BCCI ने चोटिल शुभमन गिल को स्वदेश लौटने को कहा, अभी तक कोई रिप्लेसमेंट नहीं
BCCI ने चोटिल शुभमन गिल को स्वदेश लौटने को कहा, अभी तक कोई रिप्लेसमेंट नहींSocial Media

BCCI ने चोटिल शुभमन गिल को स्वदेश लौटने को कहा, अभी तक कोई रिप्लेसमेंट नहीं

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने चोटिल शुभमन गिल को स्वदेश लौटने को कहा है। युवा सलामी बल्लेबाज पिछले कुछ समय से पिंडली की चोट से जूझ रहे हैं।

नयी दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने चोटिल शुभमन गिल को स्वदेश लौटने को कहा है। युवा सलामी बल्लेबाज पिछले कुछ समय से पिंडली की चोट से जूझ रहे हैं जो अब गंभीर हो गई है, इसलिए बीसीसीआई चाहता है कि वह स्वदेश लौट आए। इस तरह वह इंग्लैंड के खिलाफ चार अगस्त से शुरू होने वाली पांच मैचों की टेस्ट सीरीज से बाहर हो गए हैं।

शुभमन के जहां अब स्वदेश लौटने की उम्मीद है, बावजूद इसके उनकी जगह पर रिप्लेसमेंट (प्रतिस्थापन) की अभी तक कोई खबर नहीं है। समझा जाता है कि उनके लिए एक प्रतिस्थापन भेजने की तत्काल कोई योजना नहीं है, जिनकी अनुपलब्धता ने टीम प्रबंधन को संभावित 'क्या-अगर' स्थिति पर सोचने पर मजबूर किया है। उनके चले जाने की खबर से भारतीय टीम में ठीक वैसा ही अवांछित परिदृश्य बन गया है जैसे इंग्लैंड टीम में उनके मूल सात सदस्यों के कोरोना संक्रमित होने के बाद बना है। यह संकट का कारण बन सकता है।

टीम प्रबंधन पहले से ही स्पष्ट है कि लोकेश राहुल को टेस्ट में शुरुआती स्लॉट के लिए नहीं माना जाएगा, जिसके बाद केवल मयंक अग्रवाल और अभिमन्यु ईश्वरन के अनुभवी रोहित शर्मा के साथ ओपनिंग की सीधी स्थिति बनती है, इसलिए टीम को एक और ओपनिंग विकल्प के साथ बेहतर सेवा दी जा सकती है। समझा जाता है कि टीम प्रबंधन ने अपने मेल में किसी विशिष्ट खिलाड़ी के लिए नहीं कहा है। प्रबंधन ने केवल इस आधार पर शुभमन के प्रतिस्थापन की मांग की है कि यह परीक्षण की स्थिति में एक लंबी श्रृंखला है। इस मामले से संबंधित एक अधिकारी ने कहा, '' हमने चयनकर्ताओं को एक प्रतिस्थापन का आग्रह किया है, चाहे वह पृथ्वी शॉ हो या देवदत्त पडिक्कल या कोई भी।"

बीसीसीआई के लिए यहां एक समस्या शॉ और पडिक्कल दोनों के वर्तमान में सफेद गेंद टीम के साथ श्रीलंका में होना है। दोनों में से एक खिलाड़ी को तुरंत श्रीलंका से इंग्लैंड भेजना आसान नहीं है। इसकी वजह भारत के साथ-साथ श्रीलंका के भी ब्रिटेन सरकार की रेड लिस्ट में होना है। ब्रिटेन सरकार की एडवाइजरी के अनुसार रेड लिस्ट वाले देशों से आने वाले केवल वहीं लोग ब्रिटेन में प्रवेश कर सकते हैं जो ब्रिटिश या आयरिश नागरिक हैं। अन्य लोगों के ब्रिटेन पहुंचने पर 10 दिन के क्वारंटीन में रहना भी अनिवार्य है।

दरअसल किसी भारतीय क्रिकेटर के लिए किसी विदेशी देश में खुद को अकेले आईसोलेट काफी मुश्किल हो सकता है। रोहित शर्मा ने पिछले साल ऑस्ट्रेलिया में ऐसा किया था, लेकिन इसके लिए काफी प्लानिंग की जरूरत थी। इस बीच बीसीसीआई उन खिलाडियों के लिए टीकाकरण का आयोजन कर रहा है, जिन्होंने पिछले महीने इंग्लैंड के लिए रवाना होने से पहले अपना पहला डोज लिया था। बीसीसीआई सूत्र के मुताबिक खिलाड़ी, सपोर्ट स्टाफ और उनके पारिवारिक सदस्य अपना दूसरा डोज सात और नौ जुलाई को ले सकते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co