डिकॉक ने टेस्ट क्रिकेट से अचानक लिया संन्यास
डिकॉक ने टेस्ट क्रिकेट से अचानक लिया संन्यासSocial Media

डिकॉक ने टेस्ट क्रिकेट से अचानक लिया संन्यास

अनुभवी विकेटकीपर क्विंटन डिकॉक ने अपने परिवार के साथ अधिक समय बिताने के लिए अचानक टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया है।

जोहानसबर्ग। अनुभवी विकेटकीपर क्विंटन डिकॉक ने अपने परिवार के साथ अधिक समय बिताने के लिए अचानक टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। डिकॉक पितृत्व अवकाश के कारण दूसरे और तीसरे टेस्ट में नहीं खेलने वाले थे, लेकिन अब उन्होंने पूरी तरह से क्रिकेट के सबसे लंबे प्रारूप से विदाई लेने का फ़ैसला कर लिया है। वह दक्षिण अफ़्रीका के लिए सफ़ेद गेंद क्रिकेट में मौजूद रहेंगे।

डिकॉक ने क्रिकेट साउथ अफ्रीका (सीएसए) की ओर से जारी एक बयान में कहा, यह ऐसा फ़ैसला नहीं है जिस पर मैं आसानी से पहुंच गया हूं। मैंने यह सोचने में बहुत समय लिया है कि मेरा भविष्य कैसा दिखता है और अब मेरे जीवन में क्या प्राथमिकता होनी चाहिए। साशा और मैं इस दुनिया में अपने पहले बच्चे का स्वागत करने वाले हैं और अब हम अपने परिवार को उससे आगे बढ़ाना चाहते हैं। मेरा परिवार मेरे लिए सब कुछ है और मैं चाहता हूं कि हमारे पास हमारे जीवन के इस नए और रोमांचक अध्याय के दौरान उनके साथ रहने के लिए समय और जगह हो।

उन्होंने कहा, मुझे टेस्ट क्रिकेट पसंद है और मुझे अपने देश का प्रतिनिधित्व करना पसंद है। मैंने उतार-चढ़ाव, उत्सव और यहां तक कि निराशाओं का भी आनंद लिया है, लेकिन अब मुझे कुछ ऐसा मिला है जो मुझे और भी अधिक पसंद है। जिंदगी में आप समय के सिवाए कुछ भी खरीद सकते हैं और इस समय, उनके लिए सही करने का समय है जो मेरी जिंदगी में सबसे ज्यादा मायने रखते हैं। मैं इस मौक़े पर उन सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं जो शुरू से ही मेरी टेस्ट क्रिकेट यात्रा का हिस्सा रहे हैं। मेरे कोचों, टीम के साथियों, विभिन्न प्रबंधन टीमों और मेरे परिवार और दोस्तों के लिए। अगर मेरे पास आप लोगों का साथ नहीं होता तो मैं खुद को साबित नहीं कर सकता था।

डी कॉक ने कहा, यह मेरे करियर का अंत नहीं है। मैं सफ़ेद गेंद क्रिकेट में खेलना जारी रखूंगा और अपने देश के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार रहूंगा। मैं अपनी टीम के सभी साथियों को इस सीरीज के आने वाले दो मैचों के लिए शुभकामनाएं देता हूं। आप सभी से अब वनडे और टी20 में मुलाक़ात होगी।

29 वर्षीय डिकॉक ने 2021 की शुरुआत साउथ अफ्रीका के अस्थायी टेस्ट कप्तान के रूप में की थी और इस प्रारूप से संन्यास लेकर इसे समाप्त किया। डिकॉक ने कोविड-19 महामारी में बायो बबल जीवन के प्रतिबंधों पर चिंता व्यक्त की थी और उन्हें दक्षिण अफ्रीका की वनडे टीम में श्रीलंका और नीदरलैंड के खिलाफ आराम दिया गया था।

टी20 विश्व कप में, जब सीएसए ने खिलाड़ियों को घुटने टेकने के लिए बाध्य किया, तो डिकॉक ने शुरू में इससे इनकार कर दिया और परिणामस्वरूप वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच में वह नहीं खेले। बाद में उन्होंने माफ़ी मांगी और तब से घुटने टेकना शुरू किया था।

डिकॉक ने 2014 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और 54 टेस्ट खेले, जिसमें छह शतकों के साथ 38.82 के औसत से 3300 रन बनाए। उनका पहला शतक उसी सुपरस्पोर्ट मैदान पर आया था, जिसमें उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट खेला। उन्होंने तब 7वें नंबर पर आकर नाबाद 129 रन बनाए थे और दक्षिण अफ़्रीका ने उस मैच में 2016 में इंग्लैंड को 280 रन से हराया था। उन्होंने बाद में होबार्ट में मैच जिताने वाला शतक बनाया। उस वर्ष दक्षिण अफ़्रीका ऑस्ट्रेलिया में लगातार तीसरी सीरीज जीतने में क़ामयाब हुई थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co