तालिबान क्या है, यूएस संग क्या डील हुई, समूह पर भरोसा करने के क्या हैं खतरे?
संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, अफगानिस्तान में दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी विस्थापित आबादी है।Syed Dabeer Hussain - RE

तालिबान क्या है, यूएस संग क्या डील हुई, समूह पर भरोसा करने के क्या हैं खतरे?

हो सकता है कि कुछ नेता समस्या को न भड़काकर पश्चिम को मौन रखना चाहते हों, लेकिन कट्टरपंथी अल-कायदा से संबंध तोड़ने के अनिच्छुक हो सकते हैं।

हाइलाइट्स –

  • दोहा, कतर में समझौते पर करार

  • 14 माह में अफगानिस्तान छोड़ेगी सेना

  • तालिबान को समझौता करना होगा पूरा

राज एक्सप्रेस (Raj Express)। अमेरिका और तालिबान के बीच हुई डील के मुताबिक तालिबान को समझौते की शर्तों का पालन करना होगा। स्थितियां पक्षधर होने पर यूएस और नाटो सहयोगी सेना तय समय तक अफगानिस्तान छोड़ देंगी।

यूएस की तालिबान संग डील

29 फरवरी 2020 - अफगानिस्तान में "शांति लाने के लिए अमेरिका और तालिबान ने दोहा, कतर में एक समझौते" पर हस्ताक्षर किए। समझौते के मुताबिक अमेरिका और नाटो सहयोगी सदस्य देश 14 महीने के भीतर सभी सैनिकों को वापस बुलाने के लिए सहमत हुए। लेकिन इस शर्त पर कि आतंकवादियों को समझौते को बरकरार रखना होगा।

यूएस सैनिकों की वापसी -

13 अप्रैल 2021 अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने घोषणा की कि 11 सितंबर 2021 तक सभी अमेरिकी सैनिक अफगानिस्तान छोड़ देंगे।

तालिबान की सत्ता में वापसी -

महज एक महीने में ही 16 अगस्त 2021 को तालिबान ने काबुल सहित पूरे देश के कस्बों और शहरों को अपने नियंत्रण में ले लिया। तालिबान की बढ़त के सामने अफगान सुरक्षा बल नाकाफी साबित हुआ। देखने में आया कि तालिबान लड़ाकों को अफगान सुरक्षा बल के बहुत कम विरोध का सामना करना पड़ा।

तालिबान कौन हैं?

वे गृहयुद्ध में उभरे जो 1989 में सोवियत सैनिकों की वापसी के बाद मुख्य रूप से दक्षिण-पश्चिम और पाकिस्तान (Pakistan) के सीमावर्ती क्षेत्रों में हुए।

1998 तक, उन्होंने लगभग पूरे देश पर नियंत्रण कर लिया था। उन्होंने शरिया, या इस्लामी कानून के अपने कट्टरपंथी नियम लागू कर क्रूर दंड की शुरुआत की।

अधिक पढ़ने शीर्षक को स्पर्श/क्लिक करें –

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, अफगानिस्तान में दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी विस्थापित आबादी है।
तालिबान की अफगानिस्तान में वापसी, यूएस-तालिबान डील कितनी सफल?
पुरुषों को दाढ़ी बढ़ाना और महिलाओं को पूरी तरह से ढका हुआ बुर्का पहनना अनिवार्य था। टीवी, संगीत और सिनेमा पर भी प्रतिबंध लागू था। उनके तख्तापलट के बाद वे पाकिस्तानी सीमावर्ती इलाकों में फिर से जमा हो गए।

युद्ध कितना महंगा रहा है?

खोए हुए जीवन के संदर्भ में, स्पष्ट रूप से ठीक-ठीक कहना आसान नहीं है। गठबंधन के हताहतों की संख्या तालिबान और अफगान नागरिकों की तुलना में काफी सटीक दर्ज की गई है।

रिसर्च अनुमान -

ब्राउन यूनिवर्सिटी के शोध का अनुमान है कि अफगान सुरक्षा बलों में 69,000 सैनिक मारे गए। 2001 से अब तक 3,500 से अधिक गठबंधन सैनिक मारे गए हैं - उनमें से लगभग दो-तिहाई अमेरिकी हैं। 20,000 से अधिक अमेरिकी सैनिक घायल हुए हैं।

अधिक पढ़ने शीर्षक को स्पर्श/क्लिक करें –

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, अफगानिस्तान में दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी विस्थापित आबादी है।
अफगानिस्तान में बीस साल का संघर्ष, कब क्या हुआ?

सबसे बड़ी विस्थापित आबादी!

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, अफगानिस्तान में दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी विस्थापित आबादी है। यहां 2012 के बाद से, लगभग 50 लाख लोग चले गए हैं और घर नहीं लौट पाए हैं। वे या तो अफगानिस्तान में विस्थापित हुए हैं या पड़ोसी देशों में शरण ले रहे हैं।

सैन्य पुनर्निर्माण फंड -

ब्राउन यूनिवर्सिटी के शोध में अफगानिस्तान और पाकिस्तान में सैन्य और पुनर्निर्माण निधि सहित- संघर्ष पर अमेरिकी खर्च को 2020 तक 978 बिलियन डॉलर पर रखा गया है।

आगे क्या हो सकता है?

तालिबान की अफगानिस्तान पर शासन करने की योजना क्या है? यह स्पष्ट नहीं है। इस स्थिति में महिलाओं को अनिश्चित भविष्य का सामना करना पड़ सकता है। तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन का कहना है कि समूह "अफगान मानदंडों और इस्लामी मूल्यों के अनुसार" महिलाओं और अल्पसंख्यकों के अधिकारों का सम्मान करेगा।

महिलाओं की सहभागिता -

इस बीच आतंकवादियों ने पूरे अफगानिस्तान में घोषणा की है कि वह चाहता है कि महिलाएं उसकी सरकार में शामिल हों।

अधिक पढ़ने शीर्षक को स्पर्श/क्लिक करें –

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, अफगानिस्तान में दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी विस्थापित आबादी है।
अफगानिस्‍तान के काबुल में अगवा किए गए भारतीय लोगों को तालिबान ने किया रिहा

लेकिन तालिबान के शासन में महिलाओं को काम करने, अपनी पसंद के कपड़े पहनने या यहां तक ​​कि घर से अकेले निकलने की आजादी पर भी डर है।

दरअसल 1990 के दशक के दौरान तालिबान ने महिलाओं को कुछ खास तरह के कपड़े पहनने के लिए मजबूर किया। इसके अलावा महिलाओं को समान अधिकारों से वंचित कर दिया गया। एक और बड़ा डर यह भी है कि देश एक बार फिर आतंकवाद का प्रशिक्षण स्थल बन सकता है।

तालिबान का कहना -

तालिबान अधिकारियों का कहना है कि वे अमेरिकी समझौते का पूरी तरह से पालन करेंगे और किसी भी समूह को अमेरिका और उसके सहयोगियों के खिलाफ हमलों के लिए अफगानिस्तान की धरती को आधार के रूप में इस्तेमाल करने से रोकेंगे।

कई विश्लेषकों का कहना है कि तालिबान और अल-कायदा अविभाज्य हैं। इनके लड़ाके आपसी रूप से जुड़े हुए हैं और प्रशिक्षण गतिविधियों में लगे हुए हैं।

एक कारण यह भी -

यह भी याद रखना महत्वपूर्ण है कि तालिबान केंद्रीय और एकीकृत बल नहीं है। हो सकता है कि कुछ नेता समस्या को न भड़काकर पश्चिम को मौन रखना चाहते हों, लेकिन कट्टरपंथी अल-कायदा से संबंध तोड़ने के अनिच्छुक हो सकते हैं।

अल-कायदा कितना शक्तिशाली है और क्या यह अब अपने वैश्विक नेटवर्क का पुनर्निर्माण कर सकता है, यह भी स्पष्ट नहीं है।

फिर इस्लामिक स्टेट समूह की क्षेत्रीय शाखा है - ISKP (खोरासान प्रांत/Khorasan Province) - जिसका तालिबान विरोध करते हैं।

अल-कायदा की तरह, ISKP पर अमेरिका और नाटो ने अंकुश लगाया था। लेकिन वे फिर संगठित होने की कोशिश कर सकते हैं।

संख्या कम लेकिन -

इसकी लड़ाकू संख्या केवल कुछ सौ और 2,000 के बीच हो सकती है, लेकिन यह कजाकिस्तान (Kazakhstan), किर्गिस्तान (Kyrgyzstan) और ताजिकिस्तान (Tajikistan) के कुछ हिस्सों में पैर जमाने की कोशिश कर सकता है। ऐसा होना एक गंभीर क्षेत्रीय चिंता का विषय होगा।

डिस्क्लेमर – आर्टिकल प्रचलित रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co