IPL 2021: इस नियम से बढ़ेगा स्पिनर्स का वर्चस्व, फास्ट बॉलर्स पर टेंशन!
सांकेतिक चित्रSyed Dabeer Hussain - RE

IPL 2021: इस नियम से बढ़ेगा स्पिनर्स का वर्चस्व, फास्ट बॉलर्स पर टेंशन!

नौ अप्रैल को शुरू होने वाले आईपीएल के 14वें सीजन का नया नियम एक तरह से तेज गेंदबाजों के लिए गले की हड्डी साबित हो सकता है, हालांकि

हाइलाइट्स –

  • जानिये IPL 2021 का नया नियम

  • स्पिनर्स का क्यों बढ़ जाएगा वर्चस्व

  • फास्ट बॉलर्स पड़ जाएंगे परेशानी में

राज एक्सप्रेस। चंद दिनों बाद 9 अप्रैल को शुरू होने वाले तमाशाई क्रिकेट आईपीएल में अब की बार बहुत कुछ बदला हुआ नजर आने वाला है। जी नहीं कोरोना वायरस के कारण नहीं बल्कि क्रिकेट की बेहतरी के लिए ऐसा किया जा रहा है।

नौ अप्रैल को शुरू होने वाले आईपीएल के 14वें सीजन का नया नियम एक तरह से तेज गेंदबाजों के लिए गले की हड्डी साबित हो सकता है, हालांकि इस नये नियम का लाभ स्पिनर्स को मिलना शत प्रतिशत तय है।

कठोर दंड -

दरअसल मैच को निर्धारित समय पर पूरा करने के लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई/BCCI) की कमाऊ इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल/IPL) में मैच के दौरान देरी करने वाली टीम या खिलाड़ी पर कठोर दंड का नियम लागू किया गया है।

नया नियम क्या कहता है? -

आईपीएल में अब नए नियम के अनुसार इस सीजन में खेलने वाली टीमों को अपने कोटे के निर्धारित 20 ओवर पूरा करने के लिए 90 मिनट का समय मिलेगा। इस 90 मिनट में ही स्ट्रैटजिक टाइम आउट भी शामिल होगा।

90 मिनट मतलब -

गेंदबाजी के दौरान प्रत्येक टीम पर उनको मिले कोटे के 90 मिनट में ही अपने 20 ओवर पूरा करने का दबाव रहेगा। इसका मतलब तेज गेंदबाजों को अपना रन-अप छोटा करना होगा।

मतलब इससे टीमों में स्पिनर की मांग बढ़ सकती है। महज 90 मिनट में 20 ओवर का कोटा पूरा करने के चक्कर में स्पिनर्स पर अतिरिक्त दबाव भी देखने को मिल सकता है।

प्रति ओवर समय -

IPL का नया नियम कहता है कि; फील्डिंग करने वाली टीम को एक घंटे में कम से कम 14.1 ओवर गेंदबाजी करनी होगी। ऐसे में किसी वजह से खेल बाधित होने और 20 ओवरों से कम ओवरों का खेल संभव होने की स्थिति में टीम के पास प्रति ओवर चार मिनट 15 सेकंड का ही समय रहेगा।

टोटल स्टेप्स –

अपने रन-अप पर लगातार काम करने वाले भारत के जसप्रीत बुमराह, रफ्तार के सौदागर इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर और प्रोटीज कागिसो रबाडा जैसे गेंदबाजों के लिए तो कोई बात नहीं; लेकिन लंबे रन-अप वाले गेंदबाजों के लिए आईपीएल का 14वां सीजन कठिनाई भरा हो सकता है।

विकेट लेने की क्षमता के कारण बुमराह महज पांच सेकंड (रन-अप) में बल्लेबाजों को डरा देते हैं।

शोएब अख्तर, भूतपूर्व तेज गेंदबाज, पाकिस्तान, (खेल चैनल से चर्चा के दौरान)

द टाइम्स यूके (The Times UK) के हवाले से जारी ट्वीट में कुछ तेज गेंदबाजों के टोटल स्टेप्स का उल्लेख है इस ट्वीट में देखें-

नये नियम का लाभ -

इस नये नियम के कारण इस आईपीएल में गेंदबाज जानबूझ कर देरी नहीं कर पाएगा। मैदान में बार-बार फील्डिंग की सजावट में वक्त जाया नहीं होगा। बल्लेबाज की लय बिगाड़ने के मकसद से ओवर के बीच गेंदबाज और कप्तान के बीच होने वाली चर्चा पर भी विराम लगेगा।

कहना गलत नहीं होगा कि; महज एक नियम बदलने से तीन घंटे के क्रिकेट मैच के दौरान टीमों के खिलाड़ी रोबोट की तरह प्रदर्शन करते यंत्रवत नजर आएंगे।

हालांकि इसका लाभ यह भी होगा कि फिट खिलाड़ी ही मैदान में दिखेंगे अनफिट खिलाड़ियों का सूपड़ा लगभग साफ हो जाएगा।

ये आराम का मामला नहीं -

अंग्रेजों के ईजाद क्रिकेट को शुरुआती दौर में आराम तलबी का खेल माना जाता था। शुरुआती टेस्ट क्रिकेट में बाद के दौर में कई बदलाव हुए।

आगे चलकर युवाओं को खेल से जोड़ने के लिए 70 के दशक में एक दिवसीय क्रिकेट मैच की शुरुआत हुई। आज के प्रतिस्पर्धा भरे व्यस्ततम युग में अधिक से अधिक लोगों को क्रिकेट के रोमांच से जोड़ने के लिए बाद में इंग्लैंड में टी-20 क्रिकेट की शुरुआत हुई।

बदला क्रिकेट का ककहरा -

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने अमेरिकी बॉस्केटबॉल लीग एनबीए की तर्ज पर साल 2008 में जब इंडियन प्रीमियर लीग की शुरुआत की तो क्रिकेट का ककहरा पूरी तरह से बदल गया।

भारत में टीवी धारावाहिकों की लोकप्रियता को टक्कर देने वाली इस लीग की सफलता इस बात की गवाह है कि लीग के आयोजन के दौरान कई नए कार्यक्रमों और फिल्मों तक की रिलीज डेट को तक आगे बढ़ा दिया जाता है।

पेसर्स को टेंशन -

निर्धारित 90 मिनट के कोटे में 20 ओवर पूरा करने की चुनौती को पूरा करने के लिए कप्तान टीम के तेज गेंदबाजों को ओवर जल्द से जल्द पूरा करने के लिए कह सकते हैं।

गणित क्या कहता है? -

गणित के अनुसार एक मान से गेंदबाजों के पास चार मिनट के भीतर अपना ओवर समाप्त करने की चुनौती होगी। ऐसे में सबसे ज्यादा दिक्कत उन गेंदबाजों को होने वाली है जो लंबे रन-अप के साथ गेंदबाजी करते हैं।

इस चक्कर में पेस बॉलर का ध्यान गेंद की तेजी के बजाय जल्द से जल्द ओवर खत्म करने पर केंद्रित रहेगा। जिसका लाभ बल्लेबाज को मिलना तय है।

बल्लेबाजों की चांदी -

तेज गेंदबाजों के लिए मददगार पिचों पर जहां तेज गेंदबाज अपनी काबलियत का फायदा पूरी तरह नहीं उठा पाएंगे वहीं स्पिनर्स की गेंदों की धुनाई भी हो सकती है।

मतलब साफ है कि निर्धारित समय काल में बंधे नये नियम के कारण तेज गेंदबाज जहां जूझते नजर आएंगे वहीं बल्लेबाज डबल प्रॉफिट में रहेंगे।

नतीजा यह होगा -

आईपीएल ही नहीं बल्कि नये नियम का असर अब फटाफट क्रिकेट के किसी भी मैच में देखने को मिलेगा। नतीजतन ऐसे में दर्शकों को अब अधिक से अधिक बाउंड्री शॉट्स का लुत्फ मिलना भी तय है।

कब कितना जुर्माना? -

निर्धारित 90 मिनट में 20 ओवर पूरा न कर पाने वाली टीम के कप्तान पर 12 लाख से लेकर 30 लाख रुपयों तक का जुर्माना लग सकता है। इसके अलावा कप्तान को एक मैच के लिए निलंबित भी किया जा सकता है। कुल तीन गलतियों में वर्गीकृत यह नियम कुछ इस तरह लागू होगा।

पहला जुर्माना - निर्धारित 90 मिनट में 20 ओवर पूरा न कर पाने वाली टीम के कप्तान की पहली गलती पर नियमानुसार 12 लाख रुपये का जुर्माना लगेगा।

दूसरा जुर्माना – पहली गलती करने वाला संबंधित कप्तान यदि यही गलती सीजन में फिर दोहराता है तो उस पर 24 लाख रुपयों का जुर्माना लगेगा जबकि टीम के बाकी खिलाड़ी भी दंड के भागी होंगे।

इस स्थिति में कप्तान के टीम में साथी खिलाड़ियों पर मैच फीस का 25 फीसद या फिर छह लाख रुपयों में से जो भी कम हो का जुर्माना लागू होगा।

तीसरा जुर्माना – तीसरी बार की गई गलती और फिर इसके बाद की गई हर (चौथी-पांचवी) गलती पर कप्तान पर 30 लाख रुपयों का जुर्माना तो लगेगा ही साथ ही दोषी कप्तान को एक मैच के लिए निलंबित किया जा सकता है।

साथ ही टीम के अन्य खिलाड़ियों को मैच फीस का 50 फीसद या फिर 12 लाख रुपयों में से जो कम हो का जुर्माना भरना होगा।

बचने का रास्ता नहीं –

दो गलतियां कर चुका कोई कप्तान यदि तीसरी गलती और निर्धारित एक मैच के निलंबन से बचने के लिए टीम की कप्तानी छोड़ता है; तो भी कप्तान पर टीम मैनेजमेंट जब तक बीसीसीआई को इस बारे में लिखित जानकारी प्रदान नहीं कर देता तब तक पाबंदी लागू रहेगी।

डिस्क्लेमर – आर्टिकल प्रचलित स्पोर्ट्स रिपोर्ट्स पर आधारित है। इसमें शीर्षक-उप शीर्षक और संबंधित अतिरिक्त प्रचलित जानकारी जोड़ी गई हैं। इस आर्टिकल में प्रकाशित तथ्यों की जिम्मेदारी राज एक्सप्रेस की नहीं होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co