Raj Express
www.rajexpress.co
पाक की एक और हरकत
पाक की एक और हरकत|Neha Shrivastava - RE
राज ख़ास

पाक की एक और हरकत

कश्मीर पर मानवाधिकार के नाम पर झूठ फैलाने की कोशिश में जुटे पाक ने एक और ऐसी ही हरकत की है। पाक ने पिछले सप्ताह भारतीय अफसरों को कथित तौर पर आतंकवाद समर्थन का आरोप लगाते हुए डोजियर सौंपा है।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

"पाक ने पिछले सप्ताह भारतीय अफसरों को कथित तौर पर आतंकवाद समर्थन का आरोप लगाते हुए एक डोजियर सौंपा है। भारत को आशंका है कि पाकिस्तान इसका इस्तेमाल अपने प्रोपेगैंडा के लिए कर सकता है। मगर इस बार भी वह मुंह की खाकर ही मानेगा "

राज एक्सप्रेस। कश्मीर पर मानवाधिकार के नाम पर झूठ फैलाने की कोशिश में जुटे पाक ने एक और ऐसी ही हरकत की है। पाक ने पिछले सप्ताह भारतीय अफसरों को कथित तौर पर आतंकवाद समर्थन का आरोप लगाते हुए डोजियर सौंपा है। भारत को आशंका है कि पाकिस्तान इसका इस्तेमाल अपने प्रोपेगैंडा के लिए कर सकता है। पाक की यह नापाक कोशिश उल्टा चोर कोतवाल को डांटे वाली कहावत को चरितार्थ कर रही है। कश्मीर के मुद्दे पर दुनिया भर में मुंह की खाने के बाद भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है।

अब इस्लामाबाद ने भारत के खिलाफ झूठ फैलाने की अपनी मुहिम में ज्ञापन (डोजियर) सौंपा है। कई सूत्रों ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि भारत के खिलाफ प्रोपेगैंडा में जुटे पाकिस्तान ने पिछले सप्ताह भारत द्वारा पाकिस्तान में आतंकी गतिविधियों को समर्थन देने का डोजियर सौंपा है। पाक ने यह भी आरोप लगाया है कि भारतीय एजेंसियों के जरिए पाकिस्तान में आतंकी गतिविधियों को अंजाम दिया जा रहा है। पाकिस्तान ने भारतीय अधिकारियों को एक झूठ का पुलिंदा थमाया है। पाक का भारत के खिलाफ झूठे प्रचार और भारत को बदनाम करने की कोशिश का ही यह अगला कदम है। हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि किस तात्कालिक मुद्दे को आधार बनाकर पाकिस्तान ने यह ज्ञापन दिया है।

भारतीय अधिकारियों का कहना है कि पाकिस्तान के इस डोजियर सौंपने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। अधिकारियों का कहना है कि भारत-विरोधी भावनाओं को भड़काने के उद्देश्य से पाक ने ऐसा किया है। अधिकारियों के अनुसार, पाकिस्तान भारत के खिलाफ झूठे प्रचार के बहाने किसी आतंकी गतिविधि को अंजाम देने की तैयारी में हो। इसकी एक वजह यह भी हो सकती है कि भारत अपनी चिंताएं पाक के समक्ष उठाता रहा है, उन प्रयासों को धूमिल करने के लिए पाकिस्तान ने यह चाल चली हो। एक आशंका यह भी है कि करतारपुर कॉरिडोर के बहाने भावनाओं को भड़काने के लिए पाक ने यह कदम उठाया।

पिछले सप्ताह करतारपुर कॉरिडोर पर होने वाली मीटिंग भी आखिरी समय तक फाइनल नहीं हो सकी। इसकी वजह है कि पाक ने आखिरी वक्त में तीर्थयात्रियों के साथ राजनायिक अधिकारियों के रहने की स्वीकृति देने से इंकार कर दिया था। पाक की इस नापाक हरकत के पीछे एक मंसूबा अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत की छवि खराब करने की कोशिश भी हो सकती है। भारत को घेरने के लिए पाकिस्तान संयुत राष्ट्र मानवाधिकार परिषद और संयुत राष्ट्र महासभा के मंच का प्रयोग भी प्रोपेगैंडा के लिए करता रहा है। भारत को पूरी आशंका है कि इन अंतरराष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे को जरूर उठाएगा। हालांकि, भारत ने भी जवाब देने की तैयारी कर ली है। पिछले हर मौके पर पाक मुंह की खा चुका है। इस बार भी वह बेइज्जत होकर ही घर लौटेगा।