Raj Express
www.rajexpress.co
क्या होगा अयोध्या मुद्दे पर फैसला?
क्या होगा अयोध्या मुद्दे पर फैसला?|Neha Shrivastava
राज ख़ास

क्या होगा अयोध्या मुद्दे पर फैसला?

अयोध्या विवाद मामले पर दोनों संगठनों के बीच मध्यस्थता की सुनवाई के बाद भी यह मामला अब तक अनसुलझा सा है, देखना होगा क्या होता है मुद्दे पर आगे?

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस। दशकों पुराने अयोध्या विवाद मामले में फैसले की घड़ी नजदीक आ गई। उम्मीद है कि सर्वोच्च न्यायालय नवंबर के मध्य तक फैसला सुना देगा। अब जबकि अदालत का फैसला आने में कुछ दिन ही शेष हैं, ऐसे में आवश्यक है कि देश धैर्य का परिचय दे। फैसला जो भी आए उसे दोनों पक्ष स्वीकार करें। किसी तरह का उन्माद या फिर हिंसा देश की गंगा-जमुनी तहजीब को नष्ट करेगी और कोर्ट का विश्वास भी डिगेगा।

दशकों पुराने अयोध्या विवाद मामले में फैसले की घड़ी नजदीक आ गई। मध्यस्थता के जरिए विवाद सुलझाने की सभी कोशिशें विफल होने के बाद जिस तरह सर्वोच्च अदालत ने सभी पक्षकारों को नियत समय में पक्ष प्रस्तुत करने को कहा और लगातार 40 दिन तक सुनवाई की उसी का प्रतिफल है कि दशकों पुराना विवाद अब सुलझने के कगार पर है। उम्मीद है कि, सर्वोच्च न्यायालय नवंबर के मध्य तक फैसला सुना देगा। गौरतलब है कि इस मसले की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस अब्दुल नजीर की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने की है। संविधान पीठ ने मध्यस्थता पैनल की रिपोर्ट देखने के बाद रोजाना सुनवाई का निर्णय लिया। गौरतलब है कि अदालत ने अयोध्या विवाद को अदालत से बाहर मध्यस्थता के जरिए सुलझाने को कहा था। इसके लिए तीन मध्यस्थ नियुक्त किए, जिनमें जस्टिस एफएम इब्राहिम कलीफुल्ला मध्यस्थता समूह के अध्यक्ष थे। उनके अलावा दो अन्य सदस्यों में आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर और वरिष्ठ वकील एवं मध्यस्थता संबंधी मामलों के विशेषज्ञ श्रीराम पंचू शामिल थे।