मैं ऑस्ट्रेलियाई सरकार के नियमों के अनुसार चिकित्सा छूट का हकदार था : जोकोविच
मैं ऑस्ट्रेलियाई सरकार के नियमों के अनुसार चिकित्सा छूट का हकदार था : जोकोविचSocial Media

मैं ऑस्ट्रेलियाई सरकार के नियमों के अनुसार चिकित्सा छूट का हकदार था : जोकोविच

जोकोविच ने कहा, मैंने बताया था कि मैं दिसंबर 2021 में कोरोना संक्रमित हुआ था और इस आधार पर मैं ऑस्ट्रेलियाई सरकार के नियमों और दिशा-निर्देशों के अनुसार चिकित्सा छूट का हकदार था।

मेलबर्न। दुनिया के नंबर एक टेनिस खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने शनिवार को ऑस्ट्रेलियाई सरकार द्वारा उन्हें ऑस्ट्रेलिया में प्रवेश न देने के फैसले के खिलाफ कोर्ट में दायर याचिका पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि पिछले महीने कोरोना की चपेट में आने के बाद उन्हें ऑस्ट्रेलिया में प्रवेश के लिए अप्रवासन मंजूरी मिल गई थी। ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग निगम (एबीसी) ने शनिवार को पुष्टि की कि जोकोविच के वकीलों ने उनके ऑस्ट्रेलिया से निर्वासन को चुनौती देते हुए अदालत में जानकारी दी है कि जोकोविच पिछले महीने कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे।

वीजा रद्द होने के मामले में सोमवार को अदालत की सुनवाई से पहले उनके वकीलों ने कहा है कि जोकोविच को ऑस्ट्रेलियन ओपन टूर्नामेंट के आयोजक टेनिस ऑस्ट्रेलिया से छूट मिली थी। इतना ही नहीं ऑस्ट्रेलिया के गृह विभाग के एक पत्र में कहा गया था कि जोकोविच को देश में प्रवेश की अनुमति दे दी गई है। जोकोविच ने अदालत में जमा एफिडेविट में मेलबर्न एयरपोर्ट पर हिरासत में लिए जाने के अनुभव के बारे में कहा, मैंने बताया था कि मैं दिसंबर 2021 में कोरोना संक्रमित हुआ था और इस आधार पर मैं ऑस्ट्रेलियाई सरकार के नियमों और दिशा-निर्देशों के अनुसार चिकित्सा छूट का हकदार था।

जोकोविच का कहना कि उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई सीमा बल (एबीएफ) के अधिकारियों से कहा था कि उन्होंने अपनी ऑस्ट्रेलियाई यात्रा घोषणा सही ढंग से की थी। इसके अलावा अपने वीजा पर ऑस्ट्रेलिया में कानूनी रूप से प्रवेश करने के लिए सभी आवश्यक आवश्यकताओं को पूरा किया। अदालत में जमा किए गए एफिडेविट में कहा गया है कि जोकोविच 16 दिसंबर को पहली बार पॉजिटिव पाए गए थे, लेकिन 30 दिसंबर को पिछले 72 घंटों में उन्हें कोरोना का कोई लक्षण और सांस लेने में कोई दिक्कत नहीं थी।

एफिडेविट के मुताबिक एक जनवरी को जोकोविच को ऑस्ट्रेलिया के गृह मंत्रालय से एक दस्तावेज मिला जिसमें बताया गया था कि उनके जवाबों से संकेत मिलता है कि वह ऑस्ट्रेलिया में क्वारंटाइन मुक्त आगमन की आवश्यकताओं को पूरा करते हैं। इस एफिडेविड के आधार पर संघीय अदालत ने गृह मंत्रालय को रविवार तक जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गृह मंत्रालय की इकाई ऑस्ट्रेलियाई सीमा बल ने इस पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.