भारत को 2047 तक फीफा रैंकिंग के शीर्ष चार में पहुंचाना है
भारत को 2047 तक फीफा रैंकिंग के शीर्ष चार में पहुंचाना हैSocial Media

भारत को 2047 तक फीफा रैंकिंग के शीर्ष चार में पहुंचाना है : शाजी प्रभाकरण

अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) के महासचिव शाजी प्रभाकरण ने 'विजन 2047' की घोषणा करते हुए शनिवार को कहा कि वह अगले 25 साल में भारत को फीफा रैंकिंग के शीर्ष चार में पहुंचाना चाहते हैं।

नई दिल्ली। अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) के महासचिव शाजी प्रभाकरण ने 'विजन 2047' की घोषणा करते हुए शनिवार को कहा कि वह अगले 25 साल में भारत को फीफा रैंकिंग के शीर्ष चार में पहुंचाना चाहते हैं। गौरतलब है कि भारत फिलहाल फीफा रैंकिंग में 106वें स्थान पर है। भारतीय फुटबॉल की सूरत बदलने के लिये तैयार किये गये नक्शे ‘विजन 2047’ में राष्ट्रीय टीम, फुटबॉल प्रशासन, बुनियादी ढांचे, महिला फुटबॉल और जमीनी स्तर के फुटबॉल से जुड़ी योजनाएं पेश की गई है।

प्रभाकरण ने यहां संवाददाताओंं को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय टीम को फीफा रैंकिंग के शीर्ष चार में पहुंचाने के अलावा महासंघ ने 2047 तक किसी भारतीय लीग को एशिया की शीर्ष तीन लीगों में से एक बनाने का लक्ष्य रखा है। इसके अलावा वह भारत में फुटबॉल के लिये एक जीवंत माहौल तैयार करना चाहते हैं। प्रभाकरण ने कहा कि एआईएफएफ इस दिशा में काम करते हुए अपने संगठनात्मक ढांचे में व्यापार और वा‌‌णिज्य विभाग जोड़ने जा रहा है। महासंघ के इतिहास में पहली बार शुरू होने वाले इस विभाग का उद्देश्य एआईएफएफ के राजस्व को बढ़ाना और उसे वित्तीय रूप से मजबूत करना होगा। साल 2026 तक व्यापार और वाणिज्य विभाग का लक्ष्य एआईएफएफ के राजस्व को 500 प्रतिशत करना और तीन ‘प्रमुख टेलीविजन सामग्री’ लॉन्च करना होगा।

एआईएफएफ ने बुनियादे ढांचे में सुधार की दिशा में काम करते हुए 2026 तक एक स्मार्ट स्टेडियम और दो फीफा मानक के स्टेडियम बनाने का लक्ष्य रखा है। साथ ही वह 2047 तक फीफा मानक पर खरे उतरने वाले 30 स्टेडियम और 12 स्मार्ट स्टेडियम बनाना चाहते हैं।प्रभाकरण ने बुनियादी ढांचे की योजनाओं पर रोशनी डालते हुए कहा कि महासंघ ने अगले 25 साल में हर जिले में कम से कम 50 फुटबॉल पिच और 50 पेशेवर फुटबॉल क्लबों के लिये उनके अपने ट्रेनिंग स्थल तैयार करने की योजना बनायी है। एआईएफएफ के अध्यक्ष कल्याण चौबे ने इस अवसर पर कहा कि उन्होंने यह नक्शा तैयार करने के लिये भारत के उन क्षेत्रों का दौरा किया, जिन्हें ‘पिछले 85 वर्षों में’ नहीं खंगाला गया। उन्होंने कहा कि भारतीय फुटबॉल को इस समय एक फलसफे की जरूरत है, जिसे बुनियाद बनाकर इन लक्ष्यों को हासिल किया जा सकता है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co