Raj Express
www.rajexpress.co
दूषित जल से लोगों को हो रही बीमारियां
दूषित जल से लोगों को हो रही बीमारियां|Syed Dabeer Hussain - RE
राज ख़ास

दूषित जल से बढ़ेंगी मुश्किलें

प्रदूषित पानी की वजह से लोगों को पीलिया, डायरिया व टायफायड जैसी बीमारियों का शिकार होना पड़ रहा है। अगर हम जिम्मेदार नहीं बनेंगे तो, यह समस्या और बढ़ेगी।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस। साधन संपन्न लोगों ने तो घर में आरओ की फिल्टर मशीन लगा कर शुद्ध पानी का प्रबंध कर रखा है, लेकिन साधारण लोगों के पास ऐसी व्यवस्था नहीं होने के कारण इनके सामने नाले से गुजरते जर्जर पाइप का दूषित पानी पीने के सिवा दूसरा कोई चारा नहीं। प्रदूषित पानी का नतीजा है कि, लोगों को पीलिया, डायरिया व टायफायड जैसी बीमारियों का शिकार होना पड़ रहा है। यह समस्या और बढ़ेगी, अगर हम जिम्मेदार नहीं बनेंगे।

नीति आयोग की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि, देश में 70 प्रतिशत जल की आपूर्ति दूषित हो रही है। सेफ वाटर नेटवर्क की रिपोर्ट के मुताबिक, भी जल गुणवत्ता सूचकांक के 122 देशों में भारत का स्थान 120वां है। इस रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2050 तक बढ़ती आबादी व जल के बढ़ते कारोबारी इस्तेमाल की वजह से प्रति व्यक्ति जल की खपत में 40 से 50 प्रतिशत तक की गिरावट आ सकती है। वाटर एड की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में 16.3 करोड़ लोग स्वच्छ जल पीने से महरूम हैं। शहरी इलाकों में अधिकांशत: झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले लोग पीने योग्य जल से महरूम हैं। शहर के ऐसे इलाकों में पाइपलाइन बिछाना भी मुश्किल है। लिहाजा, झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले लोगों के लिए जल के छोटे-छोटे उपक्रमों को स्थापित करने की बड़ी जरूरत है। सेफ वाटर नेटवर्क की रिपोर्ट के अनुसार, शहरों के झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाली 37 करोड़ की आबादी को साफ जल मुहैया कराने के लिए सरकार को 2.2 लाख जल के छोटे-छोटे उपक्रम स्थापित करने होंगे, जिनकी लागत 44 हजार करोड़ रुपए के आस-पास होगी।