पंड्या के खेलने से भारत को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होगा फायदा

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल का मानना है कि भारत जब उनके देश का दौरा करेगा तो उसे हार्दिक पंड्या को टीम में रखना चाहिए।
पंड्या के खेलने से भारत को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होगा फायदा
पंड्या के खेलने से भारत को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होगा फायदाSocial Media

हाइलाइट्स:

  • पंड्या के खेलने से भारत को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होगा फायदा

  • यह बल्लेबाज चुनौती का सामना करने में अहम साबित हो सकता है: इयान चैपल

राज एक्सप्रेस। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल का मानना है कि भारत साल के आखिर में जब उनके देश का दौरा करेगा तो उसे हार्दिक पंड्या को टीम में रखना चाहिए क्योंकि यह आलराउंडर मेजबान देश की मजबूत बल्लेबाजी के कारण पेश होने वाली चुनौती का सामना करने में अहम साबित हो सकता है। पंड्या 2018 से टेस्ट मैच नहीं खेले हैं और वह हाल में पीठ की चोट से उबरे हैं। यह मध्यम गति का गेंदबाज भारत की सीमित ओवरों की टीम का अहम हिस्सा है। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच इस साल के आखिर में चार टेस्ट मैचों की सीरीज खेली जाएगी।

चैपल ने में अपने कॉलम में लिखा, अगर हार्दिक पंड्या उपलब्ध रहता है तो इससे मदद मिलेगी। वह उस समय दबाव बनाने के लिए भारत को अतिरिक्त गेंदबाजी विकल्प मुहैया कराएगा जब मुख्य तेज गेंदबाजों को विश्राम की जरूरत होगी। पंड्या ने हाल में कहा कि पीठ की चोट के कारण वह अपने लिए टेस्ट क्रिकेट की चुनौती को समझते हैं। उनकी पीठ का पिछले साल ऑपरेशन किया गया था। पंड्या ने कहा था कि वह सीमित ओवरों की क्रिकेट में अपने महत्व को समझते हैं।

चैपल ने कहा, उनके पास सिडनी में होने वाले मैच से पहले शुरुआती तीन टेस्ट मैचों में अपने ओवरों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ाने का मौका होगा। सिडनी में वह तीसरे तेज गेंदबाज की भूमिका निभा सकते हैं ताकि दूसरे स्पिनर को अंतिम एकादश में शामिल किया जा सके। उन्होंने कहा, पंड्या को बल्लेबाजी क्रम में सातवें नंबर पर रखने का मतलब होगा कि ऋषभ पंत को विकेटकीपिंग के साथ साथ छठे नंबर पर बल्लेबाजी करनी होगी।

स्पिन विभाग में अश्विन, जडेजा और कुलदीप में से किसी एक का चयन करना मुश्किल

चैपल का मानना है कि भारतीय चयनकर्ताओं को स्पिन विभाग में रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जडेजा और कुलदीप यादव में से किसी एक का चयन करने के लिए काफी माथापच्ची करनी होगी। उन्होंने कहा, भारतीय चयनकर्ताओं को स्पिनर का चयन करने लिए काफी माथापच्ची करनी होगी। आर अश्विन का रिकॉर्ड शानदार है लेकिन ऑस्ट्रेलिया में नहीं। चैपल ने कहा, रविंद्र जडेजा ऑलराउंडर हैं और गेंदबाजी में सुधार से उनका दावा मजबूत बन गया है जबकि कुलदीप यादव ऑस्ट्रेलियाई पिचों पर कारगर साबित हो सकते हैं। यह मुश्किल फैसला होगा।

भारत की सबसे बड़ी चुनौती ऑस्ट्रेलिया की मजबूत बल्लेबाजी से निपटना

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा, भारत की सबसे बड़ी चुनौती ऑस्ट्रेलिया की मजबूत बल्लेबाजी से पार पाना होगा। स्टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर के अलावा मार्नस लाबुशेन तीसरे नंबर पर मजबूती से उबरे हैं जिससे बल्लेबाजी अधिक मजबूत हुई है। ऑस्ट्रेलिया अब सफलता के लिए स्मिथ और वॉर्नर पर कम निर्भर है।

चैपल ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के पास मजबूत गेंदबाजी आक्रमण है। उन्होंने कहा, तेज गेंदबाजी में पैट कमिन्स, मिशेल स्टार्क, जोश हेजलवुड और जेम्स पैटिनसन हैं जबकि स्पिन विभाग में नाथन लियोन का चयन करना आसान है।

चैपल ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया का मजबूत आक्रमण खतरनाक विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा को बांध कर रखने में सक्षम है। पुजारा ने पिछली बार भारत की 2-1 से जीत में अहम भूमिका निभायी थी। उन्होंने कहा, ऑस्ट्रेलिया का मजबूत आक्रमण विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा की मौजूदगी के बावजूद भारत को बड़ा स्कोर करने से रोक सकता है।

पेसर्स ही नहीं स्पिनर्स के लिए भी मददगार है लार: कुलदीप यादव

कोरोनावायरस के चलते खेल गतिविधियां भी रुकी सी हुई हैं। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने खेल के दोबारा शुरू होने पर भी उसमें कुछ बदलाव के निर्देश दिए हैं। आईसीसी का कहना है कि वायरस को फैलने से रोकने के लिए गेंद को चमकाने के लिए लार का उपयोग बंद करना होगा। हालांकि यह अस्थायी विकल्प है लेकिन इसे लेकर क्रिकेट जगत में कई तरह की चर्चाएं चल रही हैं। इसका सबसे ज्यादा असर तेज गेंदबाजों पर पडऩे की बात कही जा रही है लेकिन स्पिनर्स भी इससे अछूते हैं। टीम इंडिया के चाइनामैन कुलदीप यादव का मानना है कि स्पिनर्स के लिए भी गेंद को चमकाना बहुत जरूरी है।

यादव ने कहा कि ऐसा नहीं है कि गेंद को चमकाना सिर्फ पेसर्स के लिए जरूरी है स्पिनर्स के लिए भी यह उतनी ही अहम है। उन्होंने कहा कि अगर गेंद में चमक नहीं होगी तो वह हवा में नहीं घूमेगी। ऐसे में बल्लेबाज के लिए खेलना आसान हो जाएगा। हालांकि उन्होंने उम्मीद जताई कि एक बार वायरस का प्रभाव खत्म होने के बाद क्रिकेट अपने पुराने रूप में लौट आएगा। यादव ने कहा कि कोरोना की मुसीबत हमेशा रहने वाली नहीं है।

कुलदीप खुद कानपुर में प्रैक्टिस करते समय गेंद पर लार का इस्तेमाल कर रहे हैं। उनका मानना है कि लार से गेंद में ड्रिफ्ट आती है। एक इंटरव्यू में यादव कहा कि लार का इस्तेमाल बंद करने से गेंदबाजों को काफी असर पडऩे वाला है। उनका मानना है कि इससे उबरने में काफी वक्त लगेगा। उन्होंने कहा कि गेंदबाजों को आदत होती है जीभ से स्लाइवा लेकर गेंद चमकाने की। इस आदत को बदलना बहुत मुश्किल होगा।

कानपुर में उनका क्षेत्र ग्रीन जोन में आता है। लॉकडाउन खत्म होने के बाद अभी कोच के साथ प्रैक्टिस शुरू की है। पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और मौजूदा कोच मिसबाह-उल-हक ने कहा था कि तेज गेंदबाजों को मास्क पहनकर बोलिंग करनी चाहिए। उनका कहना था कि गेंदबाजों की प्रवृत्ति होती है गेंद को चमकाने के लिए स्लाइवा का इस्तेमाल करना और मास्क पहनकर बोलिंग करने से वह अपनी इस स्वाभाविक प्रवृत्ति पर रोक लगा सकेंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co