मुझे दक्षिण अफ़्रीका और आरसीबी के लिए अहम भूमिका निभानी है : डीविलियर्स
मुझे दक्षिण अफ़्रीका और आरसीबी के लिए अहम भूमिका निभानी है : डीविलियर्सSocial Media

मुझे दक्षिण अफ़्रीका और आरसीबी के लिए अहम भूमिका निभानी है : डीविलियर्स

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान एबी डीविलियर्स को भरोसा है कि उन्हें राष्ट्रीय टीम के साथ-साथ आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है।

जोहानसबर्ग। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान एबी डीविलियर्स को भरोसा है कि उन्हें राष्ट्रीय टीम के साथ-साथ आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है। विश्व क्रिकेट के महान बल्लेबाजों में से एक डीविलियर्स ने पिछले साल नवंबर में सभी तरह के क्रिकेट से संन्यास लिया था। टाइम्स लाइव से बातचीत के दौरान डीविलियर्स ने कहा, मैं मानता हूं कि मुझे दक्षिण अफ़्रीकी क्रिकेट और आईपीएल में रॉयल चैंलेंजर्स बेंगलुरु के लिए अहम भूमिका निभानी है। मैं नहीं जानता कि भविष्य में क्या होगा।

20,014 अंतर्राष्ट्रीय रन बनाने के अलावा डीविलियर्स के नाम वनडे में सबसे तेज अर्धशतक, शतक और 150 रन बनाने का रिकॉर्ड है। रॉयल चैलेंजर्स के लिए उन्होंने 157 मैचों में 4522 रन बनाए हैं। 37 वर्षीय डीविलियर्स ने कहा कि वह प्रतिभाशाली युवा खिलाड़ियों को सलाह दे रहे हैं और भविष्य के लिए उन्हें तैयार कर रहे हैं। उन्होंने कहा, इस बारे में कोई नहीं जानता है। मुझे उम्मीद है कि आगे चलकर एक दिन मैं कह सकूंगा कि मैंने कुछ खिलाड़ियों के जीवन को बदलने में अपना योगदान दिया।

2018 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके डीविलियर्स ने बताया कि उन्हें कोरोना महामारी में कई व्यक्तिगत चुनौतियों का सामना करना पड़ा। उन्होंने कहा, पिछले साल दो बार आईपीएल के लिए जाना, यात्रा प्रतिबंधों, कोरोना टेस्ट, रद्द उड़ानों से जूझना और बच्चों की पढ़ाई का प्रबंधन करना चुनौतीपूर्ण था। पिछले कुछ वर्षों में मैंने अपने बच्चों को दौरे पर नहीं ले जाने का निर्णय लिया था। मेरे लिए खुद को प्रेरित करना और सचेत रहना सबसे बड़ी चुनौती थी। वह आगे कहते हैं कि उन्हें कोविड भी हो गया था और वह 10-12 दिन तक बीमार रहे।

मई 2020 में आईपीएल को स्थगित कर दिया गया था जब भारत में टीमों के बायो-बबल में कई खिलाड़ी कोरोना संक्रमित पाए गए थे। साल के अंतिम भाग में टूर्नामेंट के बचे हुए मैच यूएई में खेले गए। डीविलियर्स ने बताया कि उसी ऊर्जा के साथ सबसे बड़े मंच पर खुद को साबित करना कठिन हो रहा था। उनके लिए यह खेल हमेशा से आनंद लेने का माध्यम था। उन्होंने कहा, जैसे ही मुझे यात्रा करने और बायो-बबल में रहने में दिक़्क़त होने लगी, उसने मेरे खेल और उससे मिलने वाले आनंद को प्रभावित किया। मुझे समझ आया कि मैदान पर रन बनाने से ज्यादा मेरा ध्यान मैदान के बाहर की गतिविधियों पर था और तब मेरे मन में अलविदा कहने का विचार उत्पन्न हुआ।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co