आईसीसी की क्रिकेट समिति ने अंपायर कॉल नियम को बरकरार रखने की सिफारिश की
आईसीसी की क्रिकेट समिति ने अंपायर कॉल नियम को बरकरार रखने की सिफारिश कीSocial Media

आईसीसी की क्रिकेट समिति ने अंपायर कॉल नियम को बरकरार रखने की सिफारिश की

भारतीय कप्तान विराट कोहली के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अंपायर कॉल के नियम के विरोध के बावजूद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की क्रिकेट समिति ने डीआरएस के अंपायर कॉल नियम को बरकरार रखने की सिफारिश की है।

राज एक्सप्रेस। भारतीय कप्तान विराट कोहली के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अंपायर कॉल के नियम के विरोध के बावजूद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की क्रिकेट समिति ने डीआरएस के अंपायर कॉल नियम को बरकरार रखने की सिफारिश की है। आईसीसी की मुख्य कार्यकारी समिति की आगामी सप्ताह निर्धारित वर्चुअल बैठक में इस सिफारिश को पेश किया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक क्रिकेट समिति की मार्च के शुरुआत में हुई वर्चुअल बैठक में समिति के सदस्यों ने खिलाड़ियों और प्रशंसकों सहित क्रिकेट के सभी हितधारकों को अंपायर कॉल के नियम और इसके संचालन के बारे में बेहतर तरीके से समझाने की बात पर जोर दिया था।भारतीय कप्तान सोमवार को पुणे में एक बयान में यह कहते-कहते रुक गए थे कि अंपायर कॉल के नियम को खेल से हटा देना चाहिए, लेकिन उन्होंने साथ ही यह कहा था कि इस नियम पर दोबारा से ध्यान देने की जरूरत है, क्योंकि इससे काफी उलझनें पैदा हो रही हैं।

उनके मुताबिक इस बात पर कोई बहस नहीं होनी चाहिए कि बॉल स्टंप्स को कितना हिट करेगी।विराट ने कहा था, मैं तब से क्रिकेट खेल रहा हूं जब कोई डीआरएस नहीं था। यदि अंपायर ने कोई फैसला किया है चाहे बल्लेबाज उसे पसंद करे या न करे, यह बना रहता है और यदि अंपायर किसी को नॉट आउट देता है तो फिर यह मायने नहीं रखता कि वह थोड़े अंतर से है या ज्यादा से। क्रिकेट के आम समझ के नजरिए से मुझे नहीं लगता कि इस पर कोई बहस होनी चाहिए। यदि बॉल स्टंप्स को छूते हुए निकल रही है तो बल्लेबाज को आउट होना चाहिए। चाहे आपको यह पसंद आए या न आए।

पूर्व भारतीय कप्तान अनिल कुंबले के नेतृत्व और एंड्रयू स्ट्रॉस, राहुल द्रविड़, माहेला जयवर्धने और शॉन पोलॉक जैसे पूर्व अंतरराष्ट्रीय कप्तानों, मैच रेफरी रंजन मदुगले, अंपायर रिचर्ड इलिंगवॉर्थ और मिकी आर्थर की मौजूदगी वाली क्रिकेट समिति ने अन्य मैच अधिकारियों, प्रसारकों और बॉल-ट्रैकिंग प्रौद्योगिकी आपूर्तिकर्ता हॉक-आई से इस बारे में सुझाव लिए हैं और थोड़ी बहस के बाद समिति ने फैसला किया है कि अंपायर कॉल नियम को बने रहना चाहिए, क्योंकि यह माना गया है कि बॉल-ट्रैकिंग तकनीक 100 फीसदी सही नहीं हो सकती।

डिस्क्लेमर : यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। इसमें राज एक्सप्रेस द्वारा कोई संशोधन नहीं किया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co