आईसीसी ने किए नियमों में महत्वपूर्ण बदलाव
आईसीसी ने किए नियमों में महत्वपूर्ण बदलावSyed Dabeer Hussain - RE

एक अक्टूबर से बदल जाएगा क्रिकेट, आईसीसी ने किए नियमों में महत्वपूर्ण बदलाव

सौरव गांगुली की अगुवाई वाली चीफ एग्जीक्यूटिव कमेटी ने क्रिकेट के नियमों में बदलावों को मंजूरी दे दी है। टी-20 वर्ल्ड कप भी बदले हुए नियमों के साथ ही खेला जाएगा।

राज एक्सप्रेस। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) समय-समय पर क्रिकेट के नियमों में बदलाव करती रहती है। हाल ही में आईसीसी ने एक बार फिर से क्रिकेट के नियमों में महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं। सौरव गांगुली की अगुवाई वाली चीफ एग्जीक्यूटिव कमेटी ने नियमों में बदलावों को मंजूरी दे दी है। ये बदले हुए नियम 1 अक्टूबर 2022 से लागू हो जाएंगे। इसका मतलब यह हुआ कि ऑस्ट्रेलिया में होने वाला आगामी टी-20 वर्ल्ड कप भी इन्हीं बदले हुए नियमों के साथ खेला जाएगा। तो चलिए जानते हैं कि क्रिकेट के इन बदले हुए नियमों के बारे में।

ये है क्रिकेट के नये नियम :

  1. नए नियमों के तहत अब वनडे और टेस्ट मैच में किसी खिलाड़ी के आउट होने पर नए बल्लेबाज को 2 मिनट के भीतर स्ट्राइक पर आना होगा। ऐसा ना करने पर नए बल्लेबाज को बिना गेंद खेले ही आउट करार दिया जा सकता है। टी-20 में यह समय 90 सेकंड है जबकि वनडे और टेस्ट में पहले 3 मिनट था।

  2. कोरोना के चलते आईसीसी ने बॉल पर लार के इस्तेमाल पर अस्थायी रूप से प्रतिबंध लगा दिया था। अब आईसीसी ने लार के इस्तेमाल पर स्थायी रूप से प्रतिबंध लगा दिया है।

  3. अब मैच के दौरान कैच आउट होने पर नया बल्लेबाज ही स्ट्राइक पर आएगा। अब तक ऐसा होता था कि यदि कैच होने से पहले स्ट्राइक चेंज हो गई हो तो नया बल्लेबाज दूसरे छोर पर आता था।

  4. नए नियमों के तहत अब बल्लेबाज किसी भी गेंद को पिच के अंदर रहकर ही खेल सकता है। ऐसी कोई भी गेंद जिसे खेलने के लिए बल्लेबाज को पिच छोड़ने पर मजबूर होना पड़े, उसे नोबॉल करार दिया जाएगा।

  5. अगर बॉल फेंकने के दौरान बल्लेबाज जानबूझकर अनुचित मूवमेंट करता है तो अंपायर उस बॉल को डेड बॉल देते हुए बल्लेबाजी टीम पर 5 रन की पेनल्टी लगा सकता है।

  6. बॉल फेंकने से पहले ही दूसरे छोर पर खड़े खिलाड़ी को आउट करने को अब तक मांकडिंग कहा जाता था। इसे आमतौर पर खेल भावना के विपरीत माना जाता था, लेकिन अब इसे अनुचित खेल सेक्शन से रन आउट सेक्शन में ट्रांसफर कर दिया गया है। यानि अब इसे सामान्य रनआउट हो माना जाएगा।

  7. अगर कोई गेंदबाज क्रीज में पहुंचने से पहले स्ट्राइक बल्लेबाज को थ्रो फेंककर रन आउट करने का प्रयास करता है तो उसे डेड बॉल माना जाएगा। अब तक इसे नो बॉल माना जाता था।

  8. टी-20 की तरह अब वनडे मैचों में भी तय समय तक ओवर पूरे ना करने पर फील्डिंग टीम को बचे हुए ओवर में एक अतिरिक्त फील्डर 30 गज के दायरे में लाना होगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co