अखिल भारतीय व्यापारी संघ ने अमित शाह से की IPL रुकवाने की मांग

इस साल होने वाले IPL को लेकर BCCI के फैसले पर अखिल भारतीय व्यापारी संघ ने आपत्ति जताते हुए इसे गृह मंत्री अमित शाह रुकवाने की मांग की है।
अखिल भारतीय व्यापारी संघ ने अमित शाह से की IPL रुकवाने की मांग
IPL Vivo ControversyKavita Singh Rathore -RE

राज एक्सप्रेस। देश में हर साल भी तरह इस साल भी इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के आयोजन की तारीख निर्धारित कर दी गई हैं। परंतु इस साल होने वाले IPL को लेकर BCCI के फैसले पर अखिल भारतीय व्यापारी संघ ने आपत्ति जताते हुए इसे गृह मंत्री अमित शाह से रुकवाने की मांग की है। दरअसल, संघ द्वारा यह अप्पति चाईनीज स्पॉन्सर्ड को इस साल भी बरकरार रखने के फैसले पर जताई है।

क्या है मामला :

दरअसल, जहां केंद्र की मोदी सरकार देश में लगातार चीनी उत्पादों को बॉयकॉट कर रही है। चीन की ऐप्स को लगातार 2 बार बैन करके डिजिटल स्ट्राइक कर चुकी है। वहीं, ऐसे में IPL को स्पॉन्सर्ड करने के लिए चीन की स्मार्टफोन निर्माता कंपनी Vivo को बरकरार रखने का BCCI का फैसला सामने आया है। जिसको लेकर बेबाक मच गया है। इतना ही नहीं इस फैसले का जम विरोध भी हो रहा है। इस मामले में अखिल भारतीय व्यापारी संघ ने BCCI के इस फैसले के खिलाफ गृह मंत्री अमित शाह और विदेश मंत्री एस जयशंकर को पत्र भी लिखा है।

IPL रुकवाने को लेकर की मांग :

बताते चलें, अखिल भारतीय व्यापारी संघ द्वारा BCCI के इस फैसले पर आपत्ति जताते हुए फैसले के खिलाफ गृह मंत्री अमित शाह और विदेश मंत्री एस जयशंकर को इस साल होने वाले IPL को रुकवाने को लेकर एक पत्र लिखा है। व्यापारी संघ द्वारा तत्काल IPL को बैन करने की मांग की गई है। इस मामले में CAIT के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल द्वारा यह पत्र लिखा गया है। जिसमें उन्होंने मांग करते हुए लिखा कि,

'भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के हालिया फैसले के बारे में हम आपको अवगत कराना चाहते हैं। BCCI ने चीन की कंपनी Vivo को दुबई में आयोजित किए जा रहे हैं, IPL 2020 के स्पॉन्सर्ड के रूप में इस साल भी ऐसे समय में चुना है। जब चीन भारत की सीमाओं पर हमारे देश की भावनाओं से खेल रहा है और पीएम मोदी के नेतृत्व में देश आत्म निर्भर भारत का पालन कर रहा है। इन हालातों में BCCI का ये फैसला सरकार की व्यापक नीति के खिलाफ है।'
प्रवीण खंडेलवाल, CAIT महासचिव

स्वदेशी जागरण मंच ने भी उठाई आवाज :

बताते चलें, BCCI द्वारा लिए गए IPL से जुड़े इस फैसले के खिलाफ न केबल अखिल भारतीय व्यापारी संघ है। बल्कि, इस फैसले के खिलाफ स्वदेशी जागरण मंच ने भी सोमवार को आवाज उठाई है। संघ से जुड़े स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय सह-संयोजक अश्विनी महाजन का इस बारे में कहना है कि,

"IPL एक बिजनेस है और जो इसे चला रहे हैं उन्हें देश की भावनाओं का ख्याल नहीं है। सारी दुनिया चीन का बहिष्कार कर रही है और IPL उन भावनाओं को आहत कर रहा है। उनको ये बात समझनी चाहिए कि, देश से ऊपर कोई नहीं है, क्रिकेट भी नहीं।"
अश्विनी महाजन, स्वदेशी जागरण मंच सह-संयोजक

बता दें, भारत सरकार द्वारा रविवार को IPL का आयोजन UAE में करने को लेकर अनुमति देने के बाद IPL की तारीख 19 सितंबर तय की गई है। वहीं फाइनल की तारीख 10 नवंबर तय की गई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co