगी, जिससे जम्मू और कश्मीर के लोग वंचित थे। विशेष दर्जे के नाम पर वहां के लोगों तक न तो सरकारी सुविधाएं पहुंच पाती थीं और न ही वहां के लोगों के जीवन में समरसता थी "

राज एक्सप्रेस। ऐतिहासिक जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन विधेयक 2019 सरदार पटेल के जन्मदिन के अवसर पर 31 अक्टूबर से लागू कर दिया जाएगा। वस्तुत: इस साहसिक कार्य को पूरा करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृह मंत्री अमित शाह ने भारत के संस्थापक सरदार पटेल और डॉ. भीमराव अंबेडकर को भावभीनी श्रदांजलि दी है। ऐसा करने से जम्मू और कश्मीर को मुख्य धारा में मिलाने की वर्षो पुरानी राष्ट्रवादी मांग को पूरा किया गया है और आज भारत कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक एक राष्ट्र है। स्वर्गीय श्यामा प्रसाद मुखर्जी का यह सपना कि एक देश में दो संविधान, दो प्रधानमंत्री और दो झंडे नहीं हो सकते हैं, आज साकार हुआ है जिसे संसद के दोनों सदनों ने भारी बहुमत से पारित करके मूर्त रूप दिया है। जब यह विधेयक लागू होगा, तब भारत का संविधान जम्मू और कश्मीर तथा लद्दाख की संघीय सीमाओं में पूर्णत: लागू हो जाएगा।