आईएसएल: ड्रॉ की आदत छोड़ केरला के खिलाफ पूरे तीन अंक लेना चाहेगा हैदराबाद
आईएसएल: ड्रॉ की आदत छोड़ केरला के खिलाफ पूरे तीन अंक लेना चाहेगा हैदराबादSocial Media

आईएसएल: ड्रॉ की आदत छोड़ केरला के खिलाफ पूरे तीन अंक लेना चाहेगा हैदराबाद

हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के सातवें सीजन में हैदराबाद एफसी अधिकतर समय तक टॉप-4 में बनी हुई थी। लेकिन अब टीम पांचवें स्थान पर है और उसके पास अभी तीन मैच और बचे हैं।

राज एक्सप्रेस। हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के सातवें सीजन में हैदराबाद एफसी अधिकतर समय तक टॉप-4 में बनी हुई थी। लेकिन अब टीम पांचवें स्थान पर है और उसके पास अभी तीन मैच और बचे हैं। अंकों के मामले में हैदराबाद एफसी चौथे स्थान पर काबिज एफसी गोवा के साथ है। दोनों टीमों के 24-24 अंक है। निजाम्स हालांकि तीसरे नंबर पर विराजमान नॉर्थईस्ट युनाइटेड से दो अंक पीछे है। प्लेऑफ की उम्मीदों को ङ्क्षजदा रखने के लिए हैदराबाद एफसी अब और अंक नहीं गंवा सकती है।

हैदराबाद ने पिछले सात में से छह मैच ड्रॉ खेले हैं और टीम को मंगलवार को यहां वॉस्को के तिलक मैदान स्टेडियम में केरला ब्लास्टर्स के खिलाफ अपना अगला मुकाबला खेलना है। हैदराबाद की टीम अच्छी तरह से जानती है कि अगर अब वह अंक गंवाती है तो उसके लिए प्लेऑफ की राह काफी मुश्किल हो जाएगी। केरला ने अब तक 29 गोल खाए हैं, जोकि लीग में दूसरा सबसे खराब रिकॉर्ड है। कोच किबु विकुना के लिए चिंता की बात यह है कि टीम ने पहला गोल करने के बाद 18 अंक गंवाए हैं। लेकिन हैदराबाद के कोच मैनुअल मारक्वेज का मानना है कि इसका मतलब यह नहीं है कि केरला को हल्के में लिया जा सकता है।

मारक्वेज ने कहा, ''अन्य टीमों की तरह ही केरला भी है, जोकि तालिका में नीचे से दूसरे नंबर पर है। वे अभी भी तालिका में ऊपर जा सकती है। हम अपनी शैली के हिसाब से केरला के खिलाफ खेलेंगे। हम अपनी शैली में बदलाव नहीं करेंगे क्योंकि हमें जीतने की जरूरत है। हम नौ मैचों से अजेय हैं, लेकिन उनमें से छह ड्रॉ भी है। हमें मैचों को जीतने की कोशिश करनी चाहिए क्योंकि हमारे लिए सीजन काफी शानदार रहा है। हम टॉप-4 में पहुंचना चाहते हैं।"

केरला ने इस सीजन में 22 गोलों में से 14 गोल दूसरे हाफ में दागे हैं जबकि हैदराबाद ने 21 में से 16 गोल दूसरे हाफ में किए हैं। हालांकि दोनों टीमों को अपनी डिफेंस पर काम करने की जरूरत है क्योंकि केरला ने इस सीजन में दूसरे हाफ में सबसे ज्यादा 18 गोल खाए हैं। वहीं, हैदराबाद ने 17 में से 11 गोल दूसरे हाफ में खाए हैं। विकुना का कहना है कि उनकी टीम मौकों को गोल में तब्दील करने में सुधार करना चाहती है। उन्होंने कहा, ''हमारे अंदर अटैकिंग और डिफेंस में संतुलन का अभाव है। हमने अधिकतर मैचों में अपने प्रतिद्वंद्वी से ज्यादा मौके बनाएं हैं, लेकिन हम अंक नहीं ले पा रहे हैं और हमें इसमें सुधार करना होगा। हम अपनी गलतियों पर काम कर रहे हैं।"

डिस्क्लेमर : यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। इसमें राज एक्सप्रेस द्वारा कोई संशोधन नहीं किया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co