रेल-विमान सेवा देगी बड़ी राहत
रेल-विमान सेवा देगी बड़ी राहत|Social Media
राज ख़ास

रेल-विमान सेवा देगी बड़ी राहत

लॉकडाउन के बीच अर्थव्यवस्था और आम जनजीवन को पटरी पर लाने की एक और बड़ी कवायद के तौर पर यात्री ट्रेनों और विमान सेवाओं को शुरू किया गया है।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस।यह सेवा भविष्य में दिक्कत न बने, इसका याल सरकार और जनता दोनों को रखना होगा।लॉकडाउन के बाद से जारी पाबंदी से बड़ी संख्या में लोग देश के तमाम हिस्सों में फंस गए हैं और उन्हें घर लौटना है। इसके अलावा जरूरी काम से लोगों को देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से जाना भी है। ऐसे में रेल और विमान सेवाएं शुरू करना अपरिहार्य हो गया था। यह सेवा भविष्य में दिक्कत न बने, इसका भी याल सरकार और जनता दोनों को रखना होगा। देखा जाए तो कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए जारी लॉकडाउन के बीच देश की अर्थव्यवस्था और आम जनजीवन को पटरी पर लाने की एक और बड़ी कवायद के तौर पर यात्री ट्रेनों और विमान सेवाओं को शुरू किया गया है। राज्यों ने अपने यहां औद्योगिक गतिविधियों को फिर से चालू करने का फैसला किया था। हालांकि देश में रेल और विमान सेवाएं शुरू करने को लेकर सरकार फूंक-फूंक कर कदम इसलिए रख रही थी कि कहीं अचानक से स्टेशनों पर भीड़ न उमड़ आए और संक्रमण का खतरा खड़ा न हो जाए। इसलिए सीमित संख्या और प्रतिबंधों के बीच ही ट्रेनों की अनुमति दी गई है।

हालांकि, एक जून के लिए डेढ़ लाख से ज्यादा यात्रियों ने टिकट बुक कराई है। यात्रा शुरू करने के दिन जब ये सभी यात्री स्टेशन पहुंचेंगे, तब कोरोना के संक्रमण से बचना और बचाना रेलवे के लिए बड़ी चुनौती होगा। इसी तरह की तस्वीर 25 मई को एयरपोर्ट पर भी नजर आने वाली है। लेकिन इसका एक पहलू यह भी है कि लॉकडाउन के कारण बड़ी संख्या में लोग देश के तमाम हिस्सों में फंस गए हैं और उन्हें अपने घर लौटना है। इसके अलावा जरूरी काम से लोगों को देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से जाना भी है। तथ्य यह भी है कि रेलवे भी लंबे समय तक अपना परिचालन बंद नहीं रख सकता। रेलवे के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब पूरे देश में इतने लंबे वत तक ट्रेनों के चके ठहरे रहे हों। सिर्फ कुछ मालगाडिय़ां और अर्धसैनिक बलों और प्रवासी मजदूरों को लाने-ले जाने के लिए गाडिय़ां चलाई गईं। हालांकि, इससे रेलवे के राजस्व में कुछ नहीं आया। लिहाजा यह उपक्रम सिर्फ समाजसेवा बनकर साबित हुआ।

लॉकडाउन के दौरान केंद्र सरकार वास्तविकता को समझ चुकी है कि रेल सेवाएं बंद करने का जो चौतरफा प्रभाव पड़ता है, वह कितना नुकसान पहुंचाने वाला हो सकता है। इसमें कोई शक नहीं कि आम यात्रियों के लिए गाडिय़ां चलाने का फैसला चुनौतीभरा है। बहरहल, एक जून से जब रेलवे की सुविधा शुरू होगी तब ट्रेन से यात्रा करना यात्रियों के लिए कई मायनों में एक नए तरह का अनुभव लिए होगा। सुरक्षित दूरी रखने और मुंह को ढकने जैसी जरूरी शर्तों का पालन करना होगा। अब देश के बाकी हिस्सों में बस जैसे सार्वजनिक परिवहन को भी अनुमति दी जानी चाहिए। जब तक अंतरराज्यीय सीमाएं नहीं खुलेंगी, निजी वाहन नहीं चलने दिए जाएंगे, तब तक जनजीवन सामान्य नहीं हो पाएगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co