IND vs ENG : इंग्लैंड से 321 रनों से पिछड़े भारत को फॉलोऑन का कितना खतरा?
कप्तान कोहली के विकेट का जश्न मनाती इंग्लैंड की टीम।- Social Media

IND vs ENG : इंग्लैंड से 321 रनों से पिछड़े भारत को फॉलोऑन का कितना खतरा?

क्या भारत फॉलोऑन खेलेगा या इंग्लैंड फिर से बल्लेबाजी कर भारत को बड़ा टारगेट देगा? जानिये तीसरे दिन की हाइलाइट्स और चौथे दिन की संभावनाएं-

हाइलाइट्स –

  • भारत पर फॉलोऑन का खतरा

  • इससे बचने 121 रनों की दरकार

  • अश्विन-सुंदर से कमाल की आस

राज एक्सप्रेस। मेजबान भारत और मेहमान इंग्लैंड के बीच चैन्नई में खेले जा रहे पहले टेस्ट के तीसरे दिन भी मेहमान का पलड़ा भारी रहा। दिन का खेल समाप्त होने तक इंग्लैंड भारत से 321 रन आगे था, जबकि 578 रनों का पीछा करते वक्त भारत ने अपने शीर्ष 6 विकेट गंवा दिये।

Highlights day 3 -

दूसरे दिन के नाबाद बल्लेबाजों डोमिनिक बेस (Dominic Bess) 28(84) और जैक लीच (Jack Leach) 6(28) ने तीसरे दिन इंग्लैंड की पारी को आगे बढ़ाया। इंग्लैंड का नौंवा विकेट 186वें ओवर में बुमराह की की तीसरी गेंद पर गिरा।

नाइंथ विकेट डोम बेस को बुमराह की गेंद पर पगबाधा करार दिया गया। बेस ने 105 गेंदों पर 34 रनों की धीमी लेकिन उपयोगी पारी खेली। बेस की 34 रनों की पारी में 24 रन 6 चौकों की मदद से आये। बेस का विकेट 567 रनों के कुल योग पर गिरा। बुमराह का यह ओवर विकेट मैडन रहा।

जिसका इंतजार था –

पारी के 191वें ओवर की पहली गेंद पर इंग्लैंड की पहली पारी का अंत तब हुआ जब अश्विन ने एंडरसन को 1 रन के व्यक्तिगत स्कोर पर बोल्ड कर दिया। पहली पारी में इंग्लैंड का स्कोर 190.1 ओवरों में 578 रन रहा। तीसरे दिन इंग्लैंड ने दो विकेट गंवाकर 23 रन जोड़े।

इंग्लैंड की पारी –

इंग्लैंड की टीम ने दूसरे दिन के टोटल 8 विकेट के नुकसान पर 555 के आगे खेलना शुरू किया। तीसरे दिन इंग्लैंड के बल्लेबाज पारी को 10.1 ओवर ही खींच पाए और टीम 190.1 ओवरों में 578 के कुल योग पर ऑल आउट हो गई।

वनडे से अधिक ओवर –

भारतीय गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने पहली पारी में वनडे की पारी में निर्धारित 50 से भी ज्यादा ओवर गेंदबाजी की। इसके पहले किसी पारी में सर्वाधिक ओवर गेंदबाजी के मामले में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में 2011/12 में 53 ओवर गेंदबाजी की थी।

इंग्लैंड के खिलाफ अश्विन ने 2.60 की इकोनॉमी के साथ 55.1 ओवरों में 3 विकेट लेकर 146 रन खर्च किये। उन्होंने पांच ओवर मैडन गेंदबाजी की। जबकि इस दौरान 2 नो बॉल डालीं।

स्टंपिंग चांस मिस्ड –

टीम की ओर से 187 जबकि खुद के खाते के 54वें ओवर में गेंदबाजी करने आए अश्विन की गेंद पर पंत ने लीच को स्टंपिंग आऊट करने का आसान मौका गंवा दिया।

मैच में गेंदबाजों को कम विकेट मिलने का कारण ऋषभ पंत भी रहे क्योंकि स्टंप के पीछे जितनी उनकी स्लेजिंग के चर्चे हैं उतने ही कैच और स्टंपिंग चांस गंवाने के भी। मैच में पंत की खराब विकेट कीपिंग के कारण विकेट के पीछे काफी रन भी बने।

भारत के दो बैड रिकॉर्ड –

इंग्लैंड के खिलाफ भारत ने एक बुरे रिकॉर्ड की बराबरी की तो फिर एक बुरे रिकॉर्ड के आसपास रहा। दरअसल पहली पारी में भारतीय गेंदबाजों के खाते में कुल जमा 20 नो बॉल दर्ज हुईँ।

क्रिकबज के आंकड़ों के मुताबिक (cricbuzz) घरेलू मैदान पर नो बॉल के मामले में इतनी गेंदों का रिकॉर्ड भारत के नाम 2009/10 में श्रीलंका के खिलाफ दर्ज है। तब अहमदाबाद मैदान 20 नो बॉल की हकीकत का गवाह बना था।

दूसरे रिकॉर्ड की बात करें तो साल 2004/05 के कानपुर टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका की 190.4 ओवरों की पारी के बाद 190.1 ओवरों की इंग्लैंड की पहली पारी सबसे लंबी पारी रही।

भारत की पहली पारी –

इंग्लैंड के बड़े स्कोर का पीछा करने भारत की ओर से रोहित शर्मा/शुभमन गिल की सलामी जोड़ी उतरी। लेकिन उसे ऑस्ट्रेलिया की तरह कामयाबी घरेलू मैदान पर नसीब नहीं हुई।

पहला विकेट –

सलामी जोड़ी में से रोहित शर्मा पारी के चौथे ओवर की तीसरी गेंद पर आउट हो गए। शर्मा ने 9 गेंदों पर 1 चौके की मदद से 6 रन बनाए। जोफ्रा आर्चर की गेंद पर उनका कैच जोस बटलर ने लपका।

दूसरा विकेट –

पांच चौके मारने के साथ खुलकर खेल रहे शुभमन गिल पारी को संवार नहीं पाए। दूसरे विकेट के रूप में आउट होने के पहले गिल ने 28 गेंदों पर 29 रनों की तेज पारी खेली। गिल का विकेट भी आर्चर ने हासिल किया। आर्चर की गेंद पर गिल का कैच जैम्स एंडरसन ने पकड़ा।

तीसरा विकेट –

थर्ड विकेट था कैप्टन विराट कोहली का जिनका बल्ला पैटरनिटी लीव के बाद रिटर्निंग मैच में नहीं चल पाया। कोहली को डोमिनिक बेस ने 24.4 ओवर में ओली पोप के हाथों कैच कराया। आउट होने के पहले कोहली ने 48 गेंदें खेलीं और 11 रन बनाए।

चौथा विकेट –

25वें ओवर में नियमित कप्तान का विकेट 71 रनों पर गिरने के बाद क्रीज पर मोर्चा संभाला ऑस्ट्रेलिया दौरे के सफल कार्यकारी कप्तान अजिंक्य रहाणे ने। इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट की पहली पारी में रहाणे सफल नहीं हो पाए।

रहाणे का कैच डोमिनिक बेस की गेंद पर इंग्लिश कप्तान जो रूट ने लपका। रहाणे ने 6 गेंदों पर एक रन बनाया। रहाणे के रूप में भारत का चौथा विकेट 73 रनों पर गिरा।

पुजारा/पंत साझेदारी –

पारी के कुल योग 71 पर कोहली जबकि मात्र 2 रन बाद रहाणे का विकेट गंवाने से भारतीय टीम के समक्ष कम स्कोर पर ऑल आउट होने का खतरा मंडरा रहा था। क्रिकेट प्रशंसकों के जहन में ऑस्ट्रेलिया दौरे वाले मैच की स्मृति उभर आई थी।

लेकिन अनुभवी चेतेश्वर पुजारा ने न केवल धैर्य पूर्वक पारी को संभाला बल्कि कम अनुभवी पंत के साथ मिलकर रन बनाना जारी रखा। दोनों के बीच 5वें विकेट के लिए 119 रनों की साझेदारी हुई।

पांचवा विकेट –

जब लग रहा था कि पुजारा और पंत की जोड़ी पिछली चार साझेदारियों (53, 148, 61, 103*) की तरह इस बार बड़ी पार्टनरशिप की ओर आगे बढ़ रही है तब ही पुजारा पांचवे विकेट के तौर पर आउट हो गए।

पुजारा का विकेट 50.4 ओवर में 192 रनों के कुल योग पर गिरा। पुजारा ने 143 गेंदों की पारी में 11 चौकों की मदद से 73 रन बनाये। पुजारा का कैच रोरी बर्न्स ने डोमिनिक बेस की गेंद पर पकड़ा।

फिर शतक चूके पंत –

पुजारा के साथ मिलकर भारतीय पारी को संभालने वाले पंत फिर पुजारा के आउट होने के बाद ज्यादा देर मोर्चा नहीं संभाल सके। पंत के रूप में भारतीय पारी का छठवां विकेट गिरा। आउट होने के पहले पंत ने 88 गेंदों पर 5 छक्कों औऱ 9 चौकों के सहारे 91 रन बनाए। पंत का विकेट 56.4 ओवरों में टीम के कुल योग 225 रनों पर गिरा।

स्टंप्स के समय –

दिन का खेल समाप्त होने के वक्त वॉशिंगटन सुंदर 33(68) और रविचंद्रन अश्विन 8(54) क्रीज पर डटे हुए थे। पहले टेस्ट मैच के तीसरे दिन भारत ने 74 ओवर खेलकर 6 विकेट के नुकसान पर 257 रन बना लिये हैं। मेजबान भारतीय टीम फिलहाल इंग्लैंड से 321 रन पीछे है।

बेस/आर्चर रहे सफल –

इंग्लैंड की ओर से डोमिनिक बेस सबसे सफल गेंदबाज रहे। बेस ने 23 ओवरों में 5 ओवर मैडन डालते हुए 55 रन देकर 4 विकेट हासिल किये। आर्चर ने 16 ओवरों में 3 मैडन डालते हुए 52 रन दिये और भारत के दोनों सलामी बल्लेबाजों को आउट किया।

अनुशासित गेंदबाजी –

इंग्लैंड के गेंदबाजों ने पारी में अब तक मात्र 5 रन अतिरिक्त कोटे से खर्च किये हैं। इसमें न तो एक नो बॉल है और न ही वाइड। पांच अतिरिक्त रन बाई और लेग बाई से बने।

इसके मुकाबले भारतीय टीम ने 45 रन एक्स्ट्रा कोटे से खर्च किये हैं। इसमें 20 नो बॉल, 7 बाई, 17 लेग बाई जबकि एक रन वाइड गेंद से भारतीय गेंदबाजों ने दिया।

फॉलोआन का सवाल –

यदि बाकी बचे भारतीय बल्लेबाज फॉलोआन टालने अनिवार्य 121 रन नहीं बना पाते हैं तो ऐसी स्थिति में भारत के सामने फॉलोआन का खतरा पैदा हो सकता है।

ऐसी स्थिति में अब यह निर्भर है कि कप्तान जो रूट भारत को फिर से बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित करते हैं या फिर इंग्लैंड दूसरी पारी में फिर रनों का पहाड़ खड़ा कर भारत को मुश्किल में डालता है।

हालांकि जैसा पिच का इतिहास है उस लिहाज से इंग्लैंड आगे भारत को फॉलोऑन देने के बजाय दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने भी उतर सकता है।

फॉलोआन की संभावना –

पहले टेस्ट के स्कोरकार्ड को देखकर एक बात साफ हो जाती है कि इंग्लैंड के शीर्ष क्रम से लेकर निचले क्रम तक के बल्लेबाजों ने मैच को टेस्ट के अंदाज में खेला। मतलब ज्यादा देर समय पिच पर बिताया और ज्यादा गेंदें खेली हैं।

भारतीय टीम के मामले में ऐसा नहीं है। तीसरे दिन नाबाद लौटी अश्विन-सुंदर की जोड़ी ने हालांकि तीसरे दिन धैर्यपूर्वक बल्लेबाजी की है। चौथे दिन सब कुछ इनकी साझेदारी पर निर्भर है। क्योंकि इसके बाद शाहबाज नदीम, ईशांत शर्मा और जसप्रीत बुमराह ही बल्लेबाजी करने शेष रह जाते हैं।

फॉलोऑन का नियम –

टेस्ट, प्रथम श्रेणी या एक से ज्यादा दिनों के क्रिकेट मैच में यदि बाद में बल्लेबाजी करने वाली टीम के रनों का कुल योग पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम के टोटल से 200 रन या इससे अधिक रन कम हो तो पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम बाद में बल्लेबाजी करने वाली टीम को फिर से बल्लेबाजी करने कह सकती है।

इस स्थिति को ही क्रिकेट में फॉलोऑन के नाम से जाना जाता है। किसी अंतरराष्ट्रीय टीम के लिए फॉलोऑन खेलना भद्द पिटने वाली स्थिति होती है। चौथे दिन के खेल के दिलचस्प पहलुओं के साथ फिर हाजिर होंगे। कमेंट्स बॉक्स में विचार जाहिर करें ताकि आगामी लेखों को आपकी रुचि के और अनुकूल प्रस्तुत किया जा सके।

डिस्क्लेमर – आर्टिकल स्कोरकार्ड पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co