डबल-फाइव हंड्रेड रिकॉर्ड से चूके गांगुली
डबल-फाइव हंड्रेड रिकॉर्ड से चूके गांगुली|Social Media
खेल

इस एक मामले में डबल-फाइव हंड्रेड रिकॉर्ड से चूके गांगुली

“हालांकि कुछ बातें इस पड़ताल में चौंकाने वाली जरूर हैं, क्योंकि उनके आईपीएल परफॉर्मेंस रिकॉर्ड्स ढूंढ़ने पर भी नहीं मिलते?”

Neelesh Singh Thakur

हाइलाइट्स :

  • एक मामले में एक मौके की थी दरकार

  • जबकि दूसरे में दो चांस और मिलना थे जरूरी

राज एक्सप्रेस। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में बतौर बल्लेबाज सौरव चंडीदास गांगुली का धमाकेदार डेब्यू एंट्री से लेकर मौजूदा बीबीसीसीआई प्रेसिडेंट तक का रिकॉर्ड हमेशा टॉप परफॉर्मेंस वाला रहा है, लेकिन एक मामला ऐसा भी है, जिसे देखकर खुद गांगुली कहते होंगे हाय काश एक-दो मौके और मिल जाते, तो इसमें भी डबल और फाईव हंड्रेड अचीवमेंट का स्पेशल रिकॉर्ड बन जाता।

'महाराज' का डंका-

वर्ल्ड क्रिकेट में आज भारतीय क्रिकेट दिग्गज सौरव गांगुली 'महाराज' का डंका बज रहा है। दादा ने 12वें नंबर के रिज़र्व बल्लेबाज खिलाड़ी के दंश को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में करीब चार साल भोगा। इसके बाद पदार्पण मौके पर नंबर तीन पर बल्लेबाजी करते हुए, लॉर्ड्स के दूसरे और फिर नॉटिंघम के तीसरे टेस्ट में लगातार दो शतक जमाकर उन्होंने दुनिया के सामने काबलियत साबित कर दी।

आईपीएल परफॉर्मेंस?-

सौरव गांगुली के क्रिकेट करियर स्टेट्स पर नज़र डालें तो उनकी खूबी हर मोर्चे पर काबिल ए गौर है। लेकिन कुछ बातें इस पड़ताल में चौंकाने वाली जरूर हैं क्योंकि उनके आईपीएल परफॉर्मेंस रिकॉर्ड्स ढूंढ़ने पर भी नहीं मिलते। बाकी अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय और लिस्ट ए क्रिकेट प्रदर्शन के बारे में तो जरूर जानकारी मिल रही है। हम जिस रिकॉर्ड की बात कर रहे हैं उसमें आईपीएल रिकॉर्ड की गैरमौजूदगी का भी गंभीर पेंच है।

डाटा का टोटा-

मतलब क्रिकेट डाटा सर्वज्ञ एक सर्वमान्य साइट (espncricinfo) पर जो डाटा है, वो यदि सही है, तो फिर गांगुली एक मात्र चांस से डबल हंड्रेड परफॉर्मेंस, जबकि दो मौकों के कारण फाइव हंड्रेड रिकॉर्ड को अचीव करने से बहुत कम अंतर से चूके हैं।

इतने रिकॉर्ड हैं नाम-

गांगुली के आईपीएल परफॉर्मेंस के अधिकृत आंकड़े सायबर संसार में नहीं मिल रहे हैं। दरअसल साइट पर दर्शाए गए आंकड़ों के मुताबिक गांगुली ने 113 टेस्ट, 311 वनडे, 254 फर्स्ट क्लास जबकि 437 लिस्ट ए क्रिकेट मैच खेले। हालांकि गांगुली ने कभी भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर टी20 मैच नहीं खेला, लेकिन आईपीएल के 77 टी20 मैचों की जानकारी जरूर दी जा रही है। इन मैचों के लिहाज से गांगुली ने टेस्ट में 7212, वनडे में 11363 और T20 में क्रमशः 1726 रन बनाए।

इस मामले में चूके-

दरअसल मामला गांगुली के कैचों के रिकॉर्ड्स को लेकर है। गांगुली ने टेस्ट में 71, वनडे में100 जबकि T20 में 28 कैच लपके हैं। इस तरह उनके नाम प्रचलित क्रिकेट में कुल 199 कैच पकड़ने का रिकॉर्ड है। मतलब लोकप्रिय क्रिकेट फॉरमेट में यदि गांगुली एक कैच और पकड़ते तो उनके नाम पूरे 200 कैच पकड़ने का रिकॉर्ड होता।

फाइव हंड्रेड का आंकड़ा-

इसी तरह यदि उनके कुल करियर कैचों की बात करें तो तीनों फॉरमेट में पकड़े गए, कुल 199 कैचों में यदि प्रथम श्रेणी के 168 जबकि लिस्ट A के 131 कैच और जोड़ दिए जाएं तो गांगुली के नाम कुल जमा 498 कैच पकड़ने का रिकॉर्ड है।

ऐसे में यदि गांगुली दो कैच और पकड़ लेते या फिर दो कैच नहीं छोड़ते तो उनके नाम क्रिकेट करियर में कुल जमा 500 कैच पकड़ने का भी रिकॉर्ड होता, तो क्या कहना है, आपका द महाराज, दादा, प्रिंस ऑफ कोलकाता, द गॉड ऑफ द ऑफ साइड, द वारियर प्रिंस या फिर बंगाल टाइगर यानी दृढ़ प्रतिज्ञ सौरव गांगुली के बारे में?

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर ।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co