ENGvWI मैच में ब्रॉड ने रचा इतिहास, ऐसा करने वाले सातवें बॉलर
इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड 500 विकेट क्लब में हुए शामिल।- Social Media

ENGvWI मैच में ब्रॉड ने रचा इतिहास, ऐसा करने वाले सातवें बॉलर

"यदि वो किसी एशियाई टीम का हिस्सा होते तो करियर की पारी को इतना लंबा नहीं खींच पाते। तब तो और नहीं जब उनके एक ओवर में लगातार छह छक्के पड़े हों वो भी अहम मैच में।"

हाइलाइट्स –

  • निर्णायक मैच में रचा इतिहास

  • 500 विकेट क्लब में हुए शामिल

  • ऐसा करने वाले दूसरे इंग्लिश गेंदबाज

  • अब तक छह गेंदबाजों ने किया कारनामा

राज एक्सप्रेस। इंग्लैंड-वेस्टइंडीज के बीच तीन मैचों की टेस्ट सीरीज के आखिरी मैच में इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड ने इतिहास रच दिया। मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर खेले जा रहे तीसरे और निर्णायक मुकाबले में ब्रॉड ने यह कारनामा किया।

बारिश का साया –

वेस्टइंडीज ने दिन के खेल की शुरुआत में अपनी पारी को 10 रन पर दो विकेट के नुकसान के आगे बढ़ाया ही था कि थोड़े देर में ही बारिश होना शुरू हो गई। बारिश थमने के बाद इंग्लैंड के पेस बॉलर स्टुअर्ट ब्रॉड ने वेस्टइंडीज के ओपनर क्रेग ब्रैथवेट को पगबाधा कर इंग्लिश टीम को दिन की पहली जबकि टीम को तीसरी सफलता दिलाई।

रच दिया इतिहास – ओपनर ब्रेथवेट को एलबीडब्ल्यू आउट करते ही ब्रॉड ने टेस्ट क्रिकेट में अपने विकेटों की संख्या 500 कर ली। आपको बता दें इस उपलब्धि को इससे पहले मात्र 6 गेंदबाजों ने हासिल किया था। ब्रॉड ऐसा करने वाले सातवें अंतरराष्ट्रीय गेंदबाज हैं।

इनके नाम इतने –

पांच सौ विकेट लेने वाले गेंदबाजों की लिस्ट में इसके पहले तक 6 गेंदबाजों का नाम दर्ज था। श्रीलंकाई स्पिनर मुथैया मुरलीधरन के नाम 800, ऑस्ट्रेलियाई चकरी गेंदबाज शेन वॉर्न 708, भारतीय स्पिनर अनिल कुंबले के नाम 619 विकेट दर्ज हैं।

इंग्लैंड के पेस बॉलर जेम्स एंडरसन के नाम 589, ऑस्ट्रेलिया के महान तेज गेंदबाज ग्लेन मैक्ग्रा के नाम 563 जबकि वेस्टइंडीज के कर्टनी वॉल्स के खाते में 519 विकेट दर्ज हैं। इस तरह फेहरिस्त में दो गेंदबाज इंग्लैंड के जबकि दो गेंदबाज ऑस्ट्रेलिया के हैं जिन्होंने 500 विकेट अपने नाम किये हैं।

ऐतिहासिक मैच में नहीं किया शामिल -

कोविड 19 के कारण लंबे समय से ठप्प पड़े अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट आयोजनों के 117 दिनों बाद जब 8 जुलाई को इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच पहला अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट टेस्ट मैच खेला गया तो उस मैच में ब्रॉड को एकादश में स्थान नहीं मिल पाया।

इंग्लैंड के इस ऐतिहासिक मैच में हारने के बाद टीम प्रबंधन से कई सवाल किए गए थे। मैनचेस्टर के दोनों टेस्ट मैचों में इसके बाद ब्रॉड को मौका दिया गया। इन मैचों में उनका प्रदर्शन शानदार रहा। उन्होंने इन मैचों में दमदार गेंदबाजी की।

पूर्व कप्तान का मानना –

ब्राड के दमदार प्रदर्शन से खुश इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल अथर्टन ने इसके बाद चर्चा में कहा था कि इस इंग्लिश गेंदबाज में 600 टेस्ट विकेट लेने की क्षमता है। जिनको बस लगातार मौके देने की जरूरत है।

किस्मत के धनी –

स्टुअर्ट ब्रॉड के के बारे में एक बात माननी पड़ेगी कि वो टीम में जगह बनाने के मामले में किस्मत के धनी हैं। कहना गलत नहीं होगा कि यदि वो किसी एशियाई टीम का हिस्सा होते तो करियर की पारी को इतना लंबा नहीं खींच पाते। तब तो और नहीं जब उनके एक ओवर में लगातार छह छक्के पड़े हों वो भी अहम मैच में।

डिस्क्लेमर – आर्टिकल प्रचलित रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co