Raj Express
www.rajexpress.co
आज है विश्व शिक्षक दिवस
आज है विश्व शिक्षक दिवस|Syed Dabeer Hussain - RE
राज ख़ास

'विश्व शिक्षक दिवस' पर शिक्षकों की दिलचस्प कहानियाँ

5 अक्टूबर सन् 1966 में अंतर सरकारी सम्मेलन में 'टीचिंग इन फ्रीडम' संधि पर हस्ताक्षर हुआ था। शिक्षकों के अधिकार एवं जिम्मेदारी, भर्ती, रोजगार सीखने एवं सिखाने के माहौल से संबंधित सिफारिशें की गई थी।

रवीना शशि मिंज

राज एक्सप्रेस। आज तारीख है 5 अक्टूबर, इस तारीख की खास बात ये है कि आज के दिन को 'विश्व शिक्षक दिवस' के रूप में मनाया जाता है।

ये हमें बताने की जरूरत नहीं कि किसी भी व्यक्ति के जीवन में शिक्षकों की क्या अहमियत होती है। शिक्षक वह होता है जो अपने शिष्यों में भेद नहीं करता है और सभी को सही रास्ता दिखाता है।

विश्व शिक्षक दिवस मनाने के पीछे का कारण :-

फ्रांस की राजधानी पेरिस में 5 अक्टूबर सन् 1966 में अंतर सरकारी सम्मेलन का आयोजन हुआ था। जिसमें 'टीचिंग इन फ्रीडम' संधि पर हस्ताक्षर किया गया था। संधि में शिक्षकों के अधिकार एवं जिम्मेदार, भर्ती, रोजगार सीखने एवं सिखाने के माहौल से संबंधित सिफारिशे की गईं थी।

5 अक्टूबर 1977 में आयोजित एक सम्मेलन में उच्चतर शिक्षा से जुड़े शिक्षकों की स्थिति को लेकर यूनेस्को की अनुशंसाओं को अंगीकृत किया गया था। शिक्षा पेशे को प्रोत्साहित करने के लिए यूनिस्कों ने इस दिन (विश्व शिक्षक दिवस) को मनाने का सुझाव दिया था। वैसे आपको बता दें, कि सभी देशों में अलग-अलग दिनों में शिक्षक दिवस मनाया जाता है।