बाइडेन(Joe Biden) के राष्ट्रपति बनने के बाद भारत से कैसे होंगे संबंध

डेमोक्रेटिक पार्टी के जोसेफ आर बाइडेन अमेरिका के अगले राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेंगे। उन्होंने ट्रंप को हराकर सत्ता हासिल की है। बाइडेन के राष्ट्रपति बनने के बाद भारत से संबंध कैसे होंगे।
बाइडेन(Joe Biden) के राष्ट्रपति बनने के बाद भारत से कैसे होंगे संबंध
बाइडेन के राष्ट्रपति बनने के बाद भारत से संबंधSocial Media

अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के चयन के लिए चुनाव के नतीजे आ गए हैं। डेमोक्रेटिक पार्टी के जोसेफ आर बाइडेन यानी जो बाइडन अमेरिका के अगले राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेंगे। बाइडेन ने 290 इलेटोरल वोट हासिल किए वहीं, प्रतिद्वंद्वी रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप को 214 वोट मिले। इसी के साथ ही तीन नवंबर को चुनाव के बाद शुरू हुई गहमागहमी समाप्त हो गई और अमेरिका के इस चुनावी नाटक का पटाक्षेप हो गया। भारतीय मूल की कमला हैरिस ने भी जीत के साथ इतिहास रच दिया है। वो पहली ऐसी महिला हैं जो अमेरिका के उपराष्ट्रपति पद पर आसीन होंगी। भारत के लिए भी गर्व की बात है कि भारतीय मूल की एक महिला अमेरिकी उपराष्ट्रपति का पद संभालेंगी। बाइडेन ने संबोधित करते हुए कहा, एक ऐसा राष्ट्रपति बनूंगा, जो बांटेगा नहीं बल्कि लोगों को एकजुट करेगा। दूसरी तरफ, कमला हैरिस ने कहा, अमेरिकी नागरिकों ने एक नए दिन की शुरुआत की है।

बाइडेन के चुने जाने के बाद अब इस बात पर चर्चा शुरू हो चुकी है कि उनके नेतृत्व में भारत से अमेरिका के संबंध कैसे रहेंगे। भारत के लिहाज से देखें तो कुछ क्षेत्र ऐसे हैं जहां वे वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ढर्रे पर चलेंगे। कुछ में वे बदलाव कर सकते हैं। 21वीं सदी में भारत और अमेरिका के रक्षा, रणनीतिक व सुरक्षा संबंध मजबूत हुए हैं, फिर राष्ट्रपति की कुर्सी पर चाहे रिपब्लिकन बैठा रहा हो या डेमोक्रेट। यही ट्रेंड बाइडेन प्रशासन में भी बरकरार रहने के आसार हैं। हालांकि, चीन को लेकर बाइडेन कैंप में भी दो धड़े हैं, जिसका असर भारत पर पड़ सकता है। बाइडेन ने प्रचार के दौरान भारतीय- अमेरिकियों से संपर्क किया है। वह भारत के लिए उदार सोच रखते हैं। चूंकि अमेरिका और भारत के रिश्ते अब संस्थागत हो चले हैं, ऐसे में उसमें बदलाव कर पाना मुश्किल होगा। टीम बाइडेन में चीन को लेकर मतभेद हैं। इसका असर भारत-अमेरिका और भारत- चीन के रिश्तों पर भी देखने को मिलेगा। बाइडेन के कुछ सलाहकारों ने चीन को लेकर ट्रंप जैसी राय रखी है।

बाइडेन कैंपेन में इंडो-पैसिफिक को लेकर रणनीति साफ नहीं की गई है। चूंकि यह इलाका भारतीय विदेश नीति के केंद्र में है, इसलिए इस पर नजर रखनी ही पड़ेगी। भारत और अमेरिका के व्यापारिक रिश्तों में परेशानी रहेगी, चाहे सत्ता में कोई भी हो। ओबामा प्रशासन के दौरान भी नई दिल्ली और वाशिंगटन में इस क्षेत्र को लेकर तनातनी रहती थी। बाइडेन प्रशासन में भी भारत को व्यापार में खास छूट मिलने के आसार नहीं हैं। इसके अलावा बाइडेन का मेक अमेरिका ग्रेट अगेन का अपना वर्शन भी है। बाइडेन प्रशासन भारत में मानवाधिकार उल्लंघन पर नजर रख सकता है। एन1एन1वीजा के पुराने रूप में लौटने की संभावना न के बराबर है। हालांकि इससे भारतीयों पर असर पड़ सकता है लेकिन महामारी ने जिस तरह से रिमोट वर्किंग को बढ़ावा दिया है, उससे वह असर कम होने की उम्मीद है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co